प्यार की शक्ति को आशा पारेख ने भी महसूस किया था

1 min


आशा पारेख ने पिछले दिनों एक इंटरव्यू के दौरान अपने मन की बहुत सी बातें बताई जिसमें प्यार और रोमांस के प्रति उनकी भावनाएं भी थी। प्यार के एहसासों को लेकर जब उनसे सवाल किया गया तो वे बोली, “मेरे माता पिता के बीच जो प्यार था वह प्रेम के प्रति मेरे विश्वास को हमेशा कायम रखता था, उस जमाने में किसी हिंदू आदमी का किसी मुस्लिम स्त्री से विवाह करना सहजता से स्वीकारा नहीं जाता था, लेकिन मेरे माता पिता के बीच जो सच्चा प्यार था उसके आगे दुनिया को झुकना ही पड़ा। एक परिकथा की तरह उनके प्रेम विवाह की सफलता ने प्यार के प्रति मेरा विश्वास दृढ़ किया। जब मेरी मां का निधन हुआ तो मैंने पापा को इस तरह  टूटते देखा कि मुझे प्रेम की शक्ति का  गहरा एहसास हुआ। उस तरह का प्यार मेरी जिंदगी में मैंने नहीं देखी, मेरे पेरेंट्स ने जिस जिस के साथ मेरा रिश्ता तय करना चाहा वे मुझे पसंद नहीं आए। सच बताऊं तो बनावटी लोग और डिक्टेट करने वाले लोग मुझे कभी अच्छे नहीं लगते थे।’

➡ मायापुरी की लेटेस्ट ख़बरों को इंग्लिश में पढ़ने के लिए www.bollyy.com पर क्लिक करें.
➡ अगर आप विडियो देखना ज्यादा पसंद करते हैं तो आप हमारे यूट्यूब चैनल Mayapuri Cut पर जा सकते हैं.
➡ आप हमसे जुड़ने के लिए हमारे पेज FacebookTwitter और Instagram पर जा सकते हैं.

 

SHARE