जी कर मरने वाला शो मैन

1 min


0

rajkapoor and

rajkapoor

(मायापुरी अंक 3,1974)

कुदरत ने बॉबी के द्धारा राजकपूर को नया जीवन तो दे दिया किन्तु उससे निर्णय करने की शक्ति छीन ली है। बॉबी की सफलता के एक साल बाद भी वह अभी तक दूसरी फिल्म शुरू नही कर सका। नौ महीने के बाद केवल वह फिल्म का शीर्षक हिना ही दे सका है। उसमें भी पहले ऋषिकपूर हीरो था। डब्बू को दे दी गई है। किन्तु नायिका के लिए अभी तक लड़की क चुनाव नही हो सका है। राजकपूर नई लड़की लेने के बहाने प्रतिदिन नई से नई लड़की का इन्टरव्यू करता है। लड़कियों डिम्पल बनने के चक्कर में राजकपूर को घेरे रहती है और राजकपूर कन्हैया बना बांसुरी बजाया करता है। किसी को नही पता कि उसकी फिल्म कब शुरू होगी।


Mayapuri