आजकल औरतों का क्रूरता से निरादर होता है – अमिताभ बच्चन

1 min


लेखक निर्माता व निर्देशक शूजीत सरकार की फिल्म ‘पिंक’ का हाल ही में ट्रेलर लांच हुआ। अलग सी कहानियों को अपनी फिल्मों में दिखाने के लिये मशहूर शूजीत सरकार ने इस बार फिल्म में अपने फेवरेट अमिताभ बच्चन के अलावा दिल्ली की तीन लड़कियों को फिल्म का आधार बनाया है। इन लड़कियों की भूमिका में दिखाई देने वाली हैं तापसी पन्नू कीर्ती कुल्हारी तथा आंद्रिया। ट्रेलर के अवसर पर अमिताभ समेत वहां उपस्थित कलाकारों से हुआ एक छोटा सा वार्तालाप।

फिल्म में वकील की भूमिका करने वाले अमिताभ सबसे पहले फिल्म के अनोखे टाइटल को लेकर कहते हैं दरअसल पिंक ओरतों का कलर माना जाता है और ये फिल्म भी औरतो को लेकर हैं लिहाजा इसीलिये इसे ये शीर्षक दिया गया। ओरतो को लेकर अमिताभ कहते हैं कि हमारी संस्कृति में औरत को देवी को प्रतीक माना जाता रहा है। लेकिन आज इन्हें बहुत ही निरादर की दृष्टी से देखा जाता है, इनका क्रूरता से निरादर होता है। जब कि ये विश्व ओरतों की बदौलत ही है मर्दो की ताकत में पचास प्रतिशत औरत की ताकत भी शामिल होती है जिसे हम पहचान नहीं रहे हैं। ये सब शूजीत सरकार इस फिल्म के जरिये बताना और कहना चाहते हैं। अमिताभ ने बताया कि निर्देशक अनिरूद्ध रॉय चैधरी इस फिल्म को बांगला में बनाते हुए कोलकाता बेस्ड करना चाहते थे लेकिन इसे दिल्ली में बनाने का उनका फैसला था। अमिताभ आगे कहते हैं कि हम आज कहीं न कहीं औरतो को सम्मान देना भूल गये हैं उनकी इज्जत करना भूल गये हैं। इस बात का सुबूत निर्भया कांड या मुज्जफरनगर जैसी रेप की घटनायें हैं।
कहा जाता हैं कि ये फिल्म दिल्ली में हुए निर्भया कांड पर आधारित है। इस पर शूजीत सरकार का कहना था कि वैसे ये कहानी दिल्ली की बैकग्राउंड पर

आधारित तीन ऐसी लड़कियों को दृर्शाती है जिन पर हुए हिंसा के भी कई सीन है। बेशक फिल्म में निर्भया कांड केस को भी फॉलों किया गया हैं लिहाजा उसकी भी कहानी में हल्की सी छाया मिलेगी लेकिन ये पूरी तरह से निर्भया पर आधारित फिल्म नहीं है। हमने ये दिखाने की कोशिश की है कि औरतों की साझेदारी हमारे और समाज के लिये कितनी अहम है।

तापसी पन्नू फिल्म में काफी मजबूत भूमिका में नजर आने वाली हैं। फिल्म के अनुभव पर तापसी का कहना था कि फिल्म के दौरान कहीं मुझे थोड़ी परेशानी महसूस हुई तो कहीं आसानी। ये भूमिका चूंकि दिल्ली की एक लड़की की है और मैं भी दिल्ली की रहने वाली हूं इसलिये इसे निभाने में मुझे कुछ ज्यादा नहीं करना पड़ा। तापसी कहती है दो महीने की शूटिंग के दौरान कई बार ये भूमिका ने मुझ पर हावी होने की कोशिश की। रोल इतना स्ट्रांग था कि बार मैं बहत इमोशनल हो रो पढ़ती थी। तापसी का कहना है कि इस फिल्म से मेरा सबसे बड़ा सपना पूरा हुआ, वो था अमिताभ सर के साथ काम करना।
फिल्म के अन्य प्रमुख कलाकार हैं अमिताभ बच्चन, तापसी पन्नू, पीयूष मिश्रा, अंगद बेदी, कीर्ती कुल्हारी, आंद्रिया

SHARE

Mayapuri