लाॅक डाउन के वक्त निराशा के गर्त में समा रहे लोगों के बीच सकारात्मकता का बीज बोने के लिए आशा भोसले लेकर आयी हैं अपना यूट्यूब चैनल ‘‘आशा भोसले ऑफिशियल‘’

1 min


कोरोना और लाॅक डाउन के चलते अपने अपने घरों में कैद लोग धीरे धीरे डिप्रेशन का शिकार हो रहे हैं।कुछ लोग अपनी किस्मत को और कुछ लोग सरकार पर दोषारोपण कर रहे हैं।कोरोना महामारी की लंबी लड़ाई में लोग जिस तरह से निराश होते जा रहे हैं,यह वास्तव में चिंता का विषय है।वास्तव में लोग ‘‘अंधेरे में बैठकर अंधकार कोसने की बजाय दिया जलाकर उजाला/रोशनी फैलाने का प्रयास करना चाहिए।’’के सिद्धांत को भूल गए हैं।इसके अलावा लोग यह भी भूल गए हैं कि हमें अपने छोटों से भी कुछ न कुछ सीखते हुए और कुछ काम करते हुए खुद को निरंतर व्यस्त रखना चाहिए।पर सरकार व दूसरों को कोसते हुए डिप्रेशन का षिकार हो रहे लोगों में रचनात्मक इंसानों,फिल्म व टीवी कलाकारों के भी नाम सामने आ रहे हैं।

तो वहीं देश की तमाम बड़ी प्रतिभाएं खुद को व्यस्त रखते हुए ‘लाॅक डाउन’के समय का सदुपयोग भी कर रही हैं।ऐसी ही प्रतिभाओं में 86 वर्षीय मशहूर गायिका आशा भोसले हैं।कर्णप्रिय व मधुर आवाज की स्वामिनी आशा भोसले के गीत सुनने के लिए लोग बेताब रहते हैं।वह हमेशा सकारात्मक सोच के साथ कुछ न कुछ करती रहती हैं। जहाँ नई पीढ़ी के हर गायक व कलाकार ने ‘यूट्यूब’पर अपने अपने चैनल शुरू कर रहे हैं,वहीं आशा भोसले अब तक इससे दूरी बनाए हुए थीं।लेकिन ‘लाॅक डाउन’में अपनी पोती जानई भोसले को मोबाइल पर अपने ‘यूट्यूब’चैनल के लिए काम करते देख आशा भोसले ने भी अपना यूटूब चैनल ‘‘आशा भोसले ऑफिशियल‘’पर युवा पीढ़ी के लिए मूल कंटेंट को परोस रही हैं।यह एक अलग बात है कि इस बार वह अध्यात्म की बात कर रही हैं।

जी हाॅ!आषा भोसले ने अपने ‘यूट्यूब ’चैनल पर श्री श्री रविशंकर जी के साथ पहला गीत ‘मैं हूं’ डाला है।इस संबंध में बात करते हुए आशा भोसले ने अपने आध्यात्मिक पक्ष का भी खुलासा किया।वह कहती हैं-‘‘श्री श्री रविशंकरजी एक अद्भुत व्यक्ति हैं। मैं उन्हें कुछ समय से ही जानती हूं।हमें याद है कि हम दोनो कंबोडिया में अंगकोर वट के स्थलों का आनंद ले रहे थे,जब मुझे लगा कि वह अन्य आध्यात्मिक लोगों या गुरुओं से अलग हैं।जब मैंने गीत के बोल और अद्भुत रचना को सुना, तो यह मेरी आत्मा को एक निश्चित शांत कर गया।अब जब वह दिन आ गया है,मुझे आशा है कि श्रोता गीत के पीछे की आध्यात्मिकता को समझेंगे।’’

आशा भोसले का ‘यूट्यूब’चैनल केवल गीत नही परोसेगा।बल्कि संगीत के अलावा यह यूट्यूब चैनल उनके जीवन व कृतित्व के दिलचस्प पहलुओं को उजागर करेगा,जो किस्सों के साथ पूरा होता है। वह बताती हैं-‘‘बहुत सारी यादें हैं,जो मेरे दिमाग में सुप्त पड़ी हैं। मैं उन्हें अब अपने इस ‘यूट्यूब’चैनल के माध्यम से जीवित कर अपने श्रोताओं के साथ साझा करूंगी।‘‘

आशा भोसले के अंदर अभी भी बहुत कुछ है।वह अपने इस यूट्यूब चैनल पर नए नए गानों को पेश करने वाली हैं, जिनका दर्शक आनंद ले सकते हैं।खुद आषा ताई कहती हैं-‘‘हमने यूट्यूब चैनल पर एक छोटा ट्रेलर डाला है,जिससे लोगों को पता चलता है कि इसमें क्या क्या होगा।जैसा कि हम साथ चलते हैं,इसमें बहुत सारी सामग्री के साथ एक इंटरैक्टिव चैनल होने जा रहा है।‘‘

इसमें किस तरह के गानों की उम्मीद की जा सकती है?इस पर आशा ताई कहती हैं-‘‘अतीत चला गया।यह इतिहास है। मैं अतीत में नहीं रहती और न ही अतीत में जीती हूं। मैं निरंतर आगे बढ़ते रहने में यकीन करती हूं.इसलिए मेरा संगीत भी आधुनिक, ताजा और नया होगा। बेशक मेरे पिछले काम को उपाख्यानों  के माध्यम से दर्शाया जाएगा। लेकिन मैं सभी नई धुनों, गीतों और गीतों के लिए हूं।वैसे यह अभी शुरुआत है। मेरे पिटारे में जो कुछ भी है,उससे हर दर्शक व श्रोता आश्चर्य चकित होगा।‘‘वह आगे कहती हैं-‘‘संगीत दिव्य है।जीवन भी गंभीर है,इसे गंभीरता से लिया जाना चाहिए।’’

आशा भोसले तो ‘यूट्यूब चैनल’ षुरू करने के पक्ष में नही थी,तो फिर अचानक उन्होेने लाॅक डाउन में इसे शुरू करने का निर्णय क्यो लिया?इस पर वह बड़ी बेबाकी से कहती हैं-‘‘मुझे मेरी पोती जानई भोसले बहुत प्रिय है।वह कलात्मक व्यक्तित्व की स्वामिनी है।वह गीतकार ,लेखक, गायिका, संगीतकार और शास्त्रीय कथक नर्तकी है … ।वह उम्र में मुझसे बहुत छोटी है,पर कभी-कभी वह ऐसी बातें कह जाती है,जिसे सुनकर मैं खुद को और अधिक शिक्षित कर पाती हूं। इसीलिए वह मुझे पसंद है।जब जानई ने अपना यू ट्यूब चैनल शुरू किया,तो उसे काम करते देखकर मैं प्रेरित र्हुइं।वास्तव में जानई ने मेरे उत्साह को भांपते हुए मुझे अपने जीवन के अनुभवों को रिकॉर्ड करने के लिए अपना स्वयं का चैनल बनाने की सलाह दी।मुझे यकीन है कि मैं अपने जीवन की कई कहानियों को अपने यूट्यूब चैनल पर प्रस्तुत करने जा रही हूँ ,जो कि भावी पीढ़ी के लिए जीवित रह सकती हैं।’’

आशा भोसले के आधिकारिक गीत का लिंकः…
https://youtu-be/Z_F&KpzNiXw
शान्तिस्वरुप त्रिपाठी

Like it? Share with your friends!

Mayapuri

अपने दोस्तों के साथ शेयर कीजिये