रानी ‘पद्मावती’ के बारें में 10 ऐसी बातें, जो आप नही जानतें होंगे

1 min


पद्मावती 13 से 14 शताब्दी में मेडपाटा साम्राज्य की एक महान भारतीय रानी थी  इने पद्मिनी के नाम से भी जाना जाता है रानी पद्मावती चित्तौड़ की रानी थी जो की अपनी सुंदरता की वजह से पूरे देश मे मशहुर थी वह रावल रतन सिंह की दूसरी पत्नी और समकालीन सिंघाल राजा गंधर्वसेन की बेटी थी

रानी पद्मिनी के बारे में कुछ बातें

पद्मिनी ने अपना पूरा जीवन सिंहल में अपने पिता गंर्धसेन और मां चंपावती की देखभाल सेवा मे बिता दिया। उनकी सुंदरता, चतुराई और बहादुरी की किस्से हर जगह प्रसिद्ध थे पर फिर भी उन्हे इन कहानियों से अपने जीवन में कुछ भी नहीं मिला

1.कल्पनिक कथा या कुछ और

क्या रानी पद्मावती की कहानी काल्पनिक या वास्तविक हैं। ऐसे कई मुद्दो पर काफी बार बहस हो चुकी है। और कई इतिहासकारों का कहना है। कि पद्मावती सिर्फ एक काल्पनिक कथा है। क्योंकि इसका कोई विश्वसनीय प्रमाण नहीं है और कहते है कि राजपूत रानी कवि की काल्पनिकता का एक हिस्सा थी जिसे ‘पद्मावत’ मुहम्मद जायसी द्वारा लिखी गई थी। यह उनका पहला उल्लेख था। और उनका यही आंकड़ा अब एक ऐतिहासिक आंकड़ा बन गया है

2. श्रीलंका की एक राजकुमारी

श्रीलंका के साम्राज्य सिंघाल की राजकुमारी पद्मावती थी पद्मावत की कविता में बताया गया है की पद्मिनी सिंहला-द्वीप नामक राज्य की राजकुमारी है जो कि अब श्रीलंका का द्वीप है।  

3.एक बात करने वाला तोते – हिरा-मणि

लेखक जायसी कहते हैं पद्मावती के पास एक पालतू तोता था, जो उनका सबसे करीबी दोस्त था। उस तोते का नाम हिरामणी था। वह राजकुमारी के सबसे करीबी विश्वासियों में से एक था। लेकिन उसके पिता जो पक्षियों को नापसंद करते थे, उन्होने उसे मारने का आदेश दे दिया था लेकिन पक्षी उडकर अपने जीवन को बचाने में सफल रहा। लेकिन एक पक्षी पकड़ने वाले ने उसे पकड़ लिया। और उसे एक ब्राह्मण को बेच दिया। एक बार ब्राह्मण पक्षी को चितौड़ लेकर आया। तो राजा रतन सिंह को उस तोते की बात करने की क्षमता ने बहुत प्रभावित किया। और उन्होंने उसे खरीद लिया। राजा के सामने तोते ने अपनी पूर्व रानी पद्मावती की सुंदरता की लगातार प्रशंसा की। जिससे राजा ने ठान लिया कि वह उसी राजकुमारी से शादी करेंगे। और उनकी खोज करने लगे

4.रानी पद्मावती एक कुशल योद्धा थी

यह कोई आश्चर्य की बात नही है कि पद्मावती एक प्रशिक्षित सेनानी और बहादुर योद्धा भी थी। उन्हें युद्ध की रणनीति में कौशल शिक्षा के साथ लाया गया था। उनके विवाह के लिए एक स्वयंवर का आयोजन किया गया था,। जहां कई राजाओं और राजकुमारों ने अपने भाग लिया था। हालांकि, यह एक सरल स्वयंवर नहीं था। राजकुमारी पद्मिनी की शर्त थी। की वह खुद तलवार से लड़ाई करेगी और खुद अपने वर को निर्धारित करेगी। उन्होने चित्तौड़ के राजा रावल रतन सिंह से लड़ी और हार गईं और अपनी शर्त के अनुसार उनसे शादी करनी पडी।

5. बेहद खूबसूरत

पद्मावती को अपनी सुंदरता के लिए सबसे ज्यादा जाना जाता था। इसलिए हीरामणी द्वारा बताए गए रानी पद्मावती के सौंदर्य को जानने के बाद राजा रतन सिंह नें उनसें तुरंत विवाह कर लिया था। वहीं इसके अलावा अलाउद्दीन खिलजी सिर्फ रानी पद्मावती के प्रतिबिंम्ब को देखते ही मंत्रमुग्ध और मोहित हो गए बांद में उन्होने उन्हे हासिल करने के लिए किले पर हमला कर दिया था।

6.पद्मावती की परछाई

रतन सिंह ने धोखाधड़ी की वजह से राघव चेतन नाम के एक ब्राह्मण, दरबारी को राज्य से भगा दिया था। बाद में, राघव चेतन दिल्ली के सुल्तान अलाउद्दीन खिलजी की अदालत में गया और उन्होंने उन्हें पद्मावती की सुंदरता कें बारे में बताया। जब अलाउद्दीन खिलजी को रानी पद्मावती के बारे में पता चला की वह चित्तौड़ की सबसे सुंदर रानी है, तो उन्होंने उसे हसिल करने के लिए चित्तौड़ पर हमला किया।हालांकि, चित्तौड़ पहुंचने पर, अलाउद्दीन ने किले को भारी रक्षा में पाया। पद्मावती की सुंदरता को देखने के लिए उन्होंने राजा रावल रतन सिंह को एक संदेश भेजा कि वह दिल्ली वापस चले जाएंगे अगर खलजी अपनी रानी पद्मावती के चेहरे की झलक दिखा सकते हैं तो ।  इसलिए, शांति बनाए रखने और जीवन की हानि से बचने के लिए, रावल रतन सिंह ने अपने सलाहकारों से विचार विर्मश किया। और खिलजी को दर्पण में पद्मावती की परछाई को देखने के लिए मान गए और खिलजी ने अपने अंगरक्षकों के साथ किले में प्रवेश किया और शीशे में उसे देखने के बाद लौट गाया। लेकिन अलाउद्दीन ने रतन सिंह के साथ शांति संधि की, और धोखेबाजी से रतन सिंह को पकड़ा और उसे दिल्ली ले गए

7 .रानी पद्मावती के भाई की परछाई में 

राजपूत संस्करणों में, कहानी  थोड़ी अलग है वे कहते हैं कि उस प्रतिबिंब में रानी नहीं थी, बल्कि एक साड़ी में उसका भाई था। राजपूत राजाओं में अपनी पत्नी किसी और को दिखाना बहुत शर्मनाक माना जाता था इसलिए उन्होंने रानी के भाई को साड़ी मे छिपाने का फैसला किया जो एक महिला के रूप में उनके जैसा दिखे। लेकिन फिर भी, इसके समर्थन के लिए इसके कम सबूत हैं और अन्य सभी संस्करणों का कहना है कि यह पद्मावती खुद थी और प्रतिबिंब में उसका भाई नहीं था

8. बुद्धिमान और स्मार्ट

रानी पद्मावती चतुराई और दिमाग के साथ ही सारे काम करती थी। जब खिलजी ने राणा को बंधक बना लिया, तो उसने पद्मावती से अपने पति के जीवन की बदले में रानी से आत्मसमर्पण की मांग की,
लेकिन रानी बेहद दिमाग वाली थी उन्होंने पालकी में दासियो के भेष में 700 सैनिक को भेजा जिसमें गोरा और बादल उनके खास और वफदार सैनिक थे जिन्होंने रतन सिंह को चित्तौड़ सुरक्षित वापस पहुंचाने के लिए अपनी जान भी गंवा दी।

9. स्वयं बंधी – जौहर

जब रतन सिंह दिल्ली मे कैद थे तो , कुंभ्हनेर के राजपूत राजा देवपाल ने पद्मिनी को शादी का प्रस्ताव दिया। और जब रतन सिंह वापस चित्तौड़ लौट आए, तो उन्होंने यह खबर सुनी और देवपाल से लड़ाई की जिसमें देवपाल और रतन सिंह नें एक दूसरे को मार दिया। रतन सिंह की मृत्यु के बाद, एक बार फिर, अल्लाउद्दीन ने इस बात का फायदा उठाते हुए रानी पद्मावती को प्राप्त करने के लिए चित्तौड़ पर दुबारा  आक्रमण किया। लेकिन सौ अन्य राजपूत महिलाओं के साथ रानी पद्मावती ने जौहर के आत्म-बलिदान की राजपूत रीति रिवाज निभाये। प्राचीन समय में महिलाओं को दुश्मन द्वारा बलात्कार या कारावास से बचाने  के लिए ऐसा करने के का निर्णय लिया जाता था। यह एक विशाल बलिदान और सच्चे राजपूत बहादुरी का प्रतीक है और रानी पद्मावती राजपूत महिला द्वारा महिलाओं की शक्ति का प्रतीक है।

10. चीखें

ऐसा कहा जाता है कि पद्मावती और अन्य महिलाएं अपने पुरुषों के लिए आग में कूद गई थी और उनकी बहादुरी की प्रशंसा की जौहर कुंड में कूदने वाली पहली रानी पद्मावती थी। पूरे महल उनके द्वारा प्रतिध्वनित किया गया था। जब खिलजी, जीतने के बाद, किले में आए, तो किले मे आग और रोने की आवाज हर जगह गूंज रही थी। जब पद्मावती को जौहर कुंड से बाहर निकला जा रहा था इसे देख खिलजी इतने क्रेधित हुए की उन्होनें सुरंग के मार्ग को स्थायी रूप से बंद करने का आदेश दिया। लेकिन उनकी स्मृति को अब तक जीवित रखा गया है जिन्होंने उनके बलिदान की कहानी को अमर कर दिया। कुछ सौ साल पहले, चित्तौड़ के तत्कालीन राजा ने इस बहाली को फिर से खोला और इन बहादुर महिलाओं को सम्मानित किया ।


➡ मायापुरी की लेटेस्ट ख़बरों को इंग्लिश में पढ़ने के लिए  www.bollyy.com पर क्लिक करें.
➡ अगर आप विडियो देखना ज्यादा पसंद करते हैं तो आप हमारे यूट्यूब चैनल Mayapuri Cut पर जा सकते हैं.
➡ आप हमसे जुड़ने के लिए हमारे पेज Facebook, Twitter और Instagram पर जा सकते हैं.

                  


Like it? Share with your friends!

Chhaya Sharma

अपने दोस्तों के साथ शेयर कीजिये