आशा भोंसले

1 min


आशा भोंसले का जन्म 8 सितम्बर, 1933 महाराष्ट्र में हुआ और वह मशहूर पार्श्वगायिका और लता मंगेशकर की छोटी बहन और दीनानाथ मंगेशकर की पुत्री हैं। आशा जी ने फ़िल्मी और ग़ैर फ़िल्मी जगत के लगभग 16 हज़ार गाने गाए हैं और इनकी आवाज़ के प्रशंसक पूरी दुनिया में फैले हुए हैं। उन्होंने 800 से अधिक फ़िल्मों में दस हज़ार से ज़्यादा गाने गाए हैं। महान भारतीय गायिका आशा भोंसले का नाम दुनिया में संगीत की 20 शीर्ष हस्तियों में शामिल किया गया है। सीएनएन के ज़रिये तैयार पिछले 50 सालों की संगीत की शीर्ष हस्तियों की इस सूची में आशा भोंसले का नाम आता है। गायन की विविधता से आशा ने अपने करियर के छह दशकों में ऊँचाई हासिल की। बड़ी बहन लता मंगेशकर की छत्रछाया में आशा जी ने पा‌र्श्वगायन प्रारंभ किया। 1957 में दिलीप कुमार और वैजयंतीमाला अभिनीत ‘नया दौर’ फ़िल्म के ‘मांग के साथ तुम्हारा’ गीत से आशा जी ने लोकप्रियता हासिल की।

05asha-bhosle-birthday1

आशा भोंसले का जन्म 8 सितम्बर 1933 को महाराष्ट्र के ‘सांगली’ में हुआ था। आशा भोंसले का नाम विश्व के सबसे जाने माने लोगों में आता है। आशा भोंसले का जन्म संगीत से जुड़े परिवार में हुआ था। आशा भोंसले के पिता दीनानाथ मंगेशकर प्रसिद्ध गायक एवं नायक थे। जिन्होंने शास्त्रीय संगीत की शिक्षा काफ़ी छोटी उम्र में ही आशा जी को दे दी थी। आशा जी जब केवल 9 वर्ष की थीं तब इनके पिता की मृत्यु हो गई। पिता के मरणोपरांत, आशा भोंसले जी का परिवार पुणे से कोल्हापुर और उसके बाद बम्बई आ गया।

परिवार की सहायता के लिए आशा और इनकी बड़ी बहन लता मंगेशकर ने गाना और फ़िल्मों में अभिनय शुरू कर दिया। आशा जी की बहनें लता मंगेशकर और उषा मंगेशकर गायिका है। आशा भोंसले जी की अन्य दो सहोदर बहन मीना मंगेशकर और भाई हृदयनाथ मंगेशकर संगीत निर्देशक है। आशा जी किनारों वाली सफ़ेद चमकदार साड़ी, व गले में मोतियों का हार पहनती हैं।

बॉलीवुड का सबसे चमकीला सितारा आशा भोंसले पा‌र्श्वगायन की मलिका हैं। आशा जी के द्वारा 12000 से अधिक गीत गाए गये हैं। 1943 में आशा भोंसले जी ने अपनी पहली फ़िल्म (मराठी) ‘माझा बाळ’ में गीत गाया। यह गीत ‘चला चला नव बाळा…’ दत्ता दवाजेकर के द्वारा संगीतबद्ध किया गया था। 1948 में हिन्दी फ़िल्म ‘चुनरिया’ का गीत ‘सावन आया…’ हंसराज बहल के लिए गाया। दक्षिण एशिया की प्रसिद्ध गायिका के रूप में आशा जी ने गीत गाए। फ़िल्म संगीत, पॉप, गज़ल, भजन, भारतीय शास्त्रीय संगीत, क्षेत्रीय गीत, कव्वाली, रवीन्द्र संगीत और नजरूल गीत इनके गीतों में सम्मिलित हैं। इन्होंने 14 से ज़्यादा भाषाओं में गीत गाए जैसे– मराठी, असमिया, हिन्दी, उर्दू, तेलुगु, बंगाली, गुजराती, पंजाबी, तमिल, अंग्रेज़ी, रशियन, जाइच, नेपाली, मलय और मलयालम आदि।

आशा भोंसले जी ने 16 वर्ष की उम्र में अपने 31 वर्षीय प्रेमी ‘गणपत राव भोंसले’ (1916-1966) के साथ घर से पलायन कर पारिवारिक इच्छा के विरूद्ध विवाह किया। गणपत राव लता जी के निजी सचिव थे। यह विवाह असफल रहा। पति एवं उनके भाइयों के बुरे बर्ताव के कारण इस विवाह का दु:खान्त हो गया। 1960 के आसपास विवाह विच्छेद के बाद आशा जी अपनी माँ के घर दो बच्चों और तीसरे गर्भस्थ शिशु (आनन्द) के साथ लौट आईं। 1980 ई. में आशा जी ने ‘राहुल देव बर्मन’ (पंचम) से विवाह किया। यह विवाह आशा जी ने राहुल देव वर्मन के अंतिम सांसो तक सफलतापूर्वक निभाया।

आशा जी का घर दक्षिण मुम्बई, पेडर रोड क्षेत्र में प्रभुकुंज अपार्टमेंट में स्थित है। आशा भोंसले जी के तीन बच्चे हैं। साथ ही पाँच पौत्र भी हैं। इनका सबसे बड़ा लड़का हेमंत भोंसले है। हेमंत ने पायलट के रूप में अधिकांश समय बिताया। आशाजी की बेटी “वर्षा” हैं जो हेमंत से छोटी हैं। वर्षा ने ‘द सनडे ऑबजरवर’ और ‘रेडिफ’ के लिए कॉलम लिखने का काम किया। आशाजी का सबसे छोटा पुत्र आनन्द भोंसले है। आनन्द ने व्यापार और फ़िल्म निर्देशन की पढाई की। आनन्द भोंसले ही आशा के करियर की इन दिनों देखभाल कर रहे है। हेमंत भोंसले के सबसे बड़े पुत्र चैतन्या (चिंटु) “बॉय बैण्ड” के सफल सदस्य के रूप में विश्व संगीत से जुड़े हुए है। अनिका भोंसले (हेमंत भोंसले की पुत्री) सफल फोटोग्राफर के रूप में कार्य कर रही हैं।

एक समय जब प्रसिद्ध गायिका यथा- गीता दत्त, शमशाद बेगम और लता मंगेशकर का ज़माना था। चारो ओर इन्हीं का प्रभुत्व था। आशा जी गाना चाहती थी पर इन्हें गाने का मौक़ा तक नहीं दिया जाता था। आशा जी सिर्फ़ दूसरे दर्जें की फ़िल्मों के लिए ही गा पाती थी। 1950 के दशक में बॉलीवुड के अन्य गायिकाओं की तुलना में आशा जी ने कम बजट की ‘बी’ और ‘सी’ ग्रेड फ़िल्मों के लिए बहुत से गीत गाए। इनके गीतों के संगीतकार ए. आर. कुरैशी (अल्ला रक्खा खान), सज्जाद हुसैन और ग़ुलाम मोहम्मद थे। जो काफ़ी असफल रहे। 1952 ई. में दिलीप कुमार अभिनीत फ़िल्म ‘संगदिल’ जिसके संगीतकार सज्जाद हुसैन थे, ने प्रसिद्धि दिलाई। परिणाम स्वरूप विमल राय ने एक मौक़ा आशा जी को अपनी फ़िल्म ‘परिणीता’ (1953) के लिए दिया। राज कपूर ने गीत ‘नन्हे मुन्ने बच्चे….’ के लिए मोहम्मद रफी के साथ फ़िल्म ‘बूट पॉलिश’ (1954) के लिए अनुबंधित किया जिसने काफ़ी प्रसिद्धि आशा जी को दिलाई। ओ.पी. नैयर ने आशा जी को बहुत बड़ा अवसर ‘सी. आई. डी.’(1956) के गीत गाने के लिए दिया। इस प्रकार 1957 की फ़िल्म ‘नया दौर’ बी. आर. चोपड़ा ने नैयर साहब के संगीतकार रूप में आशा जी को बी. आर. चोपड़ा से पहली सफलता प्राप्त हुई। इस साझेदारी ने कई प्रसिद्ध गीतों को जनमानस के बीच लाने में महत्त्वपूर्ण योगदान दिया। फिर सचिन देव बर्मन और रवि जैसे संगीतकारो ने भी आशा जी को मौक़ा दिया। 1966 ई. में संगीतकार आर. डी. बर्मन की सफलतम फ़िल्म ‘तीसरी मंज़िल’ में आशा जी ने आर. डी. बर्मन के साथ काफ़ी प्रसिद्धि बटोरी। 1960 से 1970 के बीच प्रसिद्ध डांसर हेलन की आवाज़ बनी। ऐसा कहा जाता है कि जब भी आशा जी गाती थीं तो हेलन रिकाडिंग के समय मौजूद रहती थीं ताकि गाने को अच्छी तरह समझ सकें और अच्छी तरह नृत्य उस गाने पर कर सकें।

ashabhonsle

संगीतकार ओ.पी. नैयर की साझेदारी ने आशा भोंसले जी को एक ख़ास पहचान दिलाया। कई लोगों ने इनकी आपसी संबंध को प्रेम संबंध मान लिया। नैयर जी पहली बार 1952 में आशा जी से एक गीत ‘छम छमा छम…’ के संगीत रिकार्डिग के समय मिलें। पहली बार इन्होनें फ़िल्म ‘माँगू’ (1954) के लिए आशा जी को बुलाया। फिर इन्होनें एक बहुत बड़ा मौक़ा फ़िल्म सी.आई.डी. (1956) में आशा जी को दिया। इस प्रकार नया दौर (1957) की सफलता ने इन दोनो की प्रसिद्धी को बढ़ाया। 1959 के बाद भावनात्मक और व्यावसायिक तौर पर आशा जी नैयर जी के साथ जुड़ी रहीं। ओ.पी.नैयर और आशा भोंसले की यादगार फ़िल्मे यथा- मधुबाला पर फ़िल्मांकित गीत ‘आईये मेहरबाँ…’ (हावड़ा ब्रिज-1958) और मुमताज़ पर फ़िल्मांकित गीत ‘ये है रेशमी जुल्फों का अंधेरा… (मेरे सनम-1965) आदि है। ओ.पी. नैयर ने कई हिट गीतों को आशा जी के साथ रिकार्ड किया यथा- नया दौर(1957), तुमसा नहीं देखा(1957), हावड़ा ब्रिज (1958), एक मुसाफ़िर एक हसीना(1962), कश्मीर की कली(1964) आदि। इनकी साझेदारी की कुछ प्रसिद्ध गीत- आओ हुजुर तुमको…(क़िस्मत), जाईये आप कहाँ जाएगे…(मेरे सनम) आदि है। ओ.पी.नैयर की मो. रफी एवं आशा जी के साथ युगल गीत काफ़ी प्रसिद्ध हुए। इनके द्वारा गाए कुछ प्रमुख युगल गीत ‘उडे जब जब जुल्फें तेरी…(नया दौर), मै प्यार का राही हूँ…(एक मुसाफ़िर एक हसीना), दिवाना हुआ बादल…, इशारों इशारों में…(काश्मीर की कली) आदि। 5 अगस्त 1972 को दोनो में अलगाव हो गया। यह स्पष्ट नहीं हो पाया की किन कारणों से दोनों में अलगाव हुआ।

आशा जी और हेलन के प्रसिद्ध गीतों में ‘पिया तू अब तो आजा…’(कारवॉ), ‘ ओ हसीना जुल्फ़ों वाली…’(तीसरी मंजिल) और ‘ये मेरा दिल…(डॉन) शामिल है। 1981 में उमराव जान और इजाज़त (1987) में पारम्परिक गज़ल गाकर आशा जी ने आलोचकों को करारा जबाब दिया तथा अपनी गायन प्रतिभा का लोहा मनवाया। इन्हीं दिनों इन्हें उपरोक्त दोनों फ़िल्म के लिए राष्ट्रीय फ़िल्म पुरस्कार ‘बेस्ट फ़िमेल प्लेबैक सिंगर’ मिला। आशा जी 1990 तक लगातार गाती रही। 1995 की हिट फ़िल्म ‘रंगीला’ से एक बार पुन: अपनी दूसरी पारी का आरंभ किया। 2005 में 72 वर्षीय आशा जी ने तमिल फ़िल्म ‘चन्द्रमुखी’ और पॉप संगीत ‘लक्की लिप्स…’ सलमान ख़ान अभिनित के लिए गाया जो चार्ट बस्टर में प्रसिद्ध रहा। अक्टूबर 2004, ’द वेरी बेस्ट ऑफ आशा भोंसले’, ‘द क्वीन ऑफ बॉलीवुड’ आशा जी के द्वारा गाए गीतों का एलबम (1966-2003) रिलिज किया गया।

लता मंगेशकर के साथ आशा जी मराठी संगीत की सिरमौर रही है क्योंकि मराठी उनकी मातृभाषा है। आशा जी मराठी भाषा के अनेकों गीत गा चुकी है जिनमें प्रसिद्ध कविओं के कविता है, जो भाव गीत के रूप में प्रसिद्ध है। यथा प्रसिद्ध एलबन ‘रूतु हिरावा’ (‘ग्रीन सीजन’) जो श्रीधर पाडके द्वारा रचित है। अपने भाई हृदयनाथ मंगेशकर द्वारा संगीतबद्ध आशा जी के कई प्रसिद्ध गीत है। आशा जी द्वारा गाए मराठी भजन काफ़ी प्रचलित और प्रसिद्ध है।

आशा भोंसले अपने संगीतकार पति आर.डी.बर्मन के साथ कई हिट गाने दिये। ‘ओ हसीना’ और ‘पिया तू अब तो आजा’ जैसे आशा के सुपर हिट गीतों का संगीत बर्मन ने ही तैयार किया था। मदन मोहन जी के 20 साल के संगीत के सफ़र में उनके साथ आशा भोंसले ने 190 और लता मंगेशकर ने 290 फ़िल्मी गीत गाये। आशाजी और मदन मोहन जी ने कई फ़िल्मों में साथ काम किया।

फ़िल्म “नींद हमारी ख्वाब तुम्हारे” में मदनजी के सारे गीत आशाजी ने गाये थे। इस फ़िल्म का एक एक गीत अनमोल है। पहला नग्मा असल में एक ग़ज़ल है, जाने क्या हाल हो कल शीशे का पैमाने का। दूसरा गीत है, “सबा से ये कह दो कि कलियाँ बिछायें”, तीसरा अनमोल नग्मा है, “कोई शिकवा भी नहीं”

आशा भोंसले जी ने दो फ़िल्मों में काम किया। जिसमें एक हिन्दी फ़िल्म बड़ी मामी और एक मराठी फ़िल्म हैं। लेकिन अभिनय में उनकी ज़्यादा रूचि नहीं थी। उन्हें लगा कि अभिनय से अच्छा गाना है।

05ade99319c15ad569467747c17ca390

लता मंगेशकर एक मराठी फ़िल्म माझा बाड़ में काम कर रही थी। उसमें आशा भोंसले जी को गाने का मौक़ा मिला। उसके बाद ‘अंधों की दुनिया’ में बसंत देसाई ने आशा भोंसले जी को गाने का मौक़ा दिया। हंसराज बहल ने आशा भोंसले जी को हिन्दी फ़िल्म में पहली बार किसी अभिनेत्री के लिए गाने का मौक़ा दिया।

जब मदन मोहन के संगीत का ज़िक्र होता है साथ में हमेशा लता मंगेशकर जी की बात होती है। ठीक उसी तरह ओ. पी. नैय्यर साहब के संगीत के साथ आशा भोंसले जी का नाम आता हैं। लेकिन ये भी सत्य है कि आशा भोंसले ने मदन मोहन और गीता दत्त के साथ ओ. पी. नैय्यर के अनेकों अनमोल नग्में गाये हैं।

आशाजी गायिका के अलावा बहुत अच्छी कुक (रसोईया) है। कुकिंग इनका पसंदीदा शौक़ है। बॉलीवुड के बहुत सारे लोग आशा जी के हाथों से बनें ‘कढाई गोस्त’ एवं ‘बिरयानी’ के लिए अनुरोध करते हैं। आशा जी भी इनकार नहीं करती है। बॉलीवुड के ‘कपूर’ ख़ानदान में आशा जी द्वारा बनाए गये ‘पाया करी’, ‘गोझन फिश करी’ और ‘दाल’ काफ़ी प्रसिद्ध है। एक बार जब ‘द टाइम्स ऑफ इंडिया’ के एक साक्षात्कार में पूछा गया कि यदि आप गायिका न होती तो क्या करती? आशा जी ने जबाब दिया कि मैं एक अच्छी रसोईया (कुक) बनती। आशा जी एक सफल रेस्तरॉ संचालिका है। इनके रेस्तरॉ दुबई और कुवैत में आशा नाम से प्रसिद्ध है। ‘वाफी ग्रुप’ द्वारा संचालित रेस्तरॉ में आशा जी के 20% भागीदारी है। वाफी सीटी दुबई और दो रेस्तरॉ कुवैत में पारम्परिक उत्तर भारतीय व्यंजन के लिए प्रसिद्ध है। आशा जी ने ‘कैफ्स’ को स्वयं 6 महीनो तक ट्रेंनिग दी है। दिसम्बर 2004 ‘मेनु मैगजीन’ के रिपोर्ट के अनुसार ‘रसेल स्कॉट’ जो ‘हैरी रामसदेन’ के प्रमुख है आने वाले पाँच सालों में आशा जी के ब्रैण्ड के अंतर्गत 40 रेस्तरॉ पूरे यू. के. के अन्दर खोलने की घोषणा की है। इसी क्रम में आशा जी की की रेस्तरॉ ‘बरमिंगम’ यू. के. में खोला गया है। आशा जी एक अच्छी ‘मिमिक्री’ अदाकारा भी है।

SHARE

Mayapuri