‘रुद्रकाल’ शो में डीसीपी रंजन चितौड़ा के किरदार के लिए मैंने लगभग 20 दिनों में अपना 10 किलो वज़न घटाया – भानु उदय गोस्वामी

1 min


भानु उदय

दर्शकों को अपने पॉवर-पैक्ड प्रदर्शनों और हिंदी फिल्म और टीवी इंडस्ट्री में 15 से अधिक वर्षों के अनुभव के साथ, बहुमुखी अभिनेता भानु उदय गोस्वामी, स्टार प्लस के आगामी सीमित सिरीज़ रुद्रकाल के साथ टेलीविजन पर लौटने के लिए उत्साहित हैं। इस किरदार में भानु उदय गोस्वामी एक ईमानदार आईपीएस अधिकारी डीसीपी रंजन चितौड़ा की भूमिका निभाते हुए नज़र आएँगे। इस शो में उसके साथ अभिनेत्री दीपानिता शर्मा उनकी पत्नी के रूप में दिखाई देंगी और हॉलीवुड फिल्म एक्सट्रेक्शन में क्रिस हेम्सवर्थ और रणदीप हुड्डा जैसे होनहार कलाकारों के साथ काम करने वाले रुद्राक्ष जायसवाल इसमें उनके बेटे की भूमिका निभाएंगे। ‘रुद्रकाल’ शो को लेकर हुई ख़ास बातचीत में भानु उदय गोस्वामी ने अपने करियर और शो से जुड़ी कुछ अहम बातें बताई:

स्टार प्लस पर आ रहे अपने अपकमिंग शो के बारे में कुछ बताएं ?

स्टार प्लस पर आ रहा मेरा अपकमिंग शो ‘रुद्रकाल’ एक सीमित सीरीज़ है जो 7 मार्च से शाम 7 बजे दर्शकों के लिए प्रस्तुत किया जाएगा। इसके बारे मैं यह बता दूँ कि मेरे लिए यह इंडियन टेलीविजन का आज तक का सबसे बेस्ट थ्रिलर शो है। इस शो में डीसीपी रंजन चितौड़ा की जर्नी दिखाई गई है जो मेरे द्वारा निभाया गया किरदार है। जब उनके मेंटर कमिश्नर बलदेव (रजत कपूर द्वारा अभिनीत किरदार) का मर्डर हो जाता है और डीसीपी रंजन को होम मिनिस्टर ऑफ इंडिया द्वारा इस केस की गुत्थी हल करने के लिए बुलवाते हैं। तब उसे यह केस सुलझाते वक़्त समझ आता है कि बलदेव सर का केस बहुत ही ज्यादा उलझा हुआ है साथ ही इसके पीछे बहुत बड़ी साज़िश भी चल रही है। कैसे बलदेव सर के मर्डर की वजह से वह इसकी गुत्थी को हल करते हैं और कैसे मुंबई को बचाते हैं पूरे शो का कॉन्सेप्ट यही है।

इस शो में काम करते समय एक कलाकार के रूप में आपने अपने बारे में क्या नई चीजें खोजीं ?

सबसे पहले तो मुझे सीमित सीरीज़ पर काम करना बहुत पसंद है जिसकी एक अच्छी स्टोरी लाइन हो, उसकी सही शुरुआत और अंत हो जो अपने समय से शरू हों और ख़त्म हो जाएँ। मुझे ऐसी चीजों पर काम करना बिलकुल पसंद नहीं है जो बिना अंत के चलती जाएँ इसलिए ‘रुद्रकाल’ के लिए काम करते हुए मुझे बहुत मज़ा आ रहा है। साथ ही इस किरदार के लिए काम करते हुए मुझे यह एहसास हुआ की मेरे अंदर काम को लेकर बहुत भूख है। जैसे हमारे इस शो में बहुत सारा काम, बेहतरीन लाइन्स और एक्शन शामिल हैं। भले ही मैंने पहले भी अपने काम को सटीक तरीके से निभाने की कोशिश की है, लेकिन यह किरदार करते वक्त मुझे यह महसूस हुआ कि मुझ में अभिनय को लेकर बहुत पैशन है।

‘रुद्रकाल’ शो में अपने किरदार के बारे में कुछ बताएं ?भानु उदय

‘रुद्रकाल’ शो में मैं डीसीपी रंजन चितौड़ा की भूमिका निभा रहा हूँ जो मेरे एक्टिंग करियर में अबतक के सबसे चुनौती पूर्ण और अच्छी तरह से लिखे (बुने) गए किरदारों में से एक है। इस किरदार की कहानी दो ट्रैक्स पर चल रही है। एक ओर जहाँ वह इस केस की इन्वेस्टिगेशन में लगा हुआ है वहीं दूसरी ओर यह अपने परिवार यानि अपने बेटे और पत्नी के साथ अपने रिश्ते की बीच उलझा हुआ है। यह एक बहुत ही खूबसूरत किरदार है, जिसे निभाने में मुझे बहुत मज़ा आ रहा है।

इस शो से आप टेलीविजन पर वापसी कर रहे हैं, तो आपको कैसा महसूस हो रहा है? क्या आप इसे लेकर नर्वस थे ?

यह मेरा कमबैक शो है। अगर आप मेरे एक्टिंग करियर में झांके तो मैंने बिना किसी ख़ास वजह के ब्रेक लिए हैं। उसका कारण यह होता है कि मैं हमेशा उस प्रोजेक्ट के लिए काम करना चाहता हूँ जो मुझे हमेशा इंस्पायर करते हैं। मुझे जो किरदार इंस्पायर नहीं करता मैंने वह किरदार कभी नहीं किया और जो किरदार मुझे इंस्पायर करता है वह शो, फिल्म, सीरीज़ मैं करना चाहता हूँ पर ऐसा कम ही होता है। अच्छी चीजें कम ही बनती है इसलिए मैं इन ब्रेक्स को लेता हूँ। इस दौरान मैं खुद पर और अपनी एक्टिंग पर बहुत काम करता हूँ ताकि मैं अपने अगले प्रोजेक्ट के लिए एक आर्टिस्ट के तौर पर कुछ नया और बेहतर कर सकूँ। मैं एक नई फ्रेशनेस और एक्साइटमेंट के साथ लौट सकूँ। इसके साथ ही आप नर्वस भी होते हैं ताकि आपका काम आपके दर्शकों को पसंद आए और आपकी और पूरे टीम की मेहनत दर्शकों को आपके शो में दिखाई दे।

क्या आपने अपने किरदार के लिए किसी से प्रेरणा ली है ?

यह किरदार इतना ज्यादा अच्छी तरह से लिखा हुआ था कि मुझे इसे करने के लिए किसी से प्रेरणा नहीं लेनी पड़ी। इस किरदार में इतने डायमेंशंस हैं जो तारीफ के काबिल हैं। मेरे लिए यह बहुत उत्साहजनक है कि मैं इस प्रोजेक्ट का हिस्सा हूँ। इसका हिस्सा होना किसी भी एक्टर के लिए उसके सपने के पूरे होने जैसा है। मैं जब इस किरदार की तैयारी कर रहा था तो मैं अपने पिताजी के बारे में बहुत कुछ सोच रहा था क्योंकि वह एक आईएएस ऑफिसर हैं। यह बनने से पहले वह इसकी परीक्षा में उत्तीर्ण हुए और एक साल तक खुद को ट्रेनिंग के जरिए इसके लिए तैयार किया और यह एक तरह का मेरे पिता जी के लिए ट्रिब्यूट है साथ ही मैं इस बार अपना पूरा नाम इस्तेमाल कर रहा हूँ । इससे पहले मैं अपना नाम भानु उदय इस्तेमाल करता था और अब मैं भानु उदय गोस्वामी लगा रहा हूँ जो मेरा पारिवारिक नाम है तो मैं इस किरदार के लिए कई हद तक अपने पिता जी से इंस्पायर्ड हूँ।

आपको इस भूमिका को निभाते हुए किन चुनौतियों का सामना करना पड़ा क्योंकि यह शो बहुत सारे एक्शन सीक्वेंसेस की मांग करता है ?

हाँ ! मैं इस किरदार को निभाते हुए बहुत सारी चुनौतियों का सामना कर रहा हूँ। यह एक एक्शन पैक्ड शो है इसमें बहुत सारे एक्शन सीक्वेंस है और एक्शन में हमेशा एक फिट फ्रेम ऑफ माइंड की जरुरत होती है जो आपको फिज़िकली, मेंटली, इमोशनली सभी मायने में दिखना होता है और हमें लगभग हर दिन एक्शन सीक्वेंस शूट करना होता हैं। क्योंकि यह इन्वेस्टिगेटिव शो है तो मुझे हमेशा बहुत सारी लाइनें पढ़नी होती है चूकि उसमें केस के बारे में चर्चा, उसे हर करना होता है और इन लाइनों को याद करना थोड़ा मुश्किल होता है।

आपका शो अन्य शोज़ से अलग क्यों है ?भानु उदय

यह शो किसी भी अन्य शोज़ से बिलकुल अलग है। सबसे पहले यह एक ऐसा शो है जो टीवी और फिल्म के बीच के अंतर को ख़तम करने की कोशिश कर रहा है। मुझे नहीं लगता कि आपने किसी भी इंडियन टेलीविजन शो में इतने ग्रैंड लेवल का एक्शन सीक्वेंस देखा होगा, जिसे दर्शक देखेंगे तो उन्हें खुद ब खुद समझ आ जाएगा। इसके अलावा यह एक सीमित सीरीज़ है जो शुरू होते ही ख़त्म हो जाती है जो टेलीविजन पर आम नहीं है। तीसरा इसमें इतने सारे ट्विस्ट और टर्न्स हैं जिसे देखकर आप स्तब्ध रह जाएंगे प्याज की परत की तरह इसके कई लेयर्स हैं जो एक के बाद एक खुलते चले जाते हैं । दर्शकों के लिए पूरी तरह यह नया अनुभव होगा। मुझे नहीं लगता कि वेब, टेलीविजन और फिल्म में दर्शकों ने इस तरह के एपिक एक्शन सीक्वेंस देखें होंगे।

2021 के लिए आपका क्या एजेंडा है ? आप खुद को आगे क्या करते देखना चाहते हैं ?

साल 2021 मेरे लिए अबतक बहुत अच्छा साल रहा है। इसी बीच मेरी ‘रुद्रकाल’ की शूटिंग भी चल रही है, जिसे लेकर मैं बहुत ज्यादा एक्साइटेड हूँ जो इस 7 मार्च को शाम 7 बजे स्टार प्लस पर प्रसारित होगा। यह एक ऐसा साल है जिसे मैं कहूंगा कि मेरी पूरी लाइफ बदल गई है। इसके अलावा मैंने हाल ही में एक बहुत बड़ी फिल्म की शूटिंग ख़तम की है जो इसी साल रिलीज होगी। इतना ही नहीं मैंने एक वेब शो भी शूट किया है वह भी इसी साल रिलीज होगी। तो मेरे पास इस वक्त फूल प्लेट भरी हुई है, लेकिन मैं फिलहाल ‘रुद्रकाल’ को लेकर बहुत एक्साइटेड हूँ।

शो में इस किरदार के लिए आपने जो विभिन्न तैयारियाँ की हैं, उनके बारे में बताइए ?

फिज़िकली, मेंटली और इमोशनली यह अब तक के मेरे सबसे चुनौती पूर्ण किरदारों में से एक है। मैंने इसके लिए कड़ी मेहनत की है और खुदको इतने बड़े ट्रांसफॉर्मेशन से गुजरते हुए आज तक नहीं देखा जितना मैंने इस किरदार के लिए किया। इससे पहले मैं एक फिल्म के लिए शूट कर रहा था, जिसमें मेरा तक़रीबन 68 किलो वजन था और जब मुझे रुद्रकाल शो में रंजन का किरदार मिला और उसमें मैं एक टीनएज बेटे का बाप हूँ उसमें मुझे थोड़ा हेवी दिखना था और अपने वजन को बहुत तेज़ी से बढ़ाना था क्योंकि 10-20 दिन बाद इसकी शूटिंग शुरू होनी थी और मैंने इसके लिए अपना लगभग 10 किलो वजन बढ़ाया। वजन बढ़ाना लोगों को जितना आसान लगता है उतना होता नहीं है। कुछ दिन खाना अच्छा लगता है, लेकिन जब खाना रोज़ाना आपके रुटीन में शामिल हो जाए और आप रोज़ अपना वजन चेक करें की आपने कितना किलो वजन बढ़ाया है तो यह आपको बहुत परेशान करता है।

इसके अलावा मुझे अपने किरदार के लिए लोकल पुलिस स्टेशन भी जाना पड़ा यहाँ समझने के लिए कि उनका काम करने का तरीका उसका डेली रूटीन क्या है। मैं आपको एक किस्सा सुनाता हूँ मुझे यह किरदार मिलने से पहले लॉकडाउन में मैं अपनी बेटी के लिए डायपर लेने गया था और पुलिस ने मुझे पकड़ लिया और वह मुझे अपने साथ पुलिस स्टेशन ले गए और मैंने वहां अपना पूरा दिन बिताया और मैं तभी समझ गया था कि मेरे पास कॉप का रोल आने वाला है क्योंकि मेरी लाइफ में बेवजह कुछ नहीं होता। फिर मैंने उन्हें पूरा दिन उस समय उनके काम का निरिक्षण किया। इसके अलावा अपने पापा जो पहले आईएएस ऑफिसर रह चुके हैं उनके साथ बैठकर उनके काम के तरीके को समझा और उन आईएएस ऑफिसर्स के काम के तरीके को याद किया, जिनसे मैं अपने पिता जी के चलते मिल पाया था और ऐसे मैं पुलिस की एक नई ब्रीड को दर्शकों के सामने प्रस्तुत करना चाहता हूँ, जिसे दर्शकों ने टेलीविजन पर पहले नहीं देखा है।

इस नए सामान्य के बीच में अपने शो की शूटिंग करते हुए कैसा महसूस हो रहा है ?

भानु उदयशुरू में हम सब बहुत डरे हुए थे पूरा कास्ट और क्रू भी डरा हुआ था पर मैं अपने प्रोडक्शन हाउस की तारीफ करना चाहूँगा कि हमारे सेट पर सरकार द्वारा दी गई सभी नियमावली का पालन किया जा रहा है। सभी मास्क पहनने और सेनिटाइज़ेशन का का पूरा ध्यान रखते हैं। कुछ समय शूटिंग करने के बाद सेट पर सभी का डर भी खत्म हो गया और अब सब मास्क पहनकर सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करते हैं।

अपनी सह-कलाकार दीपानिता शर्मा और रुद्राक्ष जायसवाल के साथ आपके द्वारा साझा किए गए बंधन के बारे में बताएं ?

दीपानिता बहुत प्यारी है और शूटिंग के पहले ही दिन वह मेरे पास आई और मुझसे कहा कि वह मेरे काम की बहुत बड़ी फैन है और उसने मेरे सभी काम को देखा है यह सुनकर मुझे बहुत ख़ुशी हुई। यह बहुत जरुरी है कि सेट पर आप अच्छे लोगों के साथ काम करें क्योंकि आपको अपना ज्यादा टाइम उनके साथ शूटिंग करते हुए बिताना होता है। वह बहुत ही फाइन और प्रोफेशनल एक्ट्रेस हैं और मुझे उनके साथ काम करते हुए बहुत ख़ुशी हो रही है। कुछ ऐसा ही रुद्राक्ष के साथ भी है। उन्होंने चाइल्ड एक्टर के तौर पर बहुत सारे अच्छे काम किए हैं और अभी भी कर रहे हैं। वह बहुत ही मेहनती हैं और ऐसे एक्टर्स के साथ काम करके बहुत मज़ा आता है।

किसी शो की शूटिंग और फिल्म की शूटिंग के बीच क्या अंतर हैं ?भानु उदय

फिल्म के लिए काम करते हुए आपको अपने किरदार की तैयारी के लिए काफी समय मिल जाता है जबकि शोज़ में आपको कम समय मिल पाता है बल्कि ये कहें कि यहाँ स्क्रिप्ट कुछ शूटिंग के कुछ समय पहले ही मिलती है। फिल्म में आप बहुत कम शूट करते हो, लेकिन टेलीविजन पर एक दिन में 5 से 6 शॉट शूट हो जाते हैं आप यह कह सकते हैं टेलीविजन आपको फिल्मों के लिए ट्रेनिंग देता है यानी फिलोम में काम करने के लिए आपको तैयार करता है। अब मैं फिल्म और वेब पर काम कर राह हूँ। यह सबकुछ टेलीविजन की मेरी ट्रेनिंग ही है जो मुझे यहाँ शूटिंग के दौरान काम आ रही है।

लॉकडाउन के दौरान आपने अपना समय कैसे बिताया ?

लॉकडाउन मेरे लिए बहुत अच्छा समय था। मैं और मेरी पत्नी वैसे भी ज्यादा बाहर जाते नहीं हैं और हमारे लिए इस दौरान ख़ास कुछ बदला नहीं। बल्कि मुझे ऐसा लगा कि मेरी लाइफस्टाइल को पूरी दुनिया पर थोप दिया गया है। मेरे पास दो बच्चे हैं मेरा बीटा 4 साल का है जबकि बेटी उस वक्त नई – नई पैदा हुई थी तो मुझे उनके साथ बिताने के लिए भरपूर समय मिला, जिसे मैंने खूब एन्जॉय किया साथ ही मैंने इस दौरान मैंने जीतनी साधना और योगा करना चाहा, जिसे मैं सालों से करता आ रहा हूँ मैंने उसे लॉकडाउन के दिनों में और बेहतर ढंग से किया।

वह कौन से गुण हैं, जिसने आपको अपने करियर के दौरान एक बेहतर अभिनेता बनने में मदद की ?भानु उदय

अपने जीवन में एक अच्छा एक्टर बनने के लिए एक क्वालिटी, जिसे मैं हमेशा से फॉलो करता रहा वह है कि मैंने हमेशा एक अच्छा एक्टर बनने के लिए खुद को प्रोत्साहित किया और खुद पर बहुत काम किया। जैसे ही मैं एक प्रोजेक्ट ख़तम करता हूँ और कोशिश करता हूँ कि मैं अपने अभिनय में ऐसा क्या जोडू, जिससे कि मैं एक अच्छा अभिनेता साबित हो सकूँ। मैंने हमेशा बेहतर बनने से खुद को कभी रोका नहीं है और ऐसे ही मैं अपने जीवन को पिछले 20 साल से जी रहा हूँ।

इन दिनों आप खुद को कैसे फिट रख रहे हैं ?

आजकल तो शूटिंग के चलते मैं रोज जिम नहीं जा पाता वर्ना मैं हमेशा जिम जाता हूँ। इसके अलावा मैं योग करता हूँ, मैं साधना करता हूँ और मैं क्रिया भी करता हूँ और यह एक ऐसी चीज है जो मुझे फिट रखती है इसके अलावा मैं पूरे दिन में केवल एक बार खाना खाता हूँ। यह चीजें हमेशा मुझे फिट रखने में मदद करतीं हैं।

कई अलग-अलग प्लेटफ़ॉर्म पर काम करने के बाद, ऐसी कौन सा जेनरे है, जिसका हिस्सा बनकर आपको मज़ा आया ?

मैं अपने हर काम को पैशनेट लोगों के साथ करना बहुत पसंद करता हूँ और इसे बहुत एन्जॉय भी करता हूँ। मुझे अच्छी स्टोरीज़ का हिस्सा बनना बहुत अच्छा लगता है। प्लैटफॉर्म या मीडियम मेरे लिए मायने नहीं रखता है। मैं सिर्फ अच्छे किरदार करना चाहता हूँ और अपने काम को करने में बहुत एन्जॉय करता हूँ। भानु उदय


Like it? Share with your friends!

Mayapuri

अपने दोस्तों के साथ शेयर कीजिये