“बालिका वधू” की सफलता

1 min


Balika Vadhu

अगर यहां ऐसी कोई चीज है जिसकी हर कोई  कामना करता है तो वह यह है कि उनके बच्चों को उन मुश्किलों  का सामना नहीं करना पड़े जिनका उन्होंने अपनी जिंदगी में  सामना किया है। यह कहानी कलर्स के फ्लैगशिप शो, बालिका वधू में एक पूरे गोल चक्कर को पूरा करेगी क्योंकि 11 साल की एक लंबी छंलाग एक नए जमाने के लिए मंच को तैयार करेगी जिसकी अगुवाई  आनंदी की बेटी, निम्बोली करेगी जिसका गुम हो चुका बचपन एक बाल वधू के शोक में  लिपटा हुआ है। उस इकलौत परिवार के साथ जिसे वह अपने जन्म के बाद वाकई से जानती है, एक पवित्र जीवन बिताते हुए, यह निम्बोली की प्रीतिकर शख्सियत है जो उसके चारों ओर मौजूद हर किसी के दिल की डोर को खींच लेती है।

Toral Rasputra and Viren Varzani as Anandi and Shivam

चूँकि यह धारावाहिक एपीसोड्स की अधिकतम संख्या के साथ भारतीय टेलीविजन पर सबसे लंबा चलने वाला
डेली ड्रामा सीरीज बन गया है, इसलिए बालिका वधू में  निम्बोली का सफर बालिका वधू में नए जमाने का उदय होने के बारे में चर्चा करते हुए, CEO का कहना है, “बालिका वधू की सफलता एक मनोरंजन चैनल के रूप में हमारी सफलता की पर्यायवाची रहती है क्योंकि यह दर्शकों के लिए हमारी पेशकशों का एक प्रमुख अभिज्ञापक बन चुका है। समय के दौरान, बालिका वधू ऐसे
किरदारों के माध्यम से जो पूरी दु निया में दर्शकों की समझ में आते हैं, एक वैश्विक अद् भुत वस्तु  बन चुका है। चूँकि अब हम अधिक नए मनोरंजन मार्गों को दिखाने के वादे के साथ इस धारावाहिक के एक नए दौर में प्रवेश कर रहे हैं, इसलिए हमें भारतीय टेलीविजन पर सबसे लंबे चलने वाले वाले फिक्शन ड्रामे का मुकाम हासिल होने का जश्न मनाने पर गर्व हो रहा है। हमारे दर्शकों के अनंत स्नेह और समर्थन, और हमारी क्रीएटिव टीम एवं हमारे निर्माताओं के कड़ी मेहनत के बिना यह युगांतरकारी उपलब्धि संभव नहीं थी।“

जैसे कि यह कहानी 11 साल आगे बढ़ रही है, इसलिए अब बालिका वधू में आनंदी की बेटी नंदिनी की जिंदगी को प्रमुख रूप से दिखाया जाएगा, जिस पर एक नवजात शिशु के रूप अपहरण कर लिए जाने के बाद थाली विवाह थोप दिया गया था जिसके बारे में उसकी माँ को पता नहीं है। एक अकेली माँ और विधवा, आनंदी का दिल अपने लापता बेटी के लिए जार-जार रोता है। लेकिन अंततः उसे उन महिलाओं के लिए, जिनके साथ जिंदगी में कुछ गलत हुआ है, गुरुकु ल स्थापित करने के बाद एक सामाजिक कार्यकर्ता बनकर तसल्ली मिलती है। जैसे-जैसे समय के दौरान आनंदी की अपनी बेटी के लिए उत्कंठा बढ़ती जाती है क्योंकि वह अपने बेटी के कल्याण के लिए पूजापाठ करती है, नंदिनी के कठोर ससुराल वालों ने उसका नाम बदलकर निम्बोली कर दिया है जिसको वो नीम की निम्बौरी जैसा तीखा मानते हैं। निम्बोली का एक सपना है… स्वच्छंद रहना और अपनी जिंदगी का आनंद लेना लेकिन उसके असंवेदनशील ससु राल वाले और पति उसके सपनों को कु चल देते हैं।  एक ऐसे परिवार में पलना-बढ़ना जहां लैंगिक भेदभाव और असमानता जिंदगी जीने का ढंग है, निम्बोली को मंगला देवी में एक बंधु मिलता है जो उसके रास्ते में आने वाली हर-एक मुश्किल में उसकी पथप्रदर्शक रोशनी एवं हिमायती हैै।

Sparsh Shrivastav and Gracy Goswami as Kundan and Nimboli (3)

नए यु ग के बारे में चर्चा करते हुए, का कहना है, “रिकॉर्ड  तोड़ने वाली  संख्या में एपीसोड्स के साथ दर्शकों का मनोरंजन करने के बाद, अब बालिका वधू आनंदी अैर उसके बच्चों की  जिंदगी के पर्दों को खोलने के एक बिल्कु ल नए अध्याय के लिए पूरी तरह से तैयार है। आनंदी के सफर में भारी ऊथल-पुथल के मसाले से भरपूर अनानु मेय सफर ने हमें हर रोज अपने दर्शकों के लिए सार्थ क कन्टेंट डिलीवर करने में समर्थ  बनाया है। पिछले 7 साल के दौरान, हम न केवल एक बाल वधू की कहानी को दिखाया गया है, बल्कि अन्य मसलों को भी छुआ है जैसे कि प्रौढ़ शिक्षा, विधवा पुनर्विवाह, दत्तक-ग्र हण एवं अनेक अन्य
मसले जिन्होंने आनंदी को बदलाव के चेहरे के रूप में स्थापित किया है। और अब, चूँकि नई बालिका वधू के रूप  में निम्बोली की जिंदगी शुरु होने वाली है इसलिए यह कहानी इस धारावाहिक में एक नए सफर को सबसे ऊपर रखते हुए बाल विवाह के बारे में एक पूरा चक्कर लगा चुकी है।“   धारावाहिक में नए दौर के बारे में चर्चा करते हुए,  का कहना है, “पिछले 7 साल से बालिका वधू पूरी तरह से आनंदी की कहानी रहा है। और अब, चूँ कि आनंदी की बेटी खुद को उसी हालात में फँसा हुआ पा रही है और इतिहास खुद को दोहरा रहा है, इसलिए एक नया सफर शुरु होने वाला है…. जो निम्बोली की आंखों से देखा जाएगा। समय के दौरान, आनंदी का रुतबा और हैसियत काफी अधिक बढ़ गई है और आज वो तर्क संगति एवं न्याय की आवाज बन गई है जिसकी ओर पूरा देश देखता है। एक ऐसी माँ का किरदार निभाना जिसके बच्चों को उसकी बाँहों से छीन लिया गया है, इसकी अनेक भावनात्मक बारीकियां है जिन्होंने एक अभिनेत्री के रूप में विकसित होने में मे री मदद की है। मुझे उम्मीद है कि दर्शक बालिका वधू में इस नए प्रयास का समर्थन करेंगे और निम्बोली को भी उतना ही प्यार देंगे जितना उन्होंने आनंदी को दिया है।“ चूँकि बालिका वधू की कहानी आगे बढ़ने के लिए तैयार हो रही है, इसलिए कलर्स ने छोटी निम्बोली का किरदार निभाने के लिए जिसकी जिंदगी और सपनों के साथ तभी समझौता हो गया था जब वह एक नवजात शिशु थी,
11 वर्ष  उम्र की बड़ौदा की निवासी, गे्र सी गोस्वामी को लेकर आया है।

Sunil Singh as Akheraj Singh (1)

आनंदी के बेटी के किरदार को निभाने वाली,  का कहना है, “अब मुझे अपनी माँ के साथ बालिका वधू को देखते हुए एक साल से अधिक समय हो गया है और उन छोटी लड़कियों की तरह सोचविचार किया है जो खुद को ऐसे हालातों में फंसा हुआ पाती हैं। निम्बोली काफी हद तक मेरी जैसी है – अपने मन में ढेर सारे सवालों के साथ एक चुलबु ल शोख लड़की। बालिका वधू का शिक्षाप्रद धारावाहिक है जिसमें हमारे समाज में होने वाली गलतियों को विशेष रूप से दिखाया गया है, और मुझे आनंदी जैसा प्रेरणादायक किरदार करते हुए अत्यंत सौभाग्यशाली महसूस हो रहा है। मुझे उम्मीद है कि इस धावाहिक के प्रशंसकों को पर्दे
पर मुझे देखना अच्छा लगेगा और वे मेरे किरदार का समर्थन करेंगे।

Rajeshwari Sachdev as Mangala Devi

“ इस छलांग के बारे में चर्चा करते  हुए, का कहना है, “जब हमने बालिका वधू शुरु किया था तब हमें तनिक भी आभास नहीं था कि यह धारावाहिक एक ऐसी अद् भुत वस्तु  बनेगा जो भारतीय टेलीविजन के चेहरे को बदलकर रख देगा जैसा कि आज यह है। इस धारावाहिक की लोकप्रियता को बढ़ता हुआ देखना हम सबके लिए बहुत संतुष्टिदायक है क्योंकि बालिका वधू टेलीविजन पर चलने वाला सबसे लंबा ड्रामा बन गया है। बालिका वधू समाज में बदलाव का प्रकाशदीप है और हमें उम्मीद है कि निम्बोली की आंखों के जरिये से नया नजरिया पूरे देश के दर्शकों के बीच व्यापक रूप से पसंद किया जाएगा।“


Like it? Share with your friends!

Mayapuri

अपने दोस्तों के साथ शेयर कीजिये