Advertisement

Advertisement

योग्य बेटे द्वारा पिता को श्रद्धांजलि- अली पीटर जॉन

0 10

Advertisement

(अमिताभ बच्चन ने बलराज साहनी की जीवनी का अनावरण किया जो कि उनके बेटे परीक्षित साहनी द्वारा लिखी गई है)
पिछले 50 सालों में मैं बहुत सी घटनाओं का हिस्सा रहा हूँ। मैंने कभी सपने में भी नहीं सोचा था कि मैं महान लोगों के जीवन का हिस्सा बनूँगा और उनसे मेरी मुलाकात और बातचीत होगी। मैं हमेशा भगवान से शुक्रिया अदा करता हूँ कि उन्होंने मुझे इस काबिल बनाया कि मैं बहुत से लोगों को जीवन में उनकी मदद कर सकूँ।

मैं अजय साहनी (परीक्षित साहनी का मूल नाम था) को जानता था जो कि सबसे बड़े भारतीय अभिनेताओं में से एक, बलराज साहनी के एकमात्र पुत्र हैं, जो खुद में एक संस्कारी व्यक्ति और एक संस्था। अजय साहनी ने मॉस्को के सर्वश्रेष्ठ फिल्म स्कूलों में से एक में निर्देशन और संपादन का अध्ययन किया और फिर फिल्मों में अपनी प्रतिभा को आजमाने के लिए वापस आए।

मैं अपने जीवन में घटित चीजों के बारे में अपने पुराने दोस्त परीक्षित साहनी के साथ बैठकर बातें कर रहा था। हम दोनों, हिंदी सिनेमा में इतने सालों में कितना कुछ बदल गया है इस बारे में बात कर रहे थे तभी मेरे दिमाग में एक विचार आया। मैं जानता था कि परीक्षित एक बहुत अच्छे लेखक हैं जिन्होंने अंग्रेजी में ‘द बिच’ नाम की एक लघु कथा लिखी थी जो 70 के दशक की मशहूर मैगजीन ‘द इलस्ट्रेटेड वीकली ऑफ इंडिया’ में छपी थी। परीक्षित ने मेरे कहने पर संजीव कुमार पर भी श्रद्धांजलि के रूप में एक रचना लिखी थी। संजीव कुमार परीक्षित के बहुत करीबी दोस्त और उनके पहले सह – कलाकार थे।

A WORTHY SON PAYS A RICH TRIBUTE TO HIS FATHER

लेकिन, इससे पहले कि उन्हें निर्देशक या संपादक के रूप में ब्रेक मिल पाता, उन्हें एक अभिनेता के रूप में काम मिलना शुरू हो गया था और भले ही वह शुरुआती दौर में बहुत सहज नहीं थे, लेकिन उन्होंने जल्द ही अपनी पहचान बना ली और एक अभिनेता के रूप में पहचाने जाने लगे। उन्हें एक ऐसे अभिनेता के रूप में पहचाना गया, जो किरदारों को गहराई से निभा सकते है। मैं अभी उनके करियर के विवरण में नहीं जाऊंगा, लेकिन मैं सही समय पर इस पर बात करूँगा।

यह पिछले साल के आसपास ही था जब हम लंबे समय के बाद मिले थे और ऐसे समय में जब लगभग हर हफ्ते आत्मकथाएँ आ रही थीं, मैंने परीक्षित से पूछा कि वह अपने पिता पर एक किताब क्यों नहीं लिख रहे जबकि वह उन्हें जानते थे। फिर, वह एक अनिच्छुक लेखक थे और मुझे नहीं पता कि मैं उन्हें लिखने के लिए क्यों और कैसे जोर देता रहा और आखिरकार उन्हें लिखने के लिए प्रेरित किया।

मैंने खुद को लेखक के तौर पर कभी नहीं देखा है.मैंने वही लिखा है जो मेरे गुरु के.ए.अब्बास ने मुझसे एक बार कहा था कि मैं वही लिखता हूं जो मैं महसूस करता हूं। यही एक लाइन है जो मुझे पिछले 5 दशकों से लेखक के रूप में प्रोत्साहित करते आ रही है. एक सुबह जब परीक्षित ने मुझे फोन करके कहा कि वह अपने पिता पर किताब लिख रहे हैं तो यह सुनकर मुझे बहुत अच्छा लगा।

A WORTHY SON PAYS A RICH TRIBUTE TO HIS FATHER

उन्होंने लिखा और मुझे हर अध्याय दिखाया और मैं उन्हें लिखते रहने के लिए प्रोत्साहित करता रहा। ऐसे समय भी थे जब उनका मोह भंग हो गया और वह इससे बाहर निकलना चाहते थे, लेकिन मुझे उन्हें इसके लिए वापस लाना पड़ा क्योंकि मैंने इसे पिता और पुत्र दोनों के लिए अपना सम्मान दिखाने के तरीके के रूप में देखा था।

मैंने उसके सपने में अपनी रुचि बनाए रखी और उससे लिखवाना मेरा कर्तव्य बन गया। बीच में कुछ समय उन्होंने जानना चाहा कि पुस्तक को कौन प्रकाशित करेगा और मैंने उसका परिचय त्रुशांत तामगाँवकर नामक एक युवक से कराया, जो उपनगरों की सबसे अच्छी किताबों की दुकानों में से एक का प्रबंधक था, सेंट पॉल और त्रुशांत नामक एक ईसाई संगठन द्वारा संचालित ‘टाइटल वेव्स’ ने परीक्षित को यह समझाने में बहुत महत्वपूर्ण भूमिका निभाई कि ऐसा हो सकता है और कुछ ही समय में परीक्षित के पास सबसे अच्छा पब्लिशिंग हाउस, पेंगुइन रैंडम में से एक था। परीक्षत और उनके ड्रीम प्रोजेक्ट के साथ मेरा जुड़ाव जारी रहा और वह पुस्तक पूरा होने के करीब थी।

प्रकाशक चाहते थे कि कोई व्यक्ति जाने-माने और अच्छे लेखक को किताब की लिखकर दे। इसके लिए मुझे अमिताभ बच्चन के बारे में सोचने में एक मिनट भी नहीं लगा। परीक्षित फिर अनिच्छुक थे, लेकिन मुझे पता था कि अमिताभ बलराज साहनी के कितने बड़े प्रशंसक थे। हमने अमिताभ को एक व्यक्तिगत पत्र लिखा और व्यस्त बिग-बी ने न केवल सहमति व्यक्त की, बल्कि कुछ दिनों के भीतर प्रस्तावना भी भेजा। लेखन जारी रहा।
किताब ‘द नॉन कंफॉरमिस्ट मेमोरिज ऑफ माय फादर के नाम से तैयार हो गई और कवर पर बलराज साहनी की ऐसी फोटो थी कभी किसी ने नहीं देखी होगी। किताब की खबर को देखकर परीक्षित की आंखों में खुशी के आंसू आ गए और मैं खुद बहुत भावुक हो गया यह सोच कर के हमारा सपना सच हो गया।

केबीसी की भाषा में कहे तो किताब आखिरी पड़ाव में थी जब इसका विमोचन 7 सितंम्बर को ताज लैण्ड्स में हुआ।
सुबह से ही बहुत बारिश हो रही थी और सब सोच रहे थे कि समारोह आज नहीं होगा पर अमिताभ ने कह दिया कि वो आयेंगे तो फिर कुछ गलत नहीं हो सकता।

A WORTHY SON PAYS A RICH TRIBUTE TO HIS FATHER

समारोह 7ः00 बजे शुरू होने वाला था पर 7ः30 तक अमिताभ नहीं पहुंचे थे। और सभी मुझे घूर रहे थे क्योंकि मैंने कहा था अमिताभ कभी देरी से नहीं आते. अमिताभ बच्चन और जया आखिरकार समारोह में पहुंच गए और परीक्षित के चेहरे पर जो मुस्कान आई थी उस वक्त वो मुस्कान मैंने कभी नहीं देखी थी।

A WORTHY SON PAYS A RICH TRIBUTE TO HIS FATHER

अमिताभ किताब की प्रस्तावना के बारे में बात करने लगे और परीक्षित ने किताब को लिखने की अपनी यात्रा के बारे में लोगों को बताया और फिर अनिल धरकड़ ने दोनों से बलराज साहनी के बारे में और किताब के बारे में बातें की। अमिताभ ने बलराज साहनी की चार मुख्य फिल्मों के बारे में बताया जो उन्हें बहुत पसंद है, दो बीघा जमीन, काबुली वाला, वक्त और गर्म हवा. अमिताभ ने बताया कि वह एक अभिनेता के तौर पर और बलराज साहनी से बहुत प्रभावित हुए है।

A WORTHY SON PAYS A RICH TRIBUTE TO HIS FATHER

यह समारोह ऐसा समारोह था जिसका मैं अंत नहीं चाहता था पर हर अच्छी चीज का अंत होता है। अमिताभ बच्चन ने अंत में बलराज साहनी के कुछ सीन पर अभिनय करके भी दिखाया। उस शाम परीक्षित घर एक गौरवान्वित बेटे के तौर पर लौटे होंगे जिन्होंने अपने पिता को एक बहुत ही अच्छी श्रद्धांजलि दी थी।

A WORTHY SON PAYS A RICH TRIBUTE TO HIS FATHER

मैं शायद ही अब किसी इतने अच्छे समारोह का हिस्सा बन पाऊंगा पर ये एक समारोह मुझे ये संतुष्ट कराने और महसूस कराने के लिए काफी है कि मैंने अपने जीवन में कुछ अर्थपूर्ण कर लिया है. मैंने अपने जीवन की शुरुआत झुग्गी झोपड़ियों से की थी जहाँ मैं अपनी मां के साथ रहता था,मैरी आंटी,दारूवाली एक बहुत ही मजबूत महिला जो मुझे विश्वास है बलराज साहनी जैसे महान इंसान को भी आश्चर्य में ला देती।

मायापुरी की लेटेस्ट ख़बरों को इंग्लिश में पढ़ने के लिए www.bollyy.com पर क्लिक करें.
अगर आप विडियो देखना ज्यादा पसंद करते हैं तो आप हमारे यूट्यूब चैनल Mayapuri Cut पर जा सकते हैं.
आप हमसे जुड़ने के लिए हमारे पेज FacebookTwitter और Instagram पर जा सकते हैं.

Advertisement

Advertisement

Leave a Reply