आपकी मैं तब तक तारीफ करूंगा जब तक मेरी साँसे चलती रहेंगी, अब्बास साहब- अली पीटर जॉन

1 min


जब भी कोई मुझे पत्रकारिता या सिनेमा में किए गए योगदान के लिए मुझे धन्यवाद देता है और जब कुछ लोग अपनी महानता के कारण मुझे एक प्रसिद्ध, दिग्गज और एक असाधारण पत्रकार यहाँ तक कि एक पूरी संस्था कहते हैं, तो मेरे चेहरे पर एक अजीब मुस्कान आती है। तब मैं अपने गुरु अब्बास साहब के जीवन और जीवन में किए गए बड़े योगदान को याद करता हूँ और मैं उनके सामने बहुत छोटा महसूस करता हूँ। के, ए अब्बास सिर्फ एक असाधारण इंसान, एक प्रख्यात व्यक्ति, एक घटना या एक संस्था नहीं थे, वह उन सभी टैग और ब्रांडों से बहुत आगे थे! ऐसे समय याद आते हैं जब मुझे यह विश्वास करना बेहद मुश्किल होता है कि मैंने अपने कुछ सबसे शानदार पल एक बहुत ही साधारण व्यक्ति के साथ बिताए जो सैकड़ों महान और तथाकथित महापुरुषों से भी बड़ा था। मैं कभी-कभी सोचता हूँ कि इस जीवन में या आने वाले कई और जन्मों में भी कोई और ख्वाजा अहमद अब्बास होगा या नहीं। मैं आम तौर पर किसी को चुनौती नहीं देता, लेकिन इस एक मामले में मैं किसी को भी चुनौती दे सकता हूँ कि कोई इनके एक अंश की भी बराबरी नहीं कर सकता। इस आदमी के बारे में जो मेरे लिए सबसे महान व्यक्ति है जिसे मैंने देखा और जाना और सीखा और आखिरी साँस तक मैं इनका कृतज्ञ रहूँगा….

मेरे छोटे से जीवन में आए और इसे उलट-पुलट कर देने वाले इस महापुरुष की प्रशंसा करते हुए मैं पागल क्यों हो रहा हूँ? अगर मैं उनकी स्तुति नहीं गाऊँ तो मैं क्या करूँ? मैं किसी ऐसे व्यक्ति को धन्यवाद कैसे दे सकता हूँ जो मेरे जीवन का पहला और आखिरी विश्वविद्यालय था। जिस विश्वविद्यालय में मैंने दो साल में वह सीखा जो मैंने स्कूल और कॉलेज में भी नहीं सीखा और बॉम्बे विश्वविद्यालय जहाँ मैं बर्बाद हो गया और मैंने अपने जीवन के छह बहुमूल्य वर्षों को बर्बाद कर दिया। मैं उस व्यक्ति के प्रति कृतज्ञ न होने का साहस कैसे कर सकता हूँ? जो मेरे लिए जीवन और शिक्षा का परम अर्थ और उत्सव था? मैं दोहराता रहता हूँ और दोहराता रहूँगा कि वह मेरे जीवन में होने वाला एकमात्र चमत्कार है, जिस तरह का चमत्कार मैं जानता हूँ और मुझे यकीन है कि फिर कभी नहीं होगा? मुझे यह विश्वास करना मुश्किल लगता था कि एक आदमी इतना अद्वितीय कैसे हो सकता है? और मुझे अभी भी (सत्तर साल की उम्र में) यह विश्वास करना मुश्किल लगता है कि मुझे उनके साथ काम करने का सौभाग्य प्राप्त हुआ। एक ऐसे व्यक्ति जो एक चमकदार मील के पत्थर थे और हमेशा एक मील का पत्थर रहेंगे…

विचारों से भरा एक युवक पंजाब के विभाजन पूर्व पानीपत से अंग्रेजी साहित्य में डिग्री और कानून की डिग्री के साथ बंबई आया था। वह पंडित जवाहरलाल नेहरू के कट्टर प्रशंसक थे, जो स्वतंत्रता से पहले एक प्रमुख स्वतंत्रता सेनानी थे।

उन्होंने ‘‘द बॉम्बे क्रॉनिकल‘‘ में ‘‘लास्ट पेज‘‘ नाम से एक कॉलम लिखना शुरू किया, जिसे उन्होंने ‘‘ब्लिट्ज‘‘ साप्ताहिक में स्थानांतरित कर दिया और अगले चालीस वर्षों के लिए बिना ब्रेक के अंग्रेजी, हिंदी और उर्दू में कॉलम लिखा। यह स्तंभ भारत के इतिहास और पत्रकारिता में एक मील का पत्थर बनना था। उन्होंने वी.शांताराम द्वारा बनाई गई ‘पड़ोसी‘ नामक एक फिल्म की समीक्षा लिखी थी, पर निर्देशक को समीक्षा पसंद नहीं आई और उसने समीक्षक को अपनी फिल्म बनाने की चुनौती दी। युवक ने चुनौती स्वीकार की और अपना बैनर ‘नया संसार‘ शुरू किया और एक के बाद एक फिल्में बनाता रहा और फिल्म निर्माताओं के बीच एक प्रमुख नाम बन गया।

‘धरती के लाल‘, ‘मुन्ना‘, ‘राही‘ (एक नायक के रूप में देव आनंद की पहली कुछ फिल्मों में से एक), ‘चार दिल चार राहें‘ जिसमें थिएटर के कुछ बेहतरीन राज कपूर, मीना कुमारी, शम्मी कपूर, कुमकुम जैसे प्रमुख सितारों ने अभिनय किया, ‘शहर और सपना‘, जिसके लिए उन्हें राष्ट्रीय पुरस्कार नवाजा गया, ‘‘दो बूंद पानी‘‘, जिसमें उन्होंने किरण कुमार, सिमी गरेवाल और जलाल आगा जैसे नए अभिनेता को कई अन्य लोगों के साथ पेश किया, ‘फैसला‘ में जिसमें उन्होंने शबाना आजमी का परिचय दिया, ‘‘द नक्सली‘‘, जिसे उन्होंने मिथुन चक्रवर्ती और स्मिता पाटिल जैसे सितारों के साथ अस्सी साल की उम्र में कलकत्ता के नक्सलबाड़ी में वास्तविक स्थानों पर शूट किया था। जो उनके नियमों और शर्तों पर काम करने के लिए सहमत हुए, जिसमें कोई सचिव नहीं था, कोई मेकअप मैन नहीं था, कोई वाहन नहीं और पूरी यूनिट के साथ एक ही भोजन साझा करना होता था। ‘‘सात हिंदुस्तानी‘‘ जो इतिहास में उस फिल्म के रूप में दर्ज होगी जिसने अमिताभ बच्चन को फिल्मों से परिचित कराया और उनकी आखिरी फिल्म, ‘‘एक आदमी‘‘ अनुपम खेर और रोहिणी के साथ बनी। ‘हट्टंगड़ी’, एक अर्ध-आत्मकथात्मक फिल्म, जिसके निर्माण के दौरान उन्हें एक दिन में तीन बार दिल का दौरा पड़ा पर अपना काम पूरा करने के बाद ही वे अस्पताल गए। क्या मुझे उस आदमी के बारे में कुछ और कहना चाहिए जिसने सबसे कठिन काम को भी इतना आसान बना दिया?

उन्होंने हजारों लेख, सैकड़ों लघु कथाएँ, कितनी ही किताबें लिखी थीं, उनमें से सबसे अच्छी और सबसे शक्तिशाली, कई भाषाओं में अनूदित ‘‘इंकलाब‘‘ और उनकी आत्मकथा ‘‘आई एम नॉट एन आइलैंड‘‘ थी। क्या कोई एक व्यक्ति एक जीवन में इतना असाधारण कार्य कर सकता है?

और, वह व्यक्ति जो सर्वश्रेष्ठ पुरुषों और मशीनों के लिए एक कठिन प्रतियोगी था। उसने कुछ सबसे निर्भीक वृत्तचित्र और लघु फिल्में बनाईं, जिन्हें इस शैली की फिल्मों के इतिहास में जगह मिलनी चाहिए थी। उनकी डॉक्यूमेंट्री, ‘‘ए टेल ऑफ फोर सिटीज‘‘ ने उस तरह का विवाद खड़ा कर दिया जो किसी अन्य डॉक्यूमेंट्री में नहीं होना चाहिए। उन्हें इसे पारित करने के लिए सर्वोच्च न्यायालय तक लड़ना पड़ा, एक बहादुर व्यक्ति द्वारा उठाया गया एक कदम जो हमेशा वर्तमान और भविष्य के लघु फिल्म निर्माताओं और वृत्तचित्र निर्माताओं के लिए मददगार होगा। वह दुनिया के विभिन्न हिस्सों में त्योहारों और अन्य बैठकों में कई भारतीय प्रतिनिधि मंडलों के नेता थे।

कुछ प्रमुख हस्तियों और विभिन्न क्षेत्रों के दिग्गजों के साथ उनके व्यक्तिगत संबंध थे। वह एकमात्र भारतीय थे जिन्होंने रूस की राष्ट्रपति निकिता ख्रुश्चेव से दो बार मुलाकात की थी। वह एकमात्र भारतीय पत्रकार थे जिन्हें चार्ली चैपलिन ने साक्षात्कार दिया था। वह पहले अंतरिक्ष यात्री यूरी गगारिन का साक्षात्कार करने वाले पहले भारतीय भी थे। वह रूस में एक पंथ के रूप में थे और उन्होंने ‘‘परदेसी‘‘ नामक एक इंडो-सोवियत फिल्म भी बनाई थी। जिन कारणों के लिए उन्होंने संघर्ष और समर्थन किया, वे अनगिनत हैं। हर पीढ़ी के लोगों को यह बताने के लिए मुझे और कितना प्रमाण देना चाहिए कि मेरे गुरु, के.ए.अब्बास कितने महान थे?

और इस महापुरुष की कहानी का अंत कैसे हुआ? उन्हें पद्मश्री से सम्मानित किया गया था हालांकि आज एक बेकार अभिनेता को भी पद्मभूषण से सम्मानित किया जाता है और चैथे दर्जे के गायक को भी पद्मभूषण से सम्मानित किया जाता है। जब वह अस्पताल में भर्ती थे, तो उनके इलाज के लिए भुगतान करने को लेकर राज कपूर और अमिताभ बच्चन बहस हुई। उन्हें उनकी अंतिम इच्छा के अनुसार सांताक्रूज कब्रिस्तान में सबसे आम कब्र में दफनाया गया था।

जिस दिन उनकी मृत्यु हुई, उस दिन सुबह-सुबह मुझे जुहू समुद्र तट की रेत पर दो बोतल मजबूत बीयर पीनी पड़ी, ताकि मुझमें उनके पार्थिव शरीर का सामना करने की हिम्मत हो, जो जीवन के लिए एक उपहार था। मैंने आखिरी बार उनके पैर छूने की कोशिश की, लेकिन मैं रुक गया क्योंकि मुझे पता था कि वह इसे पसंद नहीं करते थे और मुझे डाँटते थे(जैसे वह राज कपूर और अन्य प्रसिद्ध हस्तियों को डांटा करते थे जब भी वह उन्हें कुछ गलत कहते या करते थे)।


Like it? Share with your friends!

Mayapuri

अपने दोस्तों के साथ शेयर कीजिये