‘‘ सफल बिजनेसमैन की सफल बिजनेसमैन औलाद हैं भूषण कुमार ’’

1 min


Bhushan-Kumar_0

स्व. गुलशन कुमार के बाद उनके बेटे भूषण कुमार ने उनकी विरासत टी सीरीज को संभाला ही नहीं बल्कि चार गुना बड़ा कर दिखाया यानि भूषण ने साबित कर दिखाया कि वो सफल बिजनिसमैन पिता की बिजनिसमैन औलाद हैं । अपने पिता की तरह भूषण को भी म्युजिक की बहुत अच्छी सेंस है  इसलिये  अपनी फिल्मों के म्युजिक में अपने पिता की तरह भूषण का भी खास दख्ल रहता है ।

bhushan kumae

म्युजिक के अलावा भूषण कुमार को स्क्रिप्ट का भी अच्छा खासा ज्ञान है इसीलिये टी सीरीज की फिल्में लगातार हिट हो रही हैं। हालिया हिट  फिल्म‘ बेबी’ इस बात का ताजा सुबूत हैं । भूषण अपनी आने वाली फिल्म ‘ रॉय’ के बारे में कहते हैं कि उसमें मुझे डिफंर्ट जॉनर की कहानी दिखाई दी जिसमें ड्रामा है रोमांस है इमोशन हैं अच्छे म्युजिक का स्कोप है । ऐसा नहीं कि जिस तरह आज कल त्यादातर  फिल्मों में जबरदस्ती का रोमांस मारधाड़ आदि देखते हुये दर्शक बौर हो रहे हैं । उन्हें कुछ अलग चाहिये । इसका अंदाजा हमें अपनी पिछली फिल्म ‘ बेबी’ से बेखूबी हो गया । उस फिल्म को हर वर्ग ने पंसद किया । इसी तरह जब मुझे रॉय का सब्जेकट सुनाया तो मैंने महज पांच मीनिट में हां कर दिया था । जहां तक म्युजिक की बात की जाये तो फिल्म में म्युजिक का काफी स्कोप था । और देख लीजीये इसमें पांच गाने हैं और पांचो ही  सुपर हिट हो गये हैं ।

bhushan kumar3
जहां तक फिल्म के डायरेक्टर विक्रमजीतसिंह के नये होने की बात है तो हम अगर नये टेलेन्ट को ब्रेक नहीं देगें तो हमें पुराने लोगों पर ही निर्भर रहना होगा,लेकिन उनमें से भी कितने ही अनुभवी लोग भी सफल नहीं हो पा रहे हैं । मैं जब विक्रमजीत सिंह से मिला तो मुझे उसका विजुलाइजेशन पसंद आया, उसका अलग सा स्टोरी आइडिया पसंद आया । फिल्म कंपलीट होने के बाद मैने उसके रशेज देखे जो खूबसूरत थे गानों का फिल्मांकन बहुत अच्छा था । सब कुछ मिलाकर फिल्म का लुक ऐसा लग रहा था जैसे किसी बड़े और अनुभवी डायरेक्टर की फिल्म हो । डायरेक्टर के अलावा कास्टिंग भी काफी हैवी है तो इसके लिये रणबीर कपूर का सबसे बड़ा सहयोग रहा । जैसा कि आप जानते हैं कि रणबीर विक्रम का बहुत पुराना दोस्त रहा है और वो चाहता था कि विक्रम की फिल्म के लिये कोई बड़ा प्रडयूसर चाहिये । हमसे मिलने के बाद रणबीर के बाद  अर्जुन राम पाल ने भी रोल सुनते ही हाँ कर दी । जंहा तक जैकलिन की बात है तो मुझे शुरू  में कुछ लोगों ने मना किया था कि डबल रोल जैकलिन के बस का नहीं है । मुझे भी अंदाजा नहीं था कि वो लड़की फिल्म के दोनो रोल इतनी खूबी से निभा जायेगी । इस फिल्म के बाद प्रसनली मैं उसका फैन हो चुका हूं ।

bhushan kumar 2
बेबी जैसी फिल्म करने के लिये बहुत हिम्मत की जरूरत होती है । इस बारे में भूषण कहते हैं बेबी के लिये यस कहने में मुझे पांच मिनिट लगे । क्योंकि मैं नीरज पांडे की कैपेसिटी और उनके टेलेन्ट को अच्छी तरह पहचानता हूं  । उनकी फिल्मों में कुछ अलग बात होती है । इसलिये जब मेरे पास बेबी का प्रस्ताव आया तो मैने सिर्फ इतना ही कहा कि फिल्म के म्युजिक का भार आप हम पर छौड़ दे बाकी आप कुछ भी करे । मैने देखा कि वे कितना फास्ट काम करते हेैं आप यकीन करें बेबी सिर्फ छप्पन दिन में कंपलीट कर ली थी और  नतीजा सामने है फिल्म और उसका म्युजिक दोनो सुपर हिट हैं । जहां तक  रॉय की बात है तो यहां भी मैं अपनी तरफ से हुसॅन दलाल को डायलॉग लिखने के लिये लेकर आया दलाल ये जवानी है दीवानी लिख चुके हैं । इसके बाद मैने विक्रम को कहा कि म्युजिक के अलावा आप अच्छा कैमरामैन लो, अच्छा आर्ट डायरेक्टर लो और अच्छा एडिटर लेकर आओ इसके अलावा जो भी आपकी रिक्वायरमेंट हैं सब अच्छा लेकर आओ । ऐसा ही हुआ । अब मैं कह सकता हूं कि जैसा मैं चाहता था विक्रम ने मुझे ऐसी ही फिल्म बनाकर दी है ।

bhushan kumar 6

रणबीर के बारे में हाल ही मुझे किसी बड़े डायरेक्टर ने कहा था कि रणबीर इतना बड़ा एक्टर है लेकिन उसका टेलेंट अभी तीस प्रतिशत ही यूज हुआ है । इस फिल्म में उसने रॉय की भूमिका की है  और फिल्म की यूएसपी भी वही है । इसीलिये हम उन्हें अभी मीडिया के सामने नहीं ला रहे हैं क्योंकि हम रिलीज से पहले उनकी भूमिका नहीं खोलना चाहते ।


Like it? Share with your friends!

Mayapuri

अपने दोस्तों के साथ शेयर कीजिये