सोनी एंटरटेनमेंट टेलीविजन के आगामी शो कामना में मानव के अपने किरदार को लेकर अभिषेक रावत ने बताईं कुछ दिलचस्प बातें

1 min


टेलीविजन जगत में अपने शानदार काम के चलते घर-घर में जाना-पहचाना नाम बन चुके अभिषेक रावत सोनी एंटरटेनमेंट टेलीविजन के आगामी शो ‘कामना’ में लीड रोल के साथ अपनी वापसी करने जा रहे हैं। यह शो अपने दर्शकों को अलग-अलग सोच रखने वाले एक मध्यमवर्गीय दंपति – मानव और आकांक्षा के दिल छू लेने वाले सफर पर ले जाने को तैयार है। इसमें मानव के किरदार को साकार कर रहे हैं टेलीविजन एक्टर अभिषेक रावत। मानव एक प्यार करने वाले पारिवारिक इंसान हैं, जो अपने सिद्धांतों पर एक ईमानदार जिंदगी जीने में यकीन रखते हैं। इस शो के कॉन्सेप्ट और अपने किरदार के बारे में चर्चा करते हुए अभिषेक ने बताया कि एक रोल खुद अपना एक्टर चुनता है, और साथ ही उन्होंने बताया कि वो पर्दे पर मानव का किरदार निभाने के लिए किस तरह अपने अंदर की अच्छाई का इस्तेमाल करेंगे और कैसे उनकी को-स्टार चांदनी शर्मा उनकी पहाड़ी कज़िन हैं।

आपके काम पर नजर डालें, तो पता चलता है कि एक एक्टर के तौर पर आपने अलग-अलग चुनौतियां ली हैं। ऐसे में आपने अपने आगामी शो कामना में मानव का किरदार क्यों चुना?

सबसे पहले तो मैं यह मानता हूं कि कोई भी कलाकार कभी कोई रोल नहीं चुनता बल्कि रोल हमें चुनता है। जैसा कि इस किरदार का नाम है, मानव में बहुत-सी इंसानियत और बहुत-सी अच्छाइयां हैं। कुछ ना कुछ कमियां तो हर इंसान में होती है और सबकी तरह वो भी परफेक्ट नहीं है। वो प्यार करने वाला इंसान है। मुझे लगता है कि इस शो के मेकर्स ने मुझमें और मेरी परफॉर्मेंस में वो इंसानियत देखी और इसलिए मुझे इस रोल के लिए चुना गया। एक अच्छे आदमी की भूमिका निभाना चुनौती भरा हो सकता है, क्योंकि मुझे लगता है कि जब आप नेगेटिव किरदार निभा रहे हों, तो इसमें आपको बहुत-से उतार-चढ़ाव और ड्रामा से गुजरना होता है, जिसे आप अपनी परफॉर्मेंस में दिखा सकते हैं। इसमें आपके एक्सप्रेशंस ही काफी होते हैं। इन्हें दर्शक बड़ी आसानी से स्वीकार कर लेते हैं और ऐसे किरदारों अपनी चालाकियों से वाहवाही हासिल कर सकते हैं। लेकिन जब आप एक अच्छे आदमी का रोल कर रहे हों, तो आपको अंदर से बहुत सारी अच्छाई और मासूमियत दिखाना पड़ता है। जब आप आगे बढ़ते हैं, तब आप उस मासूमियत से दूर जाने लगते हैं, जो कभी आप में थी और इसी वजह से पर्दे पर मानव जैसे अच्छे लड़के का रोल निभाना एक चुनौती है। इसीलिए मुझे इस रोल को निभाने की उत्सुकता है।

इस शो के प्रोमो आने शुरू हो गए हैं, जिसे देखकर लगता है कि मानव एक शालीन इंसान है, जिसे अपने परिवार से प्यार है लेकिन उसे ऐशो आराम के लिए अनाप-शनाप खर्च करना पसंद नहीं है। आप इस किरदार को पर्दे पर कैसे साकार करेंगे?

आप जानते हैं कि एक किरदार की कुछ बातें हमेशा आप के अंदर होती है। मुझे लगता है कि इस मामले में मानव एक अच्छा लड़का है, सबसे प्यार करता है और ज्यादा खर्चीला नहीं है, तो मुझमें भी कुछ अच्छाइयां हैं, जिसके चलते मैं पर्दे पर उसका रोल निभा सकता (हंसते हुए)। मैं अपनी अच्छाइयों का इस्तेमाल करूंगा और जहां तक फिजूलखर्ची का सवाल है, तो मैं उसकी तरह नहीं हूं… असल में मैं काफी खर्चीला हूं। तो उस मामले में यह मेरे लिए चुनौती रहने वाली है। और मुझे लगता है कि मुझे इस बात का दिखावा करना पड़ेगा (हंसते हुए)।

पर्दे पर मानव और उनकी पत्नी आकांक्षा के बीच प्यार नजर आता है। आपके और चांदनी शर्मा के बीच कम्फर्ट ज़ोन बनाने के लिए आप दोनों के बीच किस तरह की चर्चा हुई?

दो कलाकारों के बीच सहजता बनाने को अलग करके नहीं देखा जाना चाहिए। यह दो सहकर्मियों, टीम के दो सदस्यों या किसी भी दो व्यक्तियों के बीच सहजता बनाने जैसा ही है। आपको उन्हें दो इंसानों की तरह देखना चाहिए। बाकी सभी चीजों की तरह इसमें भी दोनों को एक चर्चा की शुरुआत करनी होती है और एक ऐसी स्थिति बनानी पड़ती है, जिसमें दोनों सहज हों। हमारे बीच बहुत-सी चीजें एक जैसी हैं, जैसे वो हिमाचल से हैं और मैं उत्तरांचल से हूं, तो आप जानते हैं हम एक प्रकार से पहाड़ी कजिंस हुए (हंसते हुए)। हिमालय के प्रभाव के चलते हम दोनों की परवरिश एक ही तरह से हुई है। मुझे वो बड़ी मिलनसार और विनम्र इंसान लगीं। तो आप कह सकते हैं कि वो ड्रीम को-एक्टर, एक ड्रीम को-स्टार हैं। अब तक हमने जितना भी वक्त बिताया, बहुत अच्छे से बिताया है।

दर्शकों को इस शो के बारे में बताने का सबसे अच्छा तरीका क्या होगा, जो आने वाले दिनों में इसे देखने के लिए उत्साहित हैं?

वैसे यह शो उन भारतीय धारावाहिकों से बिल्कुल अलग है, जिन्हें आमतौर पर हम सास-बहू सीरियल्स कहते हैं। यह अपने-से लगने वाले दो इंसानों की कहानी है, जो अपने विचारों और सिद्धांतों के फर्क के बावजूद बहुत अच्छे से साथ जिंदगी गुजारते हैं और उनका एक बच्चा भी है। उनकी सोच के इसी फर्क के चलते अक्सर उनकी जिंदगियों में कुछ ड्रामा आ जाता है। तो मुझे लगता है दर्शक इससे काफी हद तक जुड़ेंगे। उन्हें लगेगा जैसे वो इन किरदारों को पहले से जानते हैं या वो उनकी जिंदगियों में शामिल हैं। वो उनके रिश्तेदार या पड़ोसी हो सकते हैं। कामना ऐसी कहानी है, जिससे लोग निश्चित तौर पर जुड़ जाएंगे।

इस शो से आपकी क्या उम्मीदें हैं और आपके हिसाब से दर्शकों पर इसका क्या प्रभाव पड़ेगा?

जहां तक उम्मीदों का सवाल है, तो मुझे लगता है कि इसकी कहानी और किरदार इतने वास्तविक हैं कि दर्शक इससे जुड़ेंगे और मुझे उम्मीद है कि उन्हें इन किरदारों से प्यार हो जाएगा क्योंकि यह है हीं इतने अच्छे। मुझे लगता है कहीं ना कहीं यह शो हमारे दर्शकों को छू जाएगा और उन्हें इस शो में आने वाले उतार-चढ़ाव भी अपने-से लगेंगे। मैं सचमुच ये मानता हूं कि इस शो में इस तरह का प्रभाव डालने की काबिलियत है। मैं उम्मीद करता हूं कि लोग यह शो देखें और हमें अपना प्यार और आशीर्वाद देंगे।

देखिए #कामना, जहां होगा ख्वाहिशों और उसूलों का आमना सामना, जल्द ही सोनी एंटरटेनमेंट टेलीविजन पर।

SHARE

Mayapuri