मिलिए ‘आमिर’ की नयी ‘बेटियों’ से

1 min


आपको आमिर की बेटियां तो याद ही होंगी गीता और बबिता। आज हम आपको आमिर की नयी दो और बेटियों से मिलवाते है। जी हाँ हम बात कर रहे है वीमेन इम्पोवेर्मेंट पर बनने वाली इस शोर्ट फिल्म का जो यह फिल्म देश में जेंडर को लेकर असमानता पर ध्यान केंद्रित करती है, और यह स्टार प्लस की नई सोच अभियान का हिस्सा है। कुल 50 सेकेंड की इस शॉर्ट फिल्म में आमिर को छोटे शहर के, मिडिल क्लास की नई सोच रखने वाले पिता के रूप में दिखाया गया है। इस फिल्म में वह एक ऐसे सरदार पिता के किरदार अदा कर रहे हैं जिसे यह विश्वास है कि उसकी बेटियां उसके कारोबार को आगे ले जाएंगी। आमिर की दंगल के सुपरहिट होने के बाद अभिनेता आमिर खान और डायरेक्टर नितेश तिवारी फिर से एक ब्रांड फिल्म में काम करने के लिए साथ आए हैं। यह फिल्म महिला वीमेन इंपावरमेंट के ध्यान में रख के बनाई गई है। आमिर ने अपनी फिल्म दंगल में यह कहा था की ‘छोरियां छोरों से कम नहीं है।’ अब इस प्रोमो से वो ये मेसेज देना चाहते है “कामयाबी ना  लड़का देखती है ना लड़की, कामयाबी सिर्फ सोच देखती है”

 


Like it? Share with your friends!

Mayapuri

अपने दोस्तों के साथ शेयर कीजिये