अली फज़ल फूँक फूँक कर कदम रख रहें हैं, इन दिनों कर रहे हैं MMA की तैयारी

1 min


ओटीटी की दुनिया में गुड्डू भैय्या उर्फ अली फज़ल के पीछे दीवानगी का आलम है और उस दीवानगी को हवा देते हुए अली, हाल ही में बॉक्सिंग रिंग में कड़ी मेहनत करते नज़र आए। अली के करीबियों का कहना है कि वह पिछले कुछ हफ्तों से उत्सुकता के साथ इस स्पोर्ट्स में जुटे हैं और एमएमए फाइटर रोहित नायर से प्रशिक्षण ले रहे हैं। फाइटिंग गेम्स में एक्सपर्ट कोच रोहित, अली को विभिन्न फाइटिंग गेम्स में प्रशिक्षित करवा रहे है। ट्रेड मार्किट में यह खबर है कि अली को एक फुल-ब्लोन एक्शन भूमिका के लिए चुना गया है और अब एक लंबे समय तक उन्हें अपने रोल की तैयारी करनी है। ★सुलेना मजुमदार अरोरा★

रोहित मुझे इस खेल के बारे में सब कुछ सिखा रहा है – अली

अली कहते हैं, “मुझे जिम में घंटों बिताने के बनिस्पत, प्राकृतिक रूप से फिटनेस पे काम करना पसंद हैं। यह मेरा स्टाइल कभी नहीं रहा। लॉकडाउन के दौरान, मेरा फिटनेस बिगड़ गया था, क्योंकि मैंने एक फिल्म की शूटिंग की थी, जिसके लिए मुझे मोटा और भारी लगना था। मैं एक बहुत ही अन हेल्दी अवस्था से गुज़र चुका हूँ। पिछले कुछ महीनों में, मैंने रोगित के ट्रेनिंग के अनुसार यूजुएल प्रशिक्षण और मुक्केबाजी के बीच बारी-बारी से काम करना शुरू कर दिया है। मैं फूँक फूँक कर कदम बढ़ा रहा हूँ। रोहित मुझे इस खेल के बारे में सब कुछ सिखा रहा है। मेरे प्रति उनका भरपूर धैर्य और मेरी ताकत और कमजोरियों को समझना, यह मेरे लिए इस ट्रेनिंग में बने रहने के प्रमुख कारण है। इस सही एटीट्यूड के साथ सहयोग बनाये रखने के कारण मेरा ध्यान फोकस्ड रह पा रहा है।”

अली से जब यह पूछा गया कि क्या यह ट्रेनिंग उनके अगली फिल्म के किरदार के लिए है तो वे केवल इतना ही कहतें है, “क्या और कब की बात करना बहुत जल्दी है। लेकिन हाँ, यह एक बड़े लक्ष्य के लिए ज़रूर है। चाहे उस डिप्रेशन से लड़ने के लिए हो जब हम अन-हेल्दी वजन बढ़ा लेते हैं, या फिर  महामारी के दौरान घर पर बैठे रहने के कारण, या किसी फिल्म के किरदार के लिए या किसी अन्य कारण से हो, मैं बस इतना कह सकता हूँ कि मैं हर दिन ट्रेनिंग का आनंद ले रहा हूं, एक नया कौशल सीख रहा हूं। आगे का आगे बताऊंगा।”

हम कॉम्बैट ट्रेनिंग और परफारमेंस एनहांसिंग ट्रेनिंग पर काम कर रहे हैं

कोच रोहित ने कहा, “अली एक उस तरह का लड़का है जो सेशन को तब तक छोड़ना पसंद नहीं करता है, जब तक वह  ट्रेनिंग के तकनीक में पूरी तरह परफेक्ट नहीं हो जाता और पूरी तरह से पसीने से भीग नहीं जाता है। यह उसके हार्डवर्क और मस्ती का एक संतुलन बनाये रखने जैसा है। उसे प्रशिक्षण देते हुए मुझे भी एक बेहतर कोच बनने का अवसर मिला है। हम कॉम्बैट ट्रेनिंग और  परफारमेंस एनहांसिंग ट्रेनिंग पर काम कर रहे हैं, जिसमें रनिंग, किकबॉक्सिंग, जिउजित्सु, फंक्शनल  और शक्ति प्रशिक्षण शामिल हैं।”


Like it? Share with your friends!

Mayapuri

अपने दोस्तों के साथ शेयर कीजिये