सुनो, ऐ चढ़ते हुए सूरज और चमकती हुई चांदनी, घमंड न करो, ढलना या डूबना तो तय है तुम्हारे वास्ते…

1 min


यह सब कुछ शक्तिशाली ईश्वर द्वारा वक्त के साथ मिलकर लिखा गया एक नियम है, जिसमें मनुष्य भी शामिल है, हमें एक योजना के अनुसार उठना और गिरना पड़ता है और जो कोई भी जीवित है उसको मरना भी निश्चित हैं, जन्म और मृत्यु तो इस साइकिल का हिस्सा है जिसे कोई भी शक्ति नहीं तोड़ सकती और फिर भी मनुष्य ने अपने सबक नहीं सीखे हैं और इधर-उधर घूमते रहते हैं और उनका विश्वास ईश्वर और समय पर बना हुआ हैं उनका मानना है की वह जब तक वे चाहें, तब तक वे जीवित रहेंगे और उन सभी शक्तिशाली पुरुषों, महिलाओं, सम्राटों और महारानियों, राजाओं और रानियों, तानाशाहों और सेनापतियों, संतों, पवित्र पुरुषों और किंवदंतियों, सुपरस्टार और सितारों के पैरों के नीचे से कालीन खींचो जो किसी भी अन्य मनुष्यों की तरह व्यवहार करते है जब उनके लिए अपने सभी धार्मिक, धन, अपने महलों, विलासिलाओं मकानों और बंगलों और हॉलिडे रिसॉर्ट्स को छोड़ने का समय होता है, और जो लोग भाग्यशाली होते हैं वे इस दृश्य को देखते हैं जहां जीवन में हर चीज का अंत होता है और वे यह नहीं सीखते हैं या यह जानने की परवाह तक नहीं करते हैं कि वास्तव में उनके साथ क्या होगा, वे मृत्यु की वास्तविकता को भूल जाते हैं और ऐसे ही जीते रहते हैं जैसे कि उनके लिए कोई कल नहीं होगा, जब कि हकीकत यह है कि उनकी कहानियाँ कुछ सेकेंड के भीतर या सिर्फ एक सेकंड में समाप्त हो सकती हैं। लेकिन आदमी कभी नहीं सीखा है और न ही कभी सीखेगा और जब सीखने का समय होता है, तो पहले ही बहुत देर हो चुकी होती है।

अली पीटर जॉन

ये काले विचार जो सत्य भी हैं, मुझे सता रहे हैं क्योंकि कोरोना वायरस की दूसरी लहर ने पहली लहर से अधिक तेजी से सब खत्म कर रही है और डरे हुए लोगों के दिमाग की स्थिति मुझे चिंतित करती है और आश्चर्यचकित करती है कि, क्या यह क्रूर लहर वह लहर है जो हम से सब छीन लेगी!

और जैसे-जैसे मेरा दिमाग हर जगह से आने वाली निराशाजनक खबरों से परेशान होता रहता है, मैं उन कुछ पुरुषों और महिलाओं के बारे में सोचता हूं जो अपने विश्वास के साथ जीते थे।

एडॉल्फ हिटलर ने कभी मौत को गंभीरता से नहीं लिया उन्होंने पूरी दुनिया पर शासन किया लेकिन कैंसर ने उन्हें हरा दिया और उनकी जिंदगी छीन ली थी।

मुसोलिनी ने भी मृत्यु को कोई सम्मान नहीं दिया और जब तक उसे एहसास हुआ की मृत्यु क्या कर सकती है, तब तक उसके लिए सब खत्म हो गया था।

भारत की आयरन वीमेन, श्रीमती इंदिरा गांधी एक जबरदस्त ताकत बन गई थीं और ऐसा लग रहा था कि वह लंबे समय तक भारतीय दृश्य पर हावी रहेंगी, एक सुबह उन्हें अपने ही घर के बाहर गोलियों से छलनी कर दिया गया था।

टाइगर जिसका शब्द महाराष्ट्र और विशेषकर मुंबई में कानून था, जब तक वह गंभीर रूप से बीमार नहीं पड़ा, तब तक वह एक बाघ था और बीमारी के बाद लीलावती अस्पताल में भर्ती था और तीव्र दर्द में था और वह उन शानदार दिनों के बारे में सोच भी नहीं सकते थे जब उसके शब्दों ने लोगों को हिला दिया था। सभी बेहतरीन डॉक्टर और सभी बेहतरीन दवाएं और उनके दोस्त अमिताभ बच्चन का निरंतर समर्थन भी उन्हें बचाने में काम नहीं आ पाया था और जब उनकी मृत्यु हुई, तो मुंबई पर कहर बरपा की कैसे वे अपने अनुयायियों के बीच मृत्यु भी लोकप्रिय हो गए थे।

अखबार बैरन, श्री रामनाथ गोयनका और लोकप्रिय अभिनेत्री नूतन बीच कैंडी अस्पताल के एक ही वार्ड में कैंसर से जूझ रहे थे और कभी-कभी भगवान और डॉक्टरों को कोस रहे थे और उनसे उनका सब कुछ लेने और उन्हें बचाने के लिए कह रहे थे, लेकिन वे दो दिनों के भीतर मर गए थे।

यही हाल अरबपति धीरूभाई अंबानी, निर्देशक राज खोसला और प्रख्यात नाटककार विजय तेंदुलकर का हुआ था।

डॉ.नीटू मांडके नाम का एक युवा मेडिकल जीनियस थे। वे बॉम्बे के अस्पतालों में दिल की सर्जरी करते थे। वह एक अस्पताल से उपनगरों तक के लिए ड्राइव कर रहे थे! वह अपनी छोटी कार खुद चला रहे थे। प्रसिद्ध माहिम चर्च के बाहर एक ट्रैफिक रुका हुआ था। सिग्नल हरा हो गया और लगातार हॉर्न बज रहे थे लेकिन छोटी कार नहीं चल रही थी। कार में जवान डॉ.नीटू मांड़के थे और उन्हें दिल का दौरा पड़ा था और उनकी मृत्यु हो गई थी। बालासाहेब ठाकरे जो उनके पेशेंट थे, उनकी याद में एक अस्पताल का निर्माण करना चाहते थे, लेकिन सालों तक कोई ईंट नहीं रखी गई थी। और इस अस्पताल का निर्माण अंबानियों ने अपनी मां को श्रृद्धांजलि के रूप में किया था और इसका नाम कोकिलाबेन धीरूभाई अंबानी अस्पताल रखा गया था और ग्राउंड फ्लोर पर एक कन्वेंशन सेंटर है जिसका नाम डॉ.नीटू मंडके के नाम पर रखा गया है।

फिल्म उद्योग के उन अन्य लोगों में जो जवानी में मर गए थे, वे थे के.आसिफ, मधुबाला, मीना कुमारी, संजीव कुमार, विनोद मेहरा, आर.डी.बर्मन, दिव्या भारती और कई अन्य।

कहानियों में से एक युवा के बारे में है जो सुभाष घई के साथ उद्योग में आए थे। वह एक अमीर आदमी थे, जो जब वह कुछ भी नहीं थे तब भी एक स्टार की तरह रहते थे। उनके पास सबसे अच्छे घर और बेहतरीन कारों का बेड़ा था। उन्होंने हर पॉश होटल में पार्टी की और 9 फिल्मों को साइन करने में सफल रहे। वह अचानक लापता हो गए थे और एक समुद्र किनारे मृत पाए गए थे और इसके बारे में फिर कभी कुछ भी नहीं सुना गया था।

अब जाने-माने अभिनेता अनुपम खेर एक और अभिनेता मित्र के साथ बॉम्बे आए थे। और उस आदमी का शरीर भी जुहू समुद्र किनारे एक कोने में मिला था

यहाँ कब क्या होगा उसके साथ खुदा भी नहीं बता सकता, इसलिए कहता हूँ की जब तक यहाँ हो नम्रता से रहो, घमंड को पैरो के नीचे रखो और अपने हुनर के बल पर आगे बढ़ते रहो, जब सूरज और चादनी, को भी झुकना और ढलना पड़ता है, तो आप क्या चीज है, जनाब?

अनु-छवि शर्मा

 


Like it? Share with your friends!

Mayapuri

अपने दोस्तों के साथ शेयर कीजिये