सुशांत के निधन के बाद ऋचा चड्ढा बोलीं- ‘अभिनेता के दोस्तों और गर्लफ्रेंड को लेकर भद्दे कमेंट्स किए जा रहे हैं, ये कौन से प्रशंसक हैं’

1 min


ऋचा चड्ढा आउटसाइडर्स इनसाइडर्स

ऋचा चड्ढा बोलीं – ‘हिंदी फिल्म इंडस्ट्री और पूरा इको सिस्टम केवल दयालु और निर्दयी लोगों के बीच बांटा हुआ है’

अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत के निधन के बाद से फिल्म इंडस्ट्री में एक बार फिर नेपोटिज्म और आउटसाइडर बनाम इनसाइडर की बहस तेज हो गई। इन दिनों बॉलीवुड के कई कलाकार नेपोटिज्म पर अपनी राय दे रहे हैं। इस बीच ऋचा चड्ढा ने भी अपनी बात सामने रखी है। ऋचा चड्ढा बॉलीवुड की उन एक्ट्रेसेस में से है जो सोशल मीडिया पर सामाजिक और राजनीतिक मुद्दों पर अपनी बेबाक राय रखती नजर आती हैं। अब जब बॉलीवुड में नेपोटिज्म को लेकर बहस छिड़ी हुई है तो ऋचा ने अपने ब्लॉग में इसका जिक्र किया है।

 मेरा रोल काट दिया गया था

ऋचा चड्ढा आउटसाइडर्स इनसाइडर्स

Source – Pinterest

एक्ट्रेस ऋचा चड्ढा लिखती हैं, ‘ऐसा कहा जा रहा है कि इंडस्ट्री आउटसाइडर्स और इनसाइडर्स के बीच विभाजित है। मेरा मानना है कि हिंदी फिल्म इंडस्ट्री और पूरा इको सिस्टम केवल दयालु और निर्दयी लोगों के बीच बांटा हुआ है। मैंने यहां पर कम वक्त ही बिताया है और मैं अपने परिवार से पहली सदस्य हूं। मुझे ऐसा लगता है कि इंडस्ट्री एक फूड चेन की तरह संचालित होता है। लोग भी कम बदमाश नहीं हैं जब उन्हें लगता है कि वह अब खुद इस राह में चल सकते हैं तो अपनों का साथ छोड़ देते हैं। ऐसे भी इनसाइडर्स हैं जो दयालु और मदद करने वाले हैं। साथ ही ऐसे आउटसाइडर्स हैं, जो घमंड में चूर होते हैं। अपने करियर के शुरुआती दौर में आउटसाइडर्स की वजह से मेरा रोल काट दिया गया था। इन सबसे उबरने में मुझे अपनी पूरी ताकत लगानी पड़ी लेकिन यह मेरे बारे में नहीं है। दुखद बात यह है कि यहां हर किसी के अनुभव का अपना प्रभाव है।’

आउटसाइडर्स और इनसाइडर्स के बाद ऋचा नेपोटिज्म पर लिखती हैं, ‘हमसे उम्मीद क्यों की जाती है? अगर किसी के पिता एक स्टार हैं तो वो वहां पैदा हो रहे हैं जैसे हम अपने घर में। क्या आपको अपने माता पिता पर शर्म आती है? यह एक घृणित और बकवास तर्क है। मैंने यहां खुद की पहचान बनाई है। क्या आप मेरे बच्चों को जो भी मेरे पास है, मेरे संघर्ष के लिए शर्मिदा होने के लिए कहेंगे?’

मैं सुशांत की आभारी हूं

ऋचा चड्ढा आउटसाइडर्स इनसाइडर्स

Source – Instagram

सुशांत सिंह राजपूत को याद करते हुए ऋचा लिखती हैं, ‘सुशांत और मैंने एक थिएटर में साथ में वर्कशॉप किया था। मैं अंधेरी पश्चिम में दिल्ली के एक दोस्त के साथ 700 वर्ग फीट के अपार्टमेंट में रहती थी। सुशांत मुझे लेने आते थे और बाइक से लिफ्ट देते थे। इसके लिए मैं बहुत आभारी हूं। मेरी स्थिति उस वक्त बहुत खराब नहीं थी लेकिन मैं ये नहीं कह सकती कि पैसे का ध्यान नहीं होता था। मैं एक स्किन ब्रांड के एड ऑडिशन के लिए जाती थी उस वक्त ऑटो रिक्शा से जाते वक्त मुझे मेकअप खराब होने का डर रहता था। यह कभी किसी स्टार किड के साथ नहीं होता और अगर उनके साथ ऐसा होता है तो ऑटो रिक्शा से उस स्थान पर पहुंचने के लिए सराहना की जाएगी। मैं उनके विशेषाधिकार पर नाराज नहीं हूं।’

ऋचा ने आगे कहा, ‘सोशल मीडिया पर अभिनेता के दोस्तों और गर्लफ्रेंड को लेकर भद्दे कमेंट्स किए जा रहे हैं। ये कौन से प्रशंसक हैं। मैंने ऑनलाइन कुछ प्रोफाइल चेक किया। ये वही लोग हैं जिन्होंने उस वक्त सुशांत को गालियां दीं, जब उसने पद्मावत पर स्टैंड लिया था। अब वो उसके प्रियजनों को अभिनेता के नहीं रहने पर गालियां दे रहे हैं।’ ऋचा कहती हैं, ‘कई फिल्ममेकर जो एक महीने पहले शोक संदेश दे रहे थे, ये वही लोग हैं जिन्होंने आखिर वक्त पर उन अभिनेत्रियों को रिप्लेस कर दिया जो उनके साथ सोने से इनकार कर देती थीं। साथ ही ये भविष्यवाणी की कि इसका कुछ नही होगा।’

ये भी पढ़ें– डायरेक्टर शशांक खेतान ने डिएक्टिवेट किया अपना ट्विटर अकाउंट, कहा- नफरत फैलाने का…


Like it? Share with your friends!

अपने दोस्तों के साथ शेयर कीजिये