जिनका दिल सोने का होता है वो दिल सोने का ही होता है…जैसे सोनू सूद का दिल

1 min


मैंने अपनी दोस्त ‘होली स्पिरिट हॉस्पिटल’ की एग्जीक्यूटिव डायरेक्टर स्नेहा को कॉल किया, जहाँ मैंने अपना सारा समय बिताया है, चाहे वह इलाज के लिए हो या विभिन्न तरीकों से, जिससे मैं जुड़ा रहा हूँ, खासकर फण्ड जुटाने के दौरान। अस्पताल में पूरा स्टाफ हमेशा मेरे साथ अच्छा रहा है और मैंने अस्पताल को अपना घर और कर्मचारियों को अपने परिवार के रूप में माना है! लेकिन वायरस के हमले के बाद वातावरण और भावनाएं काफी बदल गई हैं। इससे पहले कि मैं उनसे पूछ पाता कि वह कैसी थी, उन्होंने कहा कि कोई टीका, कोई ऑक्सीजन और निश्चित रूप से कोई बिस्तर तक एव्रलेबल नहीं है। यह वही सिस्टर और वही अस्पताल था जहाँ मेरा वीआईपी की तरह स्वागत किया जाता था और मुझे मांगने से पहले एक बेड भी दे दिया जाता था। मुझे पता था कि इस महामारी के दौरान हर चीज की कमी थी, खासकर इसकी दूसरी खतरनाक वेव में, लेकिन जिस तरह से स्नेहा ने मुझसे बात की उससे मैं और अधिक आहत हुआ और मुझे आश्चर्य हुआ कि अगर वह किसी संकट के दबाव में इतना बदल सकती है तो नगर निगम, सरकारी और अन्य निजी अस्पतालों में क्या हालत होगी।
अली पीटर जाॅन

और मुझे जो डर था वह हर शहर, उपनगर, जिला और पंचायत में सच हो रहा था। यह शर्म की बात है कि इस भारी समस्या का समाधान खोजने के लिए प्रधानमंत्री और उनके सभी मंत्री अभी भी अंधेरे में फँसे हुए हैं।

इसलिए यह जानकर बहुत हर्ष होता है कि कोरोना वायरस की पहली लहर के दौरान सबसे पहले हरकत में आए सोनू सूद ने लाखों प्रवासी कामगारों को उनके घरों तक पहुँचने में मदद की और हरसंभव तरीके से मदद की, और बीमारी से लड़ने के लिए जितनी हो सके उतनी सेवा उन्होंने की थी।

लोगों को बचाने वाले ने रेमदिविसिर गोलियों और ऑक्सीजन की आपूर्ति और पांच सौ बिस्तरों की व्यवस्था करके अपना पहला बड़ा कदम उठाया है। और यह सवाल फिर से दिमाग में आता है कि अगर सोनू सूद इतना कर सकते है, तो केंद्र और विभिन्न राज्यों में सरकारें ऐसा क्यों नहीं कर सकतीं, जो करना उनका कर्तव्य है।

और इस बार भी सोनू सरकार से अपने दिल की बात कह रहे हैं और वैक्सीन फ्री करने के लिए कह रहे हैं क्योंकि अलग-अलग जगहों के लोगों के लिए अलग-अलग कीमतें हैं। उन्होंने सरकार से अपील की है कि वह मानवता को बचाने के हित में सबसे अच्छा काम करे। और एक लाइनर में, वह हिंदी में कहते है, धंधे की बात और कभी करेंगे!

यह उन सभी लोगों के लिए है जो सोनू सूद को गंभीरता से लेने के लिए गंभीर स्थिति के प्रभारी हैं और उन्हें हर तरह का समर्थन और सहयोग दे रहे हैं, न कि उन पर नजर रखने वाले हैं क्योंकि वह कोरोनावायरस पर युद्ध की घोषणा करने के लिए अपने दिल से काम करने के तरीके के बारे में जानते हैं।

एक सुनील दत्त थे जो अपने लोगों के लिए जान लगा देते थे और लोग उन्हें मसीहा कहते थे, और आज के जमाने में एक सोनू सूद है जो धन, मान और जान लगा रहे है लोगों की तकलीफ दूर करने के लिए और उसे भी लोग आज का मसीहा कहते है।

अनु-छवि शर्मा


Like it? Share with your friends!

Mayapuri

अपने दोस्तों के साथ शेयर कीजिये