बाल वीर का दुष्ट परी ककली से होगा सामना

1 min


बालवीर एक विलक्षण टीवी शो है, जिसमें सुपरहीरो बाल वीर अपने सभी दर्शकों को परीलोक की रोमांचक यात्रा पर लेकर जाता है। बाल वीर परीलोक और बच्चों का रक्षक है और उन्हें दुष्ट परियों एवं अंधेरे में रहने वाले बाशिंदों के गलत इरादों से बचाकर रखता है। बाल वीर और उसके दोस्त नीच लोगों के बुरे एवं नकारात्मक इरादों से मुकाबला करते हैं तथा निर्दोष को न्याय दिलाते हैं।

Swati Verma as Kakli from Baal Veer
कहानी के आगामी ट्रैक में, मासूम बच्चों के सामने एक बार फिर परेशानी आ खड़ी हुई है। भयंकर परी (श्वेता क्वात्रा) ने नटखट परी का ‘‘कालचित्र यंत्र‘‘ चोरी कर लिया है। इस यंत्र से किसी भी व्यक्ति को खरगोश बना सकते हैं। भयंकर परी इस यंत्र से एक और नकली यंत्र बनाकर ककली को दे देती है। ककली काकलोक जाती है। यह चुड़ैलों का स्थान है और उनके प्रतीकात्मक साथी कौए हैं। एक कौए की तरह, ककली को भी तीखे लंबे नाखूने और पंखसहित आंखों में दिखाया जायेगा। जब वह उड़ती है तो कौए के समान नजर आती है। चुड़ैलों का नेतृत्व करने वाली प्रमुख चुड़ैल धरती पर उतरती है। इनका एक ही उद्देश्य है – सब बच्चों को खत्म करना। जब ककली अपने सहयोगी को इस यंत्र का इस्तेमाल करना बताती है तब मानव (रुद्र सोनी द्वारा अभिनीत) यह सब देख लेता है और उसे ककली की योजना का पता चल जाता है।
मानव इस जाल से निकलने का प्रयास करता है लेकिन तब तक बहुत देर हो चुकी होती है। ककली मानव पर ही इस यंत्र की ताकत का प्रदर्शन कर डालती है। मोंटू भी इस जाल में फंस जाता है और दोनों फौरन खरगोश में बदल जाते हैं। बाल वीर उर्फ देव जोशी को अपने दोस्तों की परेशानी का पता चल जाता है और वह ककली से बदला लेने और उसकी विनाशकारी योजना को विफल करने का फैसला करता है।

SHARE

Mayapuri