आखिर मेरा सबसे सुंदर सपना जीत गया

1 min


अली पीटर जॉन

 

सोचता हूँ अगर मेरे सपने अपने नही होते ,तो मेरी ज़िन्दगी क्या होती

मेरी ज़िन्दगी एक सपनो का लंबा कारवां नही तो क्या है

ज़िन्दगी को चूमने वाले सपने, ज़िन्दगी को चुभने वाले सपने

कभी पूरे सपने ,कभी आधे अधूरे सपने

कभी सुहाने सपने ,कभी ठुकराने वाले सपने

कभी फूलों के सुगंधों के सपने ,कभी आँसू बहने के सपने

कभी खुशी के सपने, कभी खुशियों को खूदखुशी करते हुये सपने

कभी प्यार में जीने के सपने ,कभी प्यार में मरने के सपने

कभी प्यार पाने के सपने ,कभी प्यार खोने के सपने

कभी खुशी से झूमने के सपने ,कभी गम के दरियाओं में डूबने के सपने

कभी हौसला बढ़ाने वाले सपने ,कभी हौसला हारने के सपने

कभी माँ के सपने जो कभी खत्म नही होते

कभी इनके सपने ,कभी उनके सपने

कभी दोस्ती के सपने, कभी दोस्ती के टूट जाने के सपने

कभो ज़िन्दगी पे भरोसा करने के सपने ,कभी ज़िन्दगी से जंग लड़ने के सपने …

कभी भगवान पर यकीन करने के सपने ,कभी भगवान पे यकीन हो जाने के सपने

और फिर वो अनगिनत प्यार के सपने जो मैं दिन में ,रात में और हर पल में देखते रहता हूँ और ज़िन्दा रहता हूँ

कभी प्यार में मात खाने के सपने ,कभी हार से इंकार करने के सपने

और अभी कल हि कि बात है जब मैंने एक सपना एक सुन्दर चेहरे पे देखा और फिर किसी को नही और कुछ भी नही देखा

दिन और रात एक हि हो गये और मैं कही का नही रहा

मैने पहले भी बहुत प्यार किया ,लेकिन इस बार ये प्यार नही था ,ये धीरे धीरे मेरी ज़िन्दगी का सबसे सुहाना और सुंदर हक़ीक़त बन गई जो एक सपना जैसा लगता था

मैं जो जी रहा था उसे शब्दों में ढाले जा रहा था
और एक दिन मेरा हर एहसास शब्दों का एक अजीब माला बन गया और एक किताब छप गई

सोचते सोचते मेरा वो सपना एक ऐसी हक़ीक़त बन गई जो ना मैं कभी भूल सकता हूँ ,ना कभी कोई जान सकेगा

मैंने उस किताब को उनको अर्पण किया जिनको पहले बार देखते हि मेरी ज़िन्दगी ने एक खूबसूरत करवट ली थी जो अब कोशिश करके भी बदल नही सकती

कल शाम जब उस किताब ,जिसका नाम “ऐ अर्चना- एक खूबसूरत इबादत “कि पूजा हुई उसी जगह जहाँ मैंने खूबसूरती का पहला और आखरी दर्शन किया था

मेरे प्यार ने उस चाय कि दुकान (जिसका नाम चायोस है )एक इबादत घर ,एक मंदिर ,एक मस्जिद और एक गुरुद्वारा से भी महान प्राथना घर बना दिया था

और कल के पूजा में ऐसे ऐसे लोगो ने भाग लिया जो कई गुरुजनों और अन्य महागुरुओ से भी कई ज्यादा ज्ञानी और गुनी है

जैसे मेरे दोस्त जिनको लोग सिर्फ एक हास्य कलाकार कहते हैं और जानते हैं और मानते हैं ,लेकिन मेरे लिये वो एक परम और महान इंसान हैं जिनका नाम जॉनी लीवर है

और वो महिला थी जिनको मैं एक साल से जानता हूँ लेकिन लगता है हम एक दुसरे को कई युगों से जानते हैं ,जो मेरी दोस्त भी है और मेरी प्यारी बेटी भी है ,इस देश की एक बडी वकील जो सच को ढूंढती रहती है बड़ी से बड़ी और छोटी से छोटी न्यायालयों में ,नाम उनका सवीना सच्चर बेदी है

और इस गजब कि पूजा में वो भी थी , जो कई महीनों से मेरे साथ एक स्तम्ब बनकर खड़ी है उस का नाम बबीता पुण्डीर है

और कही दूर दिल्ली के मायानगरी में एक ऐसे महापुरुष थे , जो वहाँ थे लेकिन फिर भी यहाँ मेरे साथ थे ,जो हमेशा मेरे साथ होते है और मेरे कई सपनो को सच मे बदलने में मेरे साथ होते हैं ,मेरे दोस्त प्रमोद कुमार बजाज ,जो “मायापुरी “के कर्ताधर्ता है

और कही लेकिन फिर भी यहाँ वहा वो खड़ी थी जिसने मेरी ज़िन्दगी में एक खूबसूरत हलचल मचा दि थी ,लेकिन उसको ये शायद बिल्कुल एहसास ही नही था कि उसने कैसे मेरे सुंदर सपने को जीता दिया था ,डरता हूँ उसका नाम लेने से क्योंकि मेरी इबादत ने उसको खुदा बना दिया है और तू से आप बना दिया है और आप से मेरी दुनिया को रोशन कर दिया

नाम उसका अगर किसी को जानना है ,तो उनको या उन सबको मेरे दिल से और आँखों से पूछना होगा ,
जगमगाती रहो ,जीती रहो ,मेरी दुनिया को बदलने वाली ,अब मुझे यकीन है कि मुझे फिर जनम नही लेना होगा ,अब मुझे यकीन है कि मुझे किसी स्वर्ग के खोज में भटकना नही पड़ेगा ,अब मुझे वो सारी मंज़िलें मिल गयी है जो आज तक किसी इंसान को नही मिली है !


Like it? Share with your friends!

Mayapuri

अपने दोस्तों के साथ शेयर कीजिये