INTERVIEW: ‘तानाजी’ को हम ‘बाहुबली’ से भी बड़ा बनाने की कोशिश में है – अजय देवगन

1 min


लिपिका वर्मा 

अजय देवगन एक ऐसे अभिनेता रहे है जिन्होंने समय से आगे के विषय से जुड़ी फिल्मों का हिस्सा बन न केवल डेब्यू अवार्ड जीता है अपितु अजय ने दो बारी नेशनल अवार्ड  भी जीता है। फिल्म, “फूल और कांटा”  से फ़िल्मी सफर शुरू कर ‘शहीद भगत  सिंह’ और ‘ज़ख्म’ जैसी फिल्मों से जुड़कर यह साबित  कर दिया कि कंटेंट इज़ किंग ‘ होता है, किसी  भी फिल्म का।  उनकी अगली फिल्म ‘बादशाहो’ रिलीज होने को है। अपनी अगली फिल्म ,”तानाजी द अनसूंग वारियर” की तैयारी  में लगे अजय ने -अवार्ड्स फिल्म्स इत्यादि को लेकर हमसे ढेर सारी बातचीत की

आपकी फिल्म, शिवाय” को इस वर्ष बहुत सारे अवार्ड्स मिले,किन्तु काजोल सारे अवार्ड्स ले गई। आप कहाँ रह गए थे ?

जी. अच्छा लगा हमारी फिल्म ,”शिवाय” को ढेरों अवार्ड्स  से सम्मानित किया गया ख़ास कर टेक्निकल केटेगरी में  आवर्ड मिला। दरअसल काजोल को अवार्ड्स  लेना अच्छा लगता है सो वो लेकर आ गयी। (हंस कर बोले अजय)। 

आपने हमेशा समय से आगे कंटेंट फिल्मों का हिस्सा बन यह साबित कर दिया की कंटेंट इस किंग क्या कहना है इस बारे में?

जी सही कहा -मै हमेशा  से ही अलग तरह की फिल्मों से  जुड़ना पसंद  करता रहा हूँ। फ़िल्में जैसी “ओमकारा” और शहीद भगत सिंह ‘,’ज़ख्म ‘इत्यादि सिर्फ इसलिए, क्योंकि इस फिल्म की कहानी अच्छी और कुछ अलग थी। आज ढेरों फ़िल्मकार एवं अभिनेता अलग तरह की फ़िल्में कर रहे है। यह जान कर मुझे खुशी होती है।

 तानाजी फिल्म की किस तरह से तैयारी हो रही है?

यह फिल्म शिवाय” से भी बेहतर होनी है। सो कंटेंट पर तो काम किया जा रहा है। किन्तु टेक्निकली हम तानाजी पर बहुत मेहनत कर रहे है। …शायद बाहुबली से भी बड़ी हो सकती है।

 टेक्निकली क्या फिल्म “तानाजी” मुंबई से ही काम पूर्ण किया जायेगा ?

जी हाँ हमारे ही पास सब कुछ है। सो हम टेक्निकली फिल्म,”तानाजी” को अपने यहाँ से ही पूर्ण करेंगे। हमारी कोशिश यही  रहेगी की आपने दर्शको को बेहतरीन कंटेंट दें। हॉलीवुड की फ़िल्में केवल इसीलिए यहाँ चल पा रही है  क्योंकि उनका कंटेंट बेहतर है।

सो क्या  हमारी स्क्रिप्टकहनिया एवं बेहतरीन  लेखकों की कमी अच्छी फ़िल्में न बन पाने की  वजह है?

अभी यह कारण नहीं है? मैंने पिछले दो वर्षो से ढेर सारी  स्क्रिप्ट  सुनी है और आज के युथ दो तरह के है-बतौर लेखक भी कुछ तो हॉलीवुड देखते है किन्तु कई युवा इमोशनल ड्रामा एवं रोमांच भी बहुत अच्छा लिख लेते है। हमें अपनी ऑडियंस के हिसाब की फ़िल्में बनानी है। मैंने कुल दो तीन स्क्रिप्ट्स फाइनल की है।

तानाजी कितनी कम्पलीट हो चुकी है?

फ़िलहाल हम स्क्रिप्ट पर काम कर रहे है। तानाजी एक पीरियड फिल्म है। टेक्निकली इस फिल्म को हम बाहुबली से भी  बड़ा बनाने की कोशिश में लगे है। आशा है यह फिल्म उससे भी बड़ी होगी। हम किसी तरह से उनसे प्रतियोगिता की होड़ नहीं’ कर रहे  है। बस काम बेहतर करने की आशा करते है।

कुछ सोच कर अजय बोले ,” अभी डायलॉग्स और स्क्रिप्ट पूरे होने के बाद ही आपको बतला पाउँगा की में कितनी मराठी भाषा बोलूंगा तानाजी के किरदार के लिए। फिल्म मार्च तक शुरू करने की उम्मीद करते है हम।

गोलमाल फ्रैंचाइजी आगे जो बनने वाली है उसमें करीना नहीं है?

जी हाँ करीना नहीं है इस गोलमाल में। परिणीति है और तब्बू भी  है। यह दोनों बेहतरीन अभिनेत्रियां है। इस बार की गोलमाल और भी अच्छी कॉमेडी और मस्त फिल्म होने वाली है।

आप कभी सोशल मीडिया पर ट्रोल नहीं हुए है क्या कहना चाहेंगे आप?

 मैं अपने काम से काम रखता हूँ। किसी  दूसरे के बारे में कभी नहीं विचार करता हूँ। और सोशल मीडिया पर जितना जरुरी है उतना पोस्ट भी करता हूँ। यह एक ऐसा मीडिया है जिसको हम अच्छी तरह यूज़ करे तो कोई प्रॉब्लम नहीं आन पड़ेगी।

 

SHARE

Mayapuri