79 साल के फ़िल्म निर्माता कमल आनंद ने कोरोना को हराया

1 min


चीन की शैतानियों पर बनने वाली फिल्म के लिए लोकेशन देखने गोवा गए निर्माता को कोरोना

चीन की शैतानियों के खिलाफ बनने वाली अपनी फिल्म हिम मानव वर्सेज ड्रैगन का लोकेशन देखने मुम्बई से गोवा गए 79 साल के फ़िल्म निर्माता कमल आनंद खुद कोरोना की चपेट में आ गये। इस फ़िल्म निर्माता ने गोवा की चिकित्सकीय टीम की मदद से सिर्फ पांच दिन में  कोरोना को हराया। इससे पहले उन्होंने जानी मानी कंपनी वोडाफोन को गलत कॉल रेट लगाने पर उपभोक्ता न्यायालय में हराया था और वोडाफोन को पांच साल तक चली लंबी लड़ाई में कमल आनंद को 65 हजार रुपये हर्जाना देना पड़ा था।

बताते हैं कि फ़िल्म निर्माता कमल आनंद अपनी फिल्म हिम मानव वर्सेज ड्रैगन का लोकेशन देखने 10 जुलाई को इंडिगो की फ्लाइट से मुम्बई से गोवा गए थे।उन्हें 14 जुलाई को आरोग्य सेतु एप ने  कोविड के खतरे का पहला संकेत दिया और बताया कि आप में संक्रमण का जोखिम उच्च है ।आप हाल में ही किसी संक्रमित व्यक्ति के संपर्क में आये हैं इसलिए आपको सलाह दी जाती है कि आप तुरंत किसी हेल्थ सेंटर या सरकारी अस्पताल में जाएं तथा कोविड 19 का परीक्षण कराएं ।

15 जुलाई को गोवा में ही उन्हें रात को आरोग्य सेतु एप ने दूसरी बार ख़तरे का संकेत देते हुए  पास के स्वास्थ्य केंद्र या सरकारी अस्पताल में जाने की सलाह दी ।वे 16 जुलाई को गोवा के मेडिकल कालेज में गये तो वहां कोरोना का कोई लक्षण नहीं नजर आने पर उनका मेडिकल कॉलेज ने परीक्षण करने से इनकार कर दिया और उन्हें घर पर रहने की सलाह दी।मेडिकल कॉलेज के चिकित्सकों ने आरोग्य सेतु एप पर आई चेतावनी को भी देखने से मना कर दिया।और कहा कि जब आपको कोई परेशानी होगी तब आइयेगा।

दोस्तों और अपने चिकित्सक मित्रों की सलाह पर उन्होंने गरम पानी,काढ़ा और अदरक का सेवन शुरू किया तथा भाप लिया तथा गरम पानी से गरारा किया।अगले तीन दिन गोवा में जनता कर्फ्यू लगा था।18 जुलाई को कमल आनंद को सांस लेने में दिक्कत होने लगी।वे खुली हवा में गए और लंबी लंबी सांस लेने लगे।और तीन ग्लास गर्म पानी पिया तथा गरारा किया।थोड़ा आराम हुआ मगर 19 जुलाई की रात दो बजे फिर उन्हें सांस लेने की फिर परेशानी होने लगी। इस वृद्ध निर्माता ने हिम्मत नहीं हारी।उन्होंने रात तीन बजे आरोग्य सेतु एप में देखकर हेल्पलाइन को फोन किया।वहाँ से बताया गया कि आपके पास एम्बुलेंस पहुंच जाएगी।आप नजदीकी अस्पताल में जाइये।एक घंटे में एम्बुलेंस आ गयी। कमल आनंद गोवा के मेडिकल कॉलेज पंहुंचे जहां उन्हें इमरजेंसी वार्ड में लाया गया जहां ड्यूटी पर तैनात महिला चिकित्सक ने उनका परीक्षण शुरू किया। इस वृद्ध निर्माता का ईसीजी,एक्सरे,ब्लडप्रेसर तथा अन्य जांच की गई।

कमल आनंद कहते हैं गोवा में मेरा एक पैसा नहीं लगा।सबने सेवा भाव से काम किया जिसके लिए मैं पूरी चिकित्सकीय टीम का आभारी हूँ। 20 जुलाई को उनका कोविड टेस्ट किया गया।  रात उनको अच्छी नींद लगी।उसके बाद उनकी रिपोर्ट आई तो वे निगेटिव पाए गए।कमल आनंद कहते हैं आज भी गर्म पानी और काढा लेता हूं। वे कहते हैं मैं अपनी फिल्म हिममानव वर्सेज ड्रैगन का लोकेशन देखने गोवा गया था जो चीन की शैतानियों पर आधारित है मगर मुझे बिलकुल अंदाजा नहीं था कि मैं खुद कोविड की चपेट में आ जाऊँगा।ये फ़िल्म के फोर फिल्म्स के बैनर तले बनेगी जिसमे ज्यादातर लोग गोवा के ही होंगे।इस फ़िल्म को 26 जनवरी को प्रदर्शित करने की उनकी योजना है। फिलहाल वे पूरी तरह स्वस्थ्य हैं।वे मुम्बई जुहू इलाके में रहते हैं।वे कहते हैं मेरी फिल्म एनिमेशन फ़िल्म होगी जिसमें मुम्बई से गोवा जाकर बस चुके राष्ट्रीय पुरस्कार तथा फ़िल्म फेयर पुरस्कार विजेता ध्वनि निर्देशक कुनाल शर्मा को विशेष सलाहकार नियुक्त किया गया है जो निशुल्क अपनी सेवा देंगे।

शांति स्वरूप त्रिपाठी


Like it? Share with your friends!

अपने दोस्तों के साथ शेयर कीजिये