साक़िब सलीम की वेब सीरिज़ ,” क्रैकडाउन” जो सभी को बेहद पसंद आ रही है

1 min


क्रैकडाउन

हाल ही में साक़िब सलीम की वेब सीरिज़ ,” क्रैकडाउन” वूट पलटफोर्म पर रिलीज़ हुई है ,जो सभी को बेहद पसंद आ रही है । साक़िब इस समय अपने दूसरे वेब शो का भी इंतज़ार कर रहे है जिसका टाइटल ,” कॉमेडी कपल ” है। यह शो साकिब के दिल के बेहद करीब है और वो इस वेब सीरीज के रिलीज़ का इंतज़ार कर रहे है। और इसके अलावा उनकी फिल्म,”८३” है।

इस फिल्म का सभी को बेताबी से इंतजार है। फिल्म ८३” रणवीर सिंह स्टार्रर फिल्म – निर्देशक कबीर खान है. क्रिकेट पर आधारित भारतीय क्रिकेटर की वर्ल्ड कप जीतने की की कहानी है।८३” बन कर कम्पलीट पड़ी हुई है। साकिब को इस फिल्म के रिलीज़ का इंतजार है,” जी हाँ मैंने फिल्म की डबिंग करते हुये थोड़ी सी फिल्म देखि हुई है। इसमें मैंने मोहिंदर अमरनाथ का किरदार निभाया है। बस इंतज़ार है अब सभी के साथ यह फिल्म देखना शायद अब यह फिल्म दिसंबर तक रिलीज़ हो। “

साकिब सलीम ने रिहा चक्रबोर्ती के साथ ,” मेरे डैड की मारुती ” में भी काम किया था ,सो उन्होंने खुल कर यह कहा है ,” रिहा मेरी दोस्त है और में उन्हें सपोर्ट करता हूँ। “

आपको बतला दें रिहा चक्रबोर्ती दिवंगत एक्टर शुशांत सिंह राजपूत के सुसाइड/मर्डर/ड्रग्स केस में कथित तौर से आरोपी है, अतः लगभग १४ दिवस की जेल कस्टडी में रह कर हाल ही में उनके वकील सतीश मानशिंदे ने बैल एप्लीकेशन कोर्ट में दायर की है जिसकी सुनवाई होनी बाकि है।

साकिब सलीम

साकिब सलीम ने जो कुछ फिलहाल चल रहा है उसपर टिप्पणी खुल कर की है –

आजकल बॉलीवुड में जो कुछ चल रहा है ,खासकर आपकी को आर्टिस्ट रिहा चक्रबोर्ती के बारे में क्या कहना चाहते है आप?

इस बारे बोलूं मैं ? मुझे यही कहना है बस, कि मुझे जुडिशरी पर पूर्ण विश्वास है।जो भी निर्णय-एन सी बी , इ डी ,सी बी आई और आदरनिये कोर्ट द्वारा लिया जायेगा वह सही होगा।

कुछ सोच कर आगे बोले,” आज जो कुछ उनका परिवार झेल रहा है इस बारे में सोचिये। रिहा मेरी दोस्त है और मैं जब कभी भी हो उन्हें हमेशा ही सपोर्ट करूँगा।

इस पुरे मौहोल पर आपको क्या कहना है ?

बस यही कहना है ,मुझे यह सब ऐसा लग रहा है, जैसे किसी जुड़ैल का शिकार[witch-hunt] मीडिया द्वारा किया जा रहा है,यह बिलकुल भी सही नहीं है। मुझे ऐसा लगने लगा है जिस देश में हम रह रहे है -यहाँ पर स्त्री का आदर नहीं हो रहा है। शायद जिस तरह से हमें महिला की रिस्पेक्ट करनी चाहिए वो हम नहीं कर पा रहे है।

साकिब यही नहीं रुके आगे बोले,” जब में एक छोटा बच्चा था तब से मुझे यही बताया गया ,” कोई भी इनोसेंट है जब तक वह गिलटी साबित न हो.[ दोष साबित होने तक वो मासूम है]किंतु मीडिया ने तो जैसे रिहा को टेररिस्ट बन दिया है। यह सब देख कर मेरा दिल दुखी होता है। बस यही कह सकता हूँ बड़े बड़े जानकार लोग इस केस की तहकीकात कर रहे है।और उनका जो भी निर्णय होगा वही सही माना जायेगा। बस हमें इसका इंतज़ार करना चाहिए।

इसके अलावा और क्या चाहेंगे चाहेंगे अपनी दोस्त रिहा पर ?

बतौर दोस्त चाहूँगा यदि वर्डिक्ट रिहा के फेवर में आया तो मीडिया ट्रायल जो चल रहा है , वो गलत , क्या वो सभी माफ़ी माँगेगे? यही फिलहाल। बस यही चाहूँगा सभी जस्टिस मिले। शुशांत को जस्टिस मिले ।

बॉलीवुड के लोग सॉफ्ट टारगेट है ऐसा आप मानते है ?

बिलकुल मैं इस बात से पूर्णतः सहमत हूँ। जब हम बोलते नहीं है तो बोला जाता इनके बास रिड की हड्डी नहीं है नहीं है। और जब हम बोलते है तो हमें गालियां दी जाती है। हमे सोशल मीडिया पर ट्रोल किया जाता है।

हम अभिनेता है अभिनेता है आप हमारे काम की सराहना की जिये या उसकी आलोचना की जिये यह हमें मंज़ूर होगा। हमें दुनिया का बुद्धिमान व्यक्ति नहीं बनना है। हमे हमारे से पहचान मिले यही चाहिए। साइबर बुलइंग बंद करनी चाहिए। हमे इस पर कुछ करना चाहिए।


Like it? Share with your friends!

Mayapuri

अपने दोस्तों के साथ शेयर कीजिये