INTERVIEW: “हालात को झेलते हुए भी हमारे जवान मुस्कुराते हुए हमारी रक्षा करते है” अर्जुन रामपाल 

1 min


लिपिका वर्मा 

अर्जुन रामपाल मॉडल रह चुके एक बहुत ही हैंडसम बॉलीवुड एक्टर भी माने जाते  है। उनकी फिल्म, “रॉक ऑन 2” इस शुक्रवार बॉक्स ऑफिस पर अपना जलवा बिखेरने आ रही है। यह एक सीक्वल फिल्म मानी जा रही है। यूँ  मानो नवम्बर जैसे सीक्वल माह ही बन चला हो। क्योंकि साथ ही कहानी 2 फिल्म भी है जिसमें अर्जुन नजर आने वाले है।

आप एक  सीक्वल फिल्म नहीं बल्कि  दो  दो –सीक्वल फिल्मों का हिसा है। फिल्म  कहानी 2, भी है –  क्या कहना है आपको?

देखिये, हमारे हिसाब से रॉक-ऑन 2 की कहानी आगे बढ़ रही है। पिछली रॉक ऑन में जितने किरदार थे उनके आठ वर्ष बीत गए है। सो वहां से लेकर इन आठ वर्षों में उन सब में कितना बदलाव आया है, यह कहानी को आगे ले जाती हुई नजर आएगी। यह भी ध्यान  में रखा गया है कि लोग इन दोनों फिल्मों की तुलना (रॉक ऑन एंव रॉक ऑन 2)  जरूर करेंगे। सो आपको फिल्म रॉक ऑन देख कर ही यह अनुमान लगाना होगा कि यह पहली फिल्म से कितनी अलग है फिल्म, “कहानी 2” भी सीक्वल नहीं कही जा सकती है।rampal

आपके बच्चो ने दोनों फिल्मों के ट्रेलर देखें होंगे ,क्या कहना है उनका ?

उन्हें रॉक ऑन 2 का ट्रैलर बहुत पसन्द आया है। मेरे बच्चो को मेरी तरह म्यूजिक बहुत पसन्द है। और इस में आधुनिक म्यूजिक का तड़का भी लगाया गया है। किन्तु उन्हें फिल्म, “कहानी  2 “का ट्रेलर बिलकुल भी समझ नहीं आया है। मेरे बच्चो को फिल्म, “कहानी 2” सुपर नेचुरल फिल्म लग रही है। और वैसे भी मुझे उनके लिए कभी न कभी तो एक सुपर नेचुरल फिल्म करनी है। मुझे किसी भी तरह यह इच्छा उनकी पूरी करनी है।

हाल ही में आप सियाचिन जवानों से भेंट करने गए थे, कैसा तजुर्बा रहा आपका?

सबसे बढ़िया बात हमें यह लगी कि हम स्पेशल हवाई जहाज (चॉपर) पर सवार होकर नहीं गए थे। और ना ही हमने जवानों को कोई लड्डू बाँटे  और ना ही उनके गले में हार पहनाये। किन्तु हम ही उनकी तरह ही ट्रेनिंग कर के उन ऊंचाईयों पर पहुंचे थे। हम चाहते थे जवानों की विधवाओ को कुछ पैसे दे दे। किन्तु उन्होंने इन पैसो को लेने से इंकार कर दिया। और बहुत ही गर्व से कहा – हमारी भारत सरकार हमारा  बराबर से ख्याल   रख रही है। हमारी जरूरते पूरी कर रही है। सो हमे कोई पैसो की आवयश्कता नही है। इस जगह की एक खसियत है – यदि एक  कीला भी ज़मीन पर गिरे  तो उसकी आवाज़ साफ़ सुनाई देती है। जवान बेचारे बर्फ पर सोते है। वहाँ की हालात बहुत ही ख़राब है। हमे उन पर गर्व होना चाहिए क्योंकि इन सब हालात को झेलते हुए भी हमारे जवान मुस्कुराते हुए  हमारी रक्षा करते है।arjun-rampal

आपकी माताश्री  आपकी ताकत है क्या कहना चाहेंगे आप?

हम सब परिवार को जोड़े रखने में हमारी माँ का बहुत बड़ा हाथ है। वो ब्रैस्ट कैंसर से पीड़ित है। किन्तु इस बीमारी को उन्होंने बहुत ही हिमत से झेला है। हमे ख़ुशी है कि- मेरी माँ की हालात धीरे धीरे सुधर रही है। और माँ को यह भी एहसास हो गया है  कि -उन्हें इसी तरह जीना है। वह हम सबको ढढास बन्धाती रहती है और यही कहती है – सबकुछ ठीक हो जायेगा। बस अब हम सब माँ के साथ ख़ुशी ख़ुशी जीवन बिता रहे है।

आपकी माँ जब आपके बारे में कुछ अच्छी खबर नहीं सुनती है तो कैसा रिएक्शन होता है उनका?

हंस कर अर्जुन ने कहा – बस यही कहती है – लोग इतना झूठ कैसे लिख सकते है ? सो मेरी कॉन्ट्रोवर्सी को कुछ एहमियत नहीं देती है।

आपकी बड़ी सुपुत्री क्या अभिनय में अपना हाथ आजमाना चाहेगी ?

जी हाँ ,वो बहुत ही नौटंकी करती रहती है। हमे  मालूम होता है वो अभिनय करना चाहेगी। उसमें एक्टिंग का कीड़ा तो है ही। बस माता- पिता की हैसियत से हम अपने बच्चो का साथ जरूर देंगे। वो जो कुछ भी जीवन में करना चाहेंगे , वो कर सकते है।arjun

आपने बॉलीवुड में आने का कैसे सोचा ?

अपने बच्चपन की यादें ताजा करते हुए अर्जुन  बोले- हम लोग घर से बाहर यानि खेल कूद, तैराकी, घुड़सवारी इत्यादि में बहुत मशगूल रहते थे। जबकि आज के बच्चे व्हाट्सअप, मोबाइल फ़ोन सोशल मीडिया में ही व्यस्त रहते है। उन्हें धक्के मार  कर बाहर जाने को कहना पड़ता है। और हाँ मैंने जब पहली बारी फिल्म “बेताब” देखी थी तब मैं लगभग 10-11 वर्ष का रहा हूँगा। बस तब से ही मुझे फिल्मों में काम करने का चस्का लग गया था।

अर्जुन रामपाल की इस वर्ष दो फ़िल्में रिलीज़ होने को है – रॉक ऑन 2, कहानी 2 और डैडी 2017  में रिलीज होने को है। फिल्म डैडी से अर्जुन बतौर निर्माता भी बन जायेंगे। फिल्म डैडी को लेकर अर्जुन खासा उत्साहित है किन्तु इस फिल्म के बारे में अभी कुछ बोलना नहीं चाहते है।


Like it? Share with your friends!

Mayapuri

अपने दोस्तों के साथ शेयर कीजिये