‘ये दिवाली मेरे लिये विशेष है’ – अभिषेक बच्चन

1 min


abhishek z1

अभिषेक बच्चन के लिये इस बार की दिवाली खास है, क्योंकि एक तो इस बार उनकी फिल्म ‘हैप्पी न्यू ईयर’ इसी पर्व पर रिलीज हो रही है दूसरे इस बार वो अपनी बेटी आराध्या को भी दिवाली का महत्व बता सकते हैं। हाल ही में इस फिल्म और दिवाली को लेकर अभिषेक से एक छोटी-सी मुलाकात।

॰ इस दिवाली का आपके लिये कितना महत्व है?

– हमारे यहां हर दिवाली विशेष होती है लेकिन इस बार दिवाली पर मेरी मेगा बजट फिल्म ‘हैप्पी न्यू ईयर’ रिलीज हो रही है जिसमें मेरी ऐसी भूमिका है जो मैंने अभी तक नहीं की।

॰ तो इस बार दिवाली कैसे मनायेंगे ?

– आप देख ही रहे हैं कि इस फिल्म के प्रचार में हम किस कदर बिजी हैं। आज ही हम अहमदाबाद से सीधे यहां आये हैं इसके बाद चेन्नई जायेंगे। फिर दिल्ली। और बाइस तारीख को दुबई में इस फिल्म का प्रीमियर है। तेइस को घर आकर मैं अपने परिवार के साथ दिवाली मनाऊंगा।

॰ आपके यहा दिवाली का आयोजन किस तरह होता है ?

– हिन्दू रिवाज के तहत पहले हम सपरिवार मंदिर में दीया जलाकर लक्ष्मी पूजा करते है। उसके बाद शगुन के तौर पर थोड़ी बहुत आतिशबाजी करते हैं। बाद में दोस्त रिश्तेदारों के यहां मिठाई का आदान प्रदान होता है।

॰ अपनी भूमिका के बारे में कहना चाहते हैं?

– संगम चॅाल में रहने वाला एक लड़का नंदू भिडे़ बहुत अलग किस्म का छोकरा है जिसका तकीया कलाम है नंदू भिड़े दिमाग में कीड़े। वो दारू पीता है और पता नहीं क्या कुछ करता है। वो पांच लोगों के साथ एक ऐसी चोरी में शामिल होता है जो किसी के लिये एक मिशन की तरह है।

॰ इसे किस जॉनर की फिल्म कहा जाये?

– मैं समझता हूं कि ये एक फन फिल्म है जिसे डांसिंग थ्रिलर कहा जा सकता है।

॰ आप में और नंदू में क्या फर्क है ?

– हम दोनो बिलकुल अपोजिट हैं। क्योंकि जिस तरह की हरकतें वो करता है वैसी मैं सोच भी नहीं सकता।

॰ इस बार आपके सामने एक साथ कई स्टार्स हैं। ऐसे में अपने आप को अलग दिखाने के लिये क्या कुछ किया ?

– मेरा मानना है कि कोई अगर एक ज्यादा एक्टर्स में कुछ अलग करने की सोचता है तो वह इनसिक्यौर है। ऐसी किसी भी फिल्म में आप वही कीजिये जो आपकी भूमिका है।

॰ ये फिल्म आपको कैसे ऑफर हुई ?

– दरअसल करीब ढाई साल पहले मुझे फराह खान ने इस फिल्म की कहानी सुनाई थी और उसी वक्त कमिट किया था जब भी ये फिल्म शुरू होगी, नंदू भिड़े का रोल तुम्ही करोगे। हालांकि हमने ज्यादा काम नहीं किया फिर भी फराह ने मुझ पर विश्वास किया इसके लिये मैं उनका तहेदिल से आभारी हूं।

abhishek z11

॰ अब तो आप भी पिता बने चुके है। तो अपनी बेटी के लिये क्या कुछ करते हैं?

– अपने बच्चे के लिये एक पिता का जो भी फर्ज होता है उसे मैं भी पूरी तरह से निभाता हूं।

॰ आजकल तरीबन हर अभिनेता बॉडी बिल्डर है लेकिन आप नहीं?

– मुझे नहीं लगता कि मुझे भी बॉडी बिल्डर होना चाहिए। मेरा मानना है किसी भी रोल के हिसाब से ही एक्टर की फिजिकल होनी चाहिए। अब जैसे गुरू में मुझे वजन बढ़ाना पड़ा क्योंकि भूमिका की डिमांड थी। उसी तरह इस फिल्म में शाहरूख ने एट पैक्स बनाये हैं वो इसलिये क्योंकि उनका किरदार वैसा है।

॰ दिवाली के अवसर पर कुछ कहना चाहेंगे?

– यहीं कि प्रदूषण को रोकना हमारा फर्ज है। इसके लिये ज्यादा ज्यादा आवाज करने वाले पटाखे इस्तेमाल न करें। क्योंकि इनसे बच्चों बुढ़ों, मरीजों तथा जानवरों को परेशानी होती है।

abhishek z12


Like it? Share with your friends!

Mayapuri

अपने दोस्तों के साथ शेयर कीजिये