शहीद भगत सिंह जी के नाम पर बनी वो 7 फ़िल्में जिन्होंने इतिहास को अमर कर दिया

1 min


7 films made in the name of Shaheed Bhagat Singh who immortalize history

हमारे बॉलीवुड के इतिहास में शहीद भगत सिंह जी को लेकर बहुत सी फिल्में बनी है, जिन्हें दर्शको ने बहुत पसंद भी किया है, प्रेम अबीद, शम्मी कपूर, मनोज कुमार, सोनू सूद, अजय देवगन, बोबी देओल और आमिर खान जिन्होंने इनका रोल बखूबी से अदा किया है, यहाँ वो लिस्ट वो फिल्मों की लिस्ट है जो शहीद भगत सिंह जी को लेकर बनी है.

Shaheed-e-Azad Bhagat Singh (1954) 

7 films made in the name of Shaheed Bhagat Singh who immortalize history

Shaheed Bhagat Singh (1963) 

7 films made in the name of Shaheed Bhagat Singh who immortalize history

Shaheed (1965) 

7 films made in the name of Shaheed Bhagat Singh who immortalize history

Shaheed-E-Azam(2002) 

7 films made in the name of Shaheed Bhagat Singh who immortalize history

The Legend of Bhagat Singh (2002) 

7 films made in the name of Shaheed Bhagat Singh who immortalize history

23rd March 1931: Shaheed (2002) 

7 films made in the name of Shaheed Bhagat Singh who immortalize history

Rang De Basanti (2006) 

7 films made in the name of Shaheed Bhagat Singh who immortalize history

क्या है शहीद भगत सिंह जी  कहानी

शहीद भगत सिंह जी का जन्म 28 सितम्बर 1907 को शनिवार के दिन सवेरे 9 बजकर 19 मिनट पर हुआ था उसी दिन पिताजी व चाचा जी जेल से छूट कर आये थे तो भगतसिंह जी का नाम रखा था भागों वाला बच्चे के गले पर तिल का निशान था जिसके बारे में किसी पण्डित ने दादी जय कौर जी को बताया कि इस बच्चे के गले में तो नौ लखा हार है इसकी किस्मत में लिखा है इसका नाम सारी दुनिया में होगा भागों वाला को दुनिया सदा सदा के लिए याद करेगी और वह बात सच भी निकली आज भगतसिंह जी का नाम सारी दुनिया में प्रसिद्ध है

शहीद भगतसिंह के बारे बहुत कम लोग जानते हैं कि बहुत ही कोमल ह्रदय वाले थे जरा सी दुख भरी कहानी सुनकर भी भगतसिंह जी रोने लग जाते थे लेकिन इन्कलाब जिन्दाबाद साम्राज्यवाद मुर्दाबाद का नारा देने वाले भगतसिंह जी ने आजादी से 18 वर्ष पहले ही बता दिया था कि यह आजादी केवल पूंजी पतियों की आजादी होगी गरीब किसान व मजदूर और अधिक पिसेगा वे चाहते थे ऐसी आजादी हो जिसमें आदमी के द्वारा आदमी का शोषण ना हो सबको बराबर का अधिकार हो आज मैं सभी देशवासियों की तरफ से दोनों हाथ जोड़कर शहीद भगतसिंह जी को शत शत नमन करता हूं वन्दे मातरम् जय हिंद जय भारत इन्कलाब जिन्दाबाद

अपने देश की आजादी के लिए हंसते हंसते फांसी का फंदा चूमने वाले भारत माता के सच्चे सपूत अमर बलिदानी को उनकी माताजी श्रीमती विद्या वती जी को व उनके पिताजी अमर शहीद सरदार किशन सिंह जी समस्त भारत वासियों की तरफ से दोनों हाथ जोड़कर शत शत नमन वन्दे मातरम् जय हिंद जय भारत


Like it? Share with your friends!

Mayapuri

अपने दोस्तों के साथ शेयर कीजिये