अमिताभ बच्चन और जया बच्चन की प्रेम कहानी – अली पीटर जॉन

1 min


मैं जितना अमिताभ बच्चन और जया बच्चन के बारे में सोचता हूं उतना ही सोचता चला जाता हूँ, मैं यह सोचता कि उनके 47 साल पहले (3 जून 1973 को इनकी शादी हुई थी) उनका यह रिश्ता एक परियों की कहानी की तरह हैं, जो पहले कभी बताया या लिखा नहीं गया है।

यह बहुत पावरफुल सत्तर का दशक था जब प्रसिद्ध लेखक और पत्रकार तरुण कुमार भादुरी की बेटी जया भादुरी एफटीआईआई में एक छात्रा थीं। यह इस समय के आसपास था कि एक लंबा युवक, जिसकी कोई कल्पना नहीं कर सकता था कि वह हिंदी फिल्मों में एक अभिनेता हो सकता है, लेकिन उसके पास खुद में आत्म विश्वास था कि वह खुद को बना सके। के.ए अब्बास द्वारा खोजे जाने के बाद उन्होंने “सात हिंदुस्तानी” में अपना डेब्यू किया था। श्रीमती इंदिरा गांधी भारत की तत्कालीन प्रधान मंत्री, जो उनकी माँ श्रीमती तेजी बच्चन की बहुत करीबी दोस्त थीं, जिनके पति, महान हिंदी कवि, डॉ.हरिवंशराय बच्चन, पंडित जवाहरलाल नेहरू के सबसे अच्छे मित्रों और सांस्कृतिक सलाहकारों में से एक थे।

यह “सात हिंदुस्तानी” के तुरंत बाद था कि नवोदित अभिनेता अमिताभ का एफटीआईआई में जाने का मन था, जहाँ उन्होंने डैनी डंगज़ोनपा, रमेश शर्मा और जया भादुरी के साथ दोस्ती की, जिन्होंने अपने लक्ष्य का पीछा करते हुए दोस्तों की एक टीम बनाई, जो फिल्म उद्योग में सफलता हासिल कर रहे थे।

कहते है कि अमिताभ की एफटीआईआई की इन यात्राओं के दौरान, जया जो एफटीआईआई से थी, उनके दिल में यह ख्याल था कि यह लंबा आदमी ही उनके सपनों का सह्ज़दा है और यह वही आदमी है जिससे वह शादी करना चाहती है।

अमिताभ ने “आनंद”, “परवाना” (एक खलनायक के रूप में) और “बॉम्बे टू गोवा” जैसी अन्य फिल्में साइन कीं। जया ने “गुड्डी” और “पिया का घर” जैसी फ़िल्में साइन कीं और एक मशहूर अभिनेत्री बन गई थीं। अमिताभ अपने अन्य दोस्तों जैसे असरानी और टीनू आनंद से मिलने जाते रहे जो जुहू में स्थित बीच अपार्टमेंट में रहते थे और उनकी अनुमति के वह साथ अलग-अलग स्टूडियो में जाते थे जहाँ वे शूटिंग किया करते थे और इन मीटिंग के कारण अमिताभ और जया करीब आए थे और रिश्ते तब बेहतर हो गए जब उन्हें “बंसी बिरजू” और “एक नज़र” जैसी फ़िल्मों में साथ काम किया जो अच्छी फ़िल्में थीं लेकिन अभिनेताओं, अमिताभ और जया की नई टीम के साथ कोई प्रभाव नहीं डाल सकीं।

उनके पास कुछ और फिल्में थीं, जो पहले की फिल्मों के कारण अच्छी नहीं थीं, अमिताभ लगातार संघर्ष करते रहे, जबकि जया बड़ी और बेहतर फिल्में साइन करती रहीं। उन्होंने प्रकाश मेहरा की “जंजीर” साइन की थी। मेहरा को फिल्म के लिए नायक की कास्टिंग को लेकर गंभीर समस्याएं थीं। बड़े नायकों ने अपने कारणों से फिल्म को ठुकरा दिया था, जिन्होंने “जंजीर” में इंस्पेक्टर विजय की भूमिका को अस्वीकार कर दि थी, वे थे धर्मेंद्र, देव आनंद और राज कुमार।

यह मेहरा के दोस्त थे, अनुभवी अभिनेता ओम प्रकाश और प्राण जिन्होंने “परवाना” और “बॉम्बे टू गोवा” जैसी फिल्मों में अमिताभ के काम को देखा था। उन्होंने मेहरा को “जंजीर” में भूमिका के लिए उन्हें लेने के लिए कहा था। मेहरा ने अपने लेखकों की टीम, सलीम-जावेद से “लंबू अभिनेता” को देखने के लिए कहा और उन्होंने केवल “बॉम्बे टू गोवा” में उनके द्वारा किए गए एक्शन दृश्यों को देखा और “जंजीर” के लिए “लंबू अभिनेता” को लेने की सिफारिश की। मेहरा ने अपनी नायिका के रूप में जया को लेने का फैसला किया था और वह सहमत थी। “जंजीर” की शूटिंग पूरी हो गई, मेहरा को वितरकों को ढूंढना मुश्किल हो गया, उन्होंने किसी तरह उन्हें ढूंढ लिया, “जंजीर” को बी-ग्रेड एक्शन फिल्म के रूप में जारी किया गया, रिलीज के दिन दोपहर के बारह बजे अमिताभ बच्चन कुछ भी नहीं थे और दोपहर के तीन बजे वह एक स्टार थे और शाम छह बजे लोगों ने अमिताभ बच्चन को राजेश खन्ना की जगह अगले सुपरस्टार के रूप में ले लिया था और अब उन्हें कोई नहीं रोक सकता था।

एक दर्जन से अधिक बार फ्लॉप फिल्मे देने के बाद अमिताभ इस सफलता से बहुत खुश थे उन्होंने अपने करीबी दोस्तों से वादा किया कि वह लंदन में उनके लिए एक छुट्टी की मेजबानी करेंगे (अमिताभ पहले कभी लंदन नहीं गए थे)। उन्होंने जिन दोस्तों को आमंत्रित किया था, उनमें जया भी थी, जो अब केवल एक करीबी दोस्त या सहकर्मी नहीं थी, बल्कि उन्हें अपने इस ड्रीम बॉय से प्यार हो गया था और उन्होंने उनसे शादी करने की योजना भी बना ली थी।

अमिताभ के पिता को उनके बेटे और जया के डेटिंग के बारे में पता चला था और जब उन्हें पता चला कि वे छुट्टी पर जा रहे हैं, उन्होंने अमिताभ को अपने कमरे में बुलाया और उनसे कहा कि वह उन्हें जया के साथ छुट्टियों पर नहीं जाने देंगे, जब तक कि दोनों शादी नहीं कर लेते। यह परमानंद और घबराहट का पल था। मालाबार हिल्स में जया के दोस्तों में से एक का घर वेन्यू के रूप में चुना गया था। एक पंडित की व्यवस्था की गई थी, जया और अमिताभ दोनों के दोस्तों में संजय गांधी भी शामिल थे, जो उन दिनों खबरों में थे, क्योंकि वे देश में उन सभी स्थितियों के कारण पैदा कर रहे थे, जो अंततः इमरजेंसी की ओर ले गईं थी। अमिताभ और जया की शादी 3 जून 1973 की शाम को हुई और अगले दिन दोस्तों के ग्रुप ने छुट्टी के लिए अमिताभ और जया के हनीमून के लिए लंदन की फ्लाइट ली। यह एक असामान्य स्थिति थी, लेकिन जीवन हमेशा अमिताभ और जया के लिए असामान्य स्थितियों की एक सीरीज रहा है।

अमिताभ और जया ने दूसरी बार फिल्म ‘अभिमान’ में पति-पत्नी के रूप में भूमिका निभाई थी जिसके बाद जया ने फिल्मों में काम करना छोड़ दिया और बच्चन परिवार के घर को बसाने पर ध्यान केंद्रित किया जिसमें एक बेटा, अभिषेक और एक बेटी श्वेता शामिल थे और यह ‘परी’ की कहानी जारी रही।

वह 78 की उम्र में हैं जब मैं उनकी इस परियों की कहानी को लिख रहा हूं, अमिताभ का यह सफ़र आभी भी जारी है, जो मुझे 35 साल से अधिक समय पहले दिए गए एक बयान की याद दिलाता है जिसमें उन्होंने कहा था कि वह तब तक काम करेंगे जब तक कि वह अस्सी के नहीं हो जाते और भले ही उन्हें पार्टी के दृश्य या भीड़ के दृश्य के लिए शूट करने के लिए कहा जाए। और जया राज्यसभा में समाजवादी पार्टी का प्रतिनिधित्व करने वाली संसद सदस्य के रूप में अपने काम में व्यस्त हैं। अभिषेक बच्चन और ऐश्वर्या अपनी बेटी आराध्या के साथ मिलकर बहुत खुशहाल जीवन जी रहे हैं और श्वेता नंदा और निखिल नंदा की बेटी नव्या नवेली हैं, जो इस परियों की कहानी को जारी रखने के लिए एक कारण है, और शायद वह भी फिल्मों में अपनी शुरुआत करेगी।


Like it? Share with your friends!

Mayapuri

अपने दोस्तों के साथ शेयर कीजिये