अमिताभ बच्चन बहुत उत्साही, संवेदनशील और मददगार हैं : सुधा वर्गीस

1 min


हमें केबीसी करमवीर के रूप में अपने अनुभव के बारे में बताएं ?

सुधा वर्गीस (एसवी): कौन बनेगा करोड़पति पर मेरा अनुभव बहुत ही अच्छा रहा। यह संबंधित लोगों को समाज, समुदाय या दुनिया में होने वाली घटनाओं के बारे में सोचने का अवसर प्रदान करता है और  समाज के प्रति हमारे योगदान को समझता है। महिलाओं के लिए स्थिति इतनी नकारात्मक और शोषण करने वाले क्यों है? वह इतने हाशिये पर क्यों है? इसलिए इसके जैसे एपिसोड (कर्मवीर जैसे)  जनता को इन लोगों की तकलीफों के बारे में बताने के बारे में जागरूक करने के लिए जरूरी हैं. हम सबके बीच एक ऐसी दुनिया छिपी हुई है जो अन्याय, भेदभाव और कई समस्याओं से पीड़ित है जो उनके जीवन को प्रभावित करती है। यह एक अच्छी पहल है और इस तरह के अभियान और एपिसोड उन लड़कियों के प्रति हो रहे अन्याय के प्रति दृष्टिकोण बदलने में मदद करेंगे।

मेरा अनुभव बहुत ही अद्भुत था क्योंकि मैंने कभी भी कौन बनगा करोड़पति जैसे शो पर आने की कल्पना नहीं की थी। यह एक शो है जो बहुत आकर्षक है। विशेष रूप से अमिताभ जी के साथ, शो बहुत ही आकर्षक बनजाता है, लोगों में उत्साह रखता है और पूरे देश को शो में ही अमिताभ बच्चन टिकाए रखते हैं। मुझे पसंद है जिस तरह से वह समझने की कोशिश करते हैं कि क्या दिखाया जा रहा है और क्या शेयर किया जा रहा है । वह बहुत ही संवेदनशील, है। वह मुद्दों को गहराई से समझाते हैं और लोगों को मुद्दों को समझना सिखाते हैं।

हमें नारी गुंजन के बारे में कुछ बताइए?

सुधा वर्गीस (एसवी): यह संगठन हाशिये पर बैठी हुई महिलाओं के लिए हैं जो समाज की मुख्यधारा से कहीं छूट गयी हैं। हम अभी भी विकास के चरण में हैं लेकिन अब मैं शिक्षा के कारण छोटे बदलाव देख रही हूं। मुझे लगता है कि हमें अब महिलाओं से संबंधित मुद्दों पर बात करने से डरना नहीं चाहिए। हमें बाहर निकलने और अधिक से अधिक महिलाओं की मदद करने के लिए और ज्यादा लोगों की जरूरत है।

जीतने की राशि के साथ आप क्या करने की योजना बना रही हैं?

सुधा वर्गीस (एसवी): हमारा ध्यान जरूरतमंद महिलाओं पर है। जो महिलाएं भूमिहीन हैं, जिनके पास कोई संपत्ति नहीं थी और आज वह अपनी ज़िन्दगी चलाने के लिए कुछ न कुछ करने की कोशिश कर रही हैं और अपने बच्चों को बाहर पढने के लिए भेज पा रही हैं और नए रास्तों में चुनौतियां ले रही हैं। हमारे पास 350 महिलाएं खेती कर रही हैं और फ़ूड प्रोसेसिंग कर रही हैं या कुछ दुकानों को शुरू कर रही हैं या फिर खाना या फल बेच रही हैं। आगे बढ़ने के लिए हमेशा बड़ी महत्वाकांक्षा और इच्छाओं की आवश्यकता होती है।

➡ मायापुरी की लेटेस्ट ख़बरों को इंग्लिश में पढ़ने के लिए  www.bollyy.com पर क्लिक करें.
➡ अगर आप विडियो देखना ज्यादा पसंद करते हैं तो आप हमारे यूट्यूब चैनल Mayapuri Cut पर जा सकते हैं.
➡ आप हमसे जुड़ने के लिए हमारे पेज Facebook, Twitter और Instagram पर जा सकते हैं.

 

SHARE

Mayapuri