अशोका यूनिवर्सिटी की प्रतिष्ठित यंग इंडिया फेलोशिप के लिये भर्ती शुरू हुई

0 13

अशोका यूनिवर्सिटी का प्रमुख, एक वर्षीय, बहुविषयक, आवासीय स्नातकोत्तर डिप्लोमा प्रोग्राम द यंग इंडिया फेलोशिप अब लिबरल स्टडीज प्रोग्राम के दसवें समूह की भर्ती के दूसरे राउंड के लिये खुला है। भर्ती का दूसरा चरण 2 फरवरी 2020 को समाप्त होगा। प्रोग्राम के लिये आवेदनों का तीसरा और अंतिम चरण 3 फरवरी 2020 को शुरू होगा और 31 मार्च 2020 को समाप्त होगा।

योग्यता मापदंड एवं आवेदन प्रक्रिया

किसी विषय में अंडरग्रेजुएट या पोस्टग्रेजुएट डिग्री वाले अभ्यर्थी (अंतिम वर्ष के अभ्यर्थी भी), जो 15 जुलाई 2020 तक 28 वर्ष से अधिक आयु के न हों, आवेदन करने के योग्य हैं। अभ्यर्थियों को कार्य का अनुभव भी हो सकता है।

‘‘वायआईएफ ने मुझे अपने कार्य के विषयों पर तार्किक और समावेशी चिंतन की प्रेरणा दी, मेरे पेशेवर फैसलों के प्रभाव को समझने की शक्ति दी और अपने अधिकार को पहचानने और उसका दुरूपयोग न करने की विनम्रता विकसित की।’’

-प्रिनीता कुलकर्णी, वायआईएफ 2014-15; एमबीए अभ्यर्थी, हारवर्ड बिजनेस स्कूल

आवेदन के संपूर्ण आकलन, टेलीफोनिक साक्षात्कार, लिखित बोध परीक्षा और साक्षात्कार के अंतिम राउंड के बाद मूल्यांकन होता है। आवेदन प्रक्रिया पूरी होने में कुछ घंटे लगते हैं- आमतौर पर अधिकांश समय ऐसे निबंध लिखने में खपता है, जिनमें अभ्यर्थियों से उनकी सबसे बड़ी आकांक्षा, व्यक्तिगत यात्रा और वायआईएफ से वे क्या चाहते हैं, आदि पर पूछा जाता है।

 वायआईएफ की वित्तीय सहायता और आवेदन शुल्क

अशोका यूनिवर्सिटी का सामूहिक परोपकार और साझा अभिशासन का मॉडल उसे अलग बनाता है, जो भारत में उच्च शिक्षा के क्षेत्र की अभूतपूर्व पहल है। वायआईएफ में विद्यार्थियों को जरूरत के आधार पर 100 प्रतिशत तक वित्तीय सहायता मिलती है और प्रोग्राम के लिये आवेदन का कोई शुल्क नहीं है। वायआईएफ के वर्तमान विद्यार्थियों में से लगभग दो तिहाई को किसी न किसी प्रकार की जरूरत पर आधारित वित्तीय सहायता मिली है, जबकि करीब 30 प्रतिशत विद्यार्थी ट्यूशन वीवर्स, आदि का लाभ ले रहे हैं।

सामूहिक अभ्यासों से मुझे समस्या के समाधान में अपने योगदान का अनुभव हुआ। मैं अब जटिल चुनौतियों को सुलझाने के लिये बड़े जोखिम लेने का भरोसा रखता हूँ। विविधता को अपनाने की मेरी योग्यता और दूसरों की प्रशंसा करने की शक्ति भी वायआईएफ में बढ़ी है।’’

-अभिषेक चौधरी, वायआईएफ 2012-13; साझा के संस्थापक एवं मुख्य कार्यकारी अधिकारी; फोर्ब्स 30 अंडर 30

 वायआईएफ, वर्तमान विद्यार्थियों और भूतपूर्व विद्यार्थियों के विषय में

वर्ष 2011 से शुरू वायआईएफ विविधतापूर्ण शैक्षणिक, पेशेवर, सामाजिक-आर्थिक और भौगोलिक पृष्ठभूमियों के 300 महान विद्वानों को एकजुट करता है और उन्हें नये जमाने के शैक्षणिक अनुभव देता है, ताकि उनकी बौद्धिक और पेशेवर क्षमता बढ़े।

वायआईएफ की कक्षा में आमतौर पर अर्थशास्त्री, डॉक्टर, कलाकार, वकील, इंजिनियर, संगीतकार, व्यवसाय और साहित्य के स्नातक, उद्यमी, लेखक, फिल्म निर्माता और कई अन्य पृष्ठभूमियों के लोग होते हैं। उद्देश्य है युवाओं को कल का प्रभावी नेतृत्वकर्ता बनने के लिये प्रशिक्षित करना, सार्वजनिक सेवा के लिये दृढ़ प्रतिबद्धता के साथ- उनका कॅरियर कुछ भी हो।

‘‘इस फेलोशिप के आनुभविक घटक ने मेरे कायाकल्प की शुरूआत कीः मैं इंजीनियर से पर्यावरण की वकालत करने वाली बन गई। इससे मेरी रूचियों को आकार मिला और मैंने स्क्रैच से प्रोजेक्ट डिजाइन करना सीखा।’’

– राधिका सुंदरेसन, वायआईएफ 2015-16; पर्यावरण विज्ञान में फुलब्राइट स्कॉलर, येल यूनिवर्सिटी

यह लोग एक शैक्षणिक वर्ष में अध्ययन के अनूठे क्षेत्रों में लगभग 20 विषय पढ़ते हैं। हर कोर्स अलग शैक्षणिक या पेशेवर क्षेत्र का होता है। विषय विज्ञान से लेकर सामाजिक विज्ञान और नेतृत्व से लेकर कला तक कोई भी हो सकता है। कोर्स की पेशकश में सार्वजनिक नीति, कला प्रशंसा, लैंगिक और मीडिया का अध्ययन, नेतृत्व, सामूहिक गतिशीलता, व्यवसाय की अनिवार्यताएं, शैक्सपीयर, संवाद और भारतीय चुनाव शामिल हैं।

शैक्षणिक पाठ्यक्रम के अलावा 8 माह का क्रिटिकल राइटिंग प्रोग्राम और एक्सपीरियेंशियल लर्निंग मॉड्यूल (वास्तविक जगत की समस्याओं पर भागीदार संस्था के साथ टीम-आधारित प्रोजेक्ट) भी होता है, यह दोनों वायआईएफ के मुख्य घटक हैं। यह प्रोग्राम इक्कीसवी सदी की कुशलताएं देता है- तार्किक सोच, समस्या सुलझाना, प्रभावी संवाद और समानुभूति वाला नेतृत्व- यह किसी भी कैरियर में सफलता की कुंजी हैं, शैक्षणिक हो या पेशेवर।

 शिक्षक, पाठ्यक्रम और विद्यार्थी आदान-प्रदान के लिये अशोका यूनिवर्सिटी ने विश्व-स्तरीय संस्थानों के साथ भागीदारी की है, जैसे यूनिवर्सिटी ऑफ पेंसिलवेनिया, यूनिवर्सिटी ऑफ मिशिगन, किंग्स कॉलेज लंदन, साइंसेज पो, एचईसी पेरिस, ट्रिनिटी कॉलेज डबलिन, यूनिवर्सिटी ऑफ कैलिफोर्निया, बर्कले, स्टैनफोर्ड यूनिवर्सिटी, तेल अविव यूनिवर्सिटी, ड्यूक यूनिवर्सिटी और येल यूनिवर्सिटी।

वायआईएफ के वर्तमान विद्यार्थियों (2019-20 की कक्षा) में भारत के लगभग 25 राज्यों और केन्द्र शासित प्रदेशों के 120 से अधिक गांवों, कस्बों और शहरों के 301 फेलो शामिल हैं। वे लगभग 180 अंडरग्रेजुएट संस्थानों का प्रतिनिधित्व करते हैं और उनमें से लगभग आधे लोगों के पास कार्य का अनुभव है। वायआईएफ में छात्राओं की संख्या तुलनात्मक रूप से अधिक है। वायआईएफ के 1400 से अधिक भूतपूर्व विद्यार्थियों ने विभिन्न कॅरियर में उत्कृष्टता अर्जित की है। वे 30 से अधिक देशों में फैले हैं।

यह भूतपूर्व विद्यार्थी शीर्ष वैश्विक संस्थानों में मास्टर्स और डॉक्टोरल अध्ययन कर रहे हैं, जैसे हारवर्ड, स्टैनफोर्ड, येल, पेन, ब्राउन, कोलंबिया यूसी बर्कले, ऑक्सफोर्ड, कैम्ब्रिज, एमआईटी, एनयूएस, किंग्स कॉलेज लंदन, साइंसेज पो, टीयू डेलफ्ट, आदि। इन्हें विश्व की सबसे प्रतिष्ठित छात्रवृत्तियों में से कई मिली हैं। वायआईएफ के भूतपूर्व विद्यार्थियों में बारह फुलब्राइट विद्वान हैं, जो अमेरिका के शीर्ष संस्थानों में मास्टर्स डिग्री की पढ़ाई कर रहे हैं। अन्य छात्रवृत्तियों में रोड्स, श्वार्जमैन, कॉमनवेल्थ, चीवनिंग और इनलाक्स शामिल हैं।

वायआईएफ के भूतपूर्व विद्यार्थियों ने करीब 50 उपक्रम शुरू किये हैं। इनमें से लगभग एक तिहाई विकास के क्षेत्र में काम करते हैं। कई विश्व के शीर्ष नीति, शिक्षा और कॉर्पोरेट संस्थानों में अपनी छाप छोड़ रहे हैं।

अधिक जानकारी के लिये www.youngindiafellowship.com देखें और ऑनलाइन आवेदन करने के लिये www.apply.ashoka.edu.in पर जाएं।

अशोका यूनिवर्सिटी के विषय में:

अशोका यूनिवर्सिटी सोनीपत, हरियाणा में स्थित भारत की अग्रणी लिबरल आर्ट्स एवं विज्ञान यूनिवर्सिटी है। अशोका के 2000 से अधिक विद्यार्थी भारत के लगभग 28 राज्यों के 98 शहरों और 15 अन्य देशों से भी आते हैं, जिन्हें एक वैश्विक और अंतर्राष्ट्रीय मान्यता प्राप्त शिक्षक मंडल से विश्व-स्तरीय बहुविषयक शिक्षा मिलती है। अशोका यूनिवर्सिटी ने शैक्षणिक एवं शोध सम्बंधों को प्रोत्साहित करने और सामाजिक प्रभाव निर्मित करने के लिये सात सेंटर ऑफ एक्सिलेंस (उत्कृष्टता केन्द्र) भी विकसित किये हैं। www.ashoka.edu.in

For more media information, please contact:

Torque Communications                                   The Young India Fellowship

Purnima Jha, +91-8851147737                         yif@ashoka.edu.in

purnima@torquemail.com

और पढ़े: Army Day: इन 10 एक्टर्स ने आर्मी वर्दी पहन कर जीता करोंडो लोगों का दिल

Advertisement

Advertisement

Leave a Reply