जय मम्मी दी रिव्यु :इस बार भी लव रंजन दर्शकों की उम्मीदों पर खरे उतरें हैं

1 min


0
Jai mummy di review, Jai mummy di ratings

लव रंजन कोई फिल्म बनाये तो फिल्म से एक उम्मीद बढ़ जाती है। कहना पड़ेगा इस बार भी लव रंजन दर्शकों की उम्मीदों पर खरे उतरें हैं। जय मम्मी दी एक फॅमिली एंटरटेनर फिल्म है, फिल्म के कई दृश्य आपको गुदगुदाकर हंसाएंगे

कहानी

पुनीत सिंह (सनी सिंह) और साँझ (सोनाली सेहगल) एक दुसरे से प्यार करते हैं। कॉलेज ख़तम होने के बाद सांझ पुनीत से शादी करने के लिए कहती हैं , लेकिन पुनीत पीछे हट जाते हैं क्योंकि पुनीत और सांझ दोनों ही अपने आप में किसी हिटलर से कम नहीं है और एक दुसरे की पुरानी दुश्मन है। उनकी दुश्मनी की वजह फिल्म के अंत में दिखाई जाती है। अब कुछ समय बाद पुनीत को एहसास होता है और वो सांझ से शादी करना चाहता है ,लेकिन तब तक सांझ और पुनीत दोनों की ही शादी अलग अलग जगह पर तय कर दी जाती है। अब पुनीत और सांझ अपनी अपनी शादी तोड़ने और एक दुसरे से शादी करने के लिए कई तरह के प्लान बनाते हैं और अंत में कामयाब भी हो जाते हैं।

अवलोकन

फिल्म को शानदार तरह से पेश किया गया है। फिल्म आपको हंसने पर मजबूर कर देती है और पूरी तरह से पैसा वसूल है। दोनों मम्मियों की दुश्मनी कब और क्यों शुरू हुई थी, अंत में ये सीन देखकर आपको मज़ा आ जायेगा और अंत में आपको प्यार का पंचनामा की कास्ट देखने को मिलती है। ख़ैर ये तो आपको फिल्म देखकर ही पता करना पड़ेगा की अंत के सीन में ऐसी क्या ख़ास बात है।

एक्टिंग

फिल्म में सनी सिंह की काफी दमदार एक्टिंग देखने को मिलती है , हाँ कुछ साइड एक्टर्स के किरदार अपने रोल्स में और जान डाल सकते थे। सोनाली सेहगल अपने रोल को और बेहतर बना सकती थी , उनकी एक्टिंग स्किल्स इस फिल्म में थोड़ी कमज़ोर नजर आती है।

क्यों देखें

फिल्म एक फॅमिली एंटरटेनर फिल्म है जो आपको आपके परिवार के साथ गुदगुदाने में कोई कसर नहीं छोड़ेगी।


Mayapuri