बोलो भारत माता की जय लेकिन सिर्फ जोर से नहीं  दिल से भी बोलो भारत माता की जय

1 min


अगर हम बात कम करते और हासिल करते और ज्यादा करते, तो भारत के पास दुनिया को बताने के लिए एक बेहतर कहानी होती। भारत के साथ समस्या यह है कि जब भगवान ने भारत बनाया, तो उन्होंने भारतीयों को गपशप का उपहार दिया और यह वह उपहार है जिसका हम किसी भी अन्य उपहार से अधिक उपयोग कर रहे हैं। पुजारी और पवित्र पुरुष और महिलाएं अपने आसनों और मंचों से चिल्ला रहे हैं और उन चीजों के बारे में प्रचार कर रहे हैं जिनके बारे में वे बहुत कम या कुछ भी नहीं जानते हैं, कल्पना करें कि पुजारी और पंडित और मुल्ला लंबे भाषण दे रहे हैं और कम उपदेश दे रहे हैं, पाप से कैसे बचें और कैसे जाएं स्वर्ग, जिसे दुनिया के निर्माण के बाद से अब तक किसी भी इंसान ने नहीं देखा है। जरा उन राजनेताओं की कल्पना कीजिए जो एक बेहतर भारत बनाने के बारे में सबसे दर्दनाक और झूठे भाषण देते हैं, जब वे खुद भारत को बर्बाद करने में लगे होते हैं। पिछले 70 वर्षों में, यदि हम जीवन के किसी भी क्षेत्र में विशेषज्ञ बन गए हैं, तो यह वह तरीका है जिससे छह साल की लड़की भी अलग-अलग विषयों के बारे में विकसित कर सकती है, जिस तरह से उन्होंने अपने नेताओं को टीवी, रेडियो पर बोलते सुना है। और संचार का कोई अन्य माध्यम। हम देश में विभिन्न बीमारियों और बीमारियों के बारे में बात करते हैं, लेकिन हम इस तथ्य से अनजान हैं कि सबसे खतरनाक बीमारियां, जो कोरोना वायरस से भी खतरनाक हैं, “गप्पा वायरस“ और “बकबक करिया“ नामक बीमारी है और जितनी जल्दी हम टीके खोजते हैं इन घातक वायरस के लिए बेहतर…

लेकिन अगर कोई एक क्षेत्र है जिसमें शब्दों और आवाजों का उपयोग सभी के लाभ के लिए किया जाता है, तो वह सिनेमा है, खासकर जिसे व्यावसायिक हिंदी सिनेमा कहा जाता है। और कुछ पात्रों द्वारा कुछ बहुत ही महत्वपूर्ण फ़िल्मों और यहाँ तक कि तुच्छ फ़िल्मों में बोले गए संवादों को आज भी हमेशा याद किया जाता है और हमेशा के लिए याद किया जाएगा….

 

आइए हिंदी फिल्मों में बोली जाने वाली देशभक्ति की कुछ पंक्तियों का जायजा लेते हैं और आपको पता चल जाएगा कि उनका हमारे दर्शकों पर क्या प्रभाव पड़ता है। जरा देखो कैसे कुछ शब्द और कुछ लाईनें हमारे जहान, देश, दिल और दीमाग पर असर करते हैं….

अब तुम्हारे हवाले वतन साथियो

आओ झुक कर सलाम करे उन्हे जिनके हिस्से में ये मुकाम आता है…. किस कदर खुश नसीब है वो लोग… खून जिनका वतन के काम आता है- मौत के मंडियों में जा-जाकर अपने बेटो की बोलियां दी है …. देश ने जब भी एक सर मांगा, हमने भर-भरके झोलियां दी है!

बार्डर

हम ही हम है तो क्या हम है…तुम ही तुम हो तो क्या तुम हो, हम तो किसी दूसरे की धरती पर नज़र भी नहीं डालते….लेकिन इतने नालायक बच्चे भी नहीं हैं…. कोई हमारी धरती मां पर नजर डाले और हम चुपचाप देखते रहे।
शायद तुम नहीं जानते… ये धरती शेर भी पहचान करती है

एलओसी कारगिल

कुछ लक्ष्य इतने काबिल होते हैं…..असफल होना भी शानदार होता है,  एक सैनिक संयोग से जीता है, पसंद से प्यार करता है और पेशे से मारता है

माँ तुझे सलाम

तुम दूध मांगोगे हम खीर देंगे…तुम कश्मीर मांगोगे हम चीर देंगे

चक दे इंडिया

मुझे स्टेट्स के नाम सुनाई देता हैं ना दिखाई देता हैं …. सिर्फ एक मुल्क का नाम सुनाई देता है भारत।

रंग दे बसंती

अब भी जिसका खून न खौला, खून नहीं वो पानी है …. जो देश के काम न आए वो बेकार जवानी है, कोई भी देश परफेक्ट नहीं होता …उससे बेहतर बनाना पड़ता है

मंगल पांडे

ये आजादी की लड़ाई है …. गुजरे हुए कल की आजादी … आने वाले कल के लिए

राज़ी

वतन के आगे कुछ नहीं … खुदा भी नहीं। हमारे इतिहास में ऐसे कई लोग हैं जिन्हे कोई इनाम, कोई मेडल नहीं मिला …. हम उनका नाम तक नहीं जानते… न ही पहचानते हैं सिर्फ वतन के झंडे पर अपनी याद छोड़ जाते हैं

अन्ना

हिंदुस्तान की धरती पर ये तिरंगा इसी तरह शान से लहरता रहेगा… जब तक भारत मां की रक्षा ये शेर सिपाही करता रहेगा
हिंदुस्तान का सिपाही जंग का मैदान दो ही सूरतों में छोड़ता है…. या तो जीत हासिल करके… ये देश के लिए कुर्बान होके

उरी – सर्जिकल स्ट्राइक

ये हिंदुस्तान अब चुप नहीं होगा … ये नया हिंदुस्तान है …. ये घर में घुसेगा भी और मारेगा भी, फ़र्ज़ और फ़र्ज़ी में बस एक मात्रा का अंतर होता है। होउज़ द जोश

भारत में लिखने से ज्यादा पढ़ने की रस्म ज्यादा निभाई जाती है क्योंकि हमारे ज्यादा लोग दूर गांव में रहते हैं और अनपढ़ होते हैं? इसलिए तो एक फिल्म कहीं किताब से और भाषा से ज्यादा असर करती है। सलाम है उन फिल्म के लेखकों को जो एक फिल्म में और थोड़े से शब्द में इतना कुछ कहते हैं। वन्दे मातरम

SHARE

Mayapuri