बर्थडे स्पेशल : बॉलीवुड के पहले ‘डांसिग स्टार’ हेमा मालिनी के प्यार में हो गए थे पागल

1 min


बॉलीवुड के जाने माने अभिनेता और बॉलीवुड के पहले रियल डांसिग स्टार जितेंद्र आज 76 साल के हो गए हैं। 07 अप्रैल 1942 को एक जौहरी परिवार में जन्में जितेन्द्र का रुझान बचपन से ही फिल्मों की ओर था और वो अभिनेता बनना चाहते थे। वो अक्सर घर से भागकर फिल्म देखने चले जाते थे। जितेंद्र का असली नाम रवि कपूर है जो बाद में फिल्म इंडस्ट्री में जितेन्द्र के नाम से मशहूर हुआ। आइए उनके जन्मदिन के मौके पर आपको बताते हैं उनके जीवन और फिल्म करियर से जुड़ी कुछ दिलचस्प बातें।

– जितेन्द्र के फिल्मी करियर की शुरूआत 1959 में रिलीज हुई फिल्म ‘नवरंग’ से हुई जिसमें उन्हें छोटी सी भूमिका निभाने का अवसर मिला था। 

– जितेंद्र लगभग 5 सालों तक फिल्म इंडस्ट्री में अभिनेता के रूप में काम पाने के लिए संघर्षरत रहे। 1964 में उन्हें शांताराम की फिल्म ‘गीत गाया पत्थरों ने’ में काम करने का मौका मिला। इस फिल्म के बाद जितेंद्र अपनी पहचान बनाने में कामयाब हो गए।

इस फिल्म के  बाद जितेन्द्र को कहा जाने लगा जंपिग जैक

– 1967 में जितेंद्र की एक और सुपरहिट फिल्म ‘फर्ज रिलीज हुई। रविकांत नगाइच निर्देशित इस फिल्म में जितेन्द्र ने डांसिग स्टार की भूमिका निभाई। इस फिल्म में उन पर फिल्माया गीत ‘मस्त बहारों का मैं आशिक’ को दर्शकों ने काफी पसंद किया। इस फिल्म के बाद जितेन्द्र को ‘जंपिग जैक’ कहा जाने लगा।

– ‘फर्ज’ की सफलता के बाद डांसिग स्टार के रूप में जितेन्द्र की छवि बन गयी। इस फिल्म के बाद निर्माता निर्देशकों ने अधिकतर फिल्मों में उनकी डांसिग छवि को दिखाया। निर्माताओं ने जितेन्द्र को एक ऐसे हीरो के रूप में पेश किया जो डांस करने में परफेक्ट है। इन फिल्मों में ‘हमजोली’ और ‘कारवां’ जैसी सुपरहिट फिल्में शामिल है। 

– 70 के दशक में ऐसा कहा जाने लगा कि जितेन्द्र केवल डांस और गाने से भरपूर किरदार ही निभा सकते है। उन्हें इस इमेज से बाहर निकालने में निर्माता-निर्देशक गुलजार ने मदद की और उन्हें लेकर ‘परिचय’, ‘खुशबू’ और ‘किनारा’ जैसी पारिवारिक फिल्मों का निर्माण किया। इन फिल्मों में जितेन्द्र के संजीदा अभिनय को दर्शक बेहद पसंद किया।

– जितेंद्र के साथ हेमा मालिनी की जोड़ी को दर्शकों ने काफी पसंद किया। बता दें कि हेमा मालिनी जिन दिनों फिल्मों में आई थीं उस समय जितेंद्र सुपरस्टार समझे जाते थे। जब हर लड़की उनके साथ काम करने को उत्सुक रहती थी। लेकिन उस वक्त हेमा ने जितेंद्र को ज्यादा लिफ्ट नहीं दी। 

जितेन्द्र को इसीलिए लगा की उनसे शादी कर लें

– उस दौर में धर्मेंद्र और हेमा मालिनी की जोड़ी ने कई हिट फिल्में दीं जिसके बाद जितेंद्र को लगा कि अगर वो उनसे शादी कर लें तो वो भी धर्मेंद्र की तरह लकी हीरो बन जाएंगे। इसके लिए जितेन्द्र ने अपनी मां को हेमा की मां के पीछे लगा दिया लेकिन हेमा की मां जया चक्रवर्ती ने फैसला हेमा पर ही छोड़ दिया।

– इतना ही नहीं मद्रास में दोनों परिवारों ने मुलाकात भी की। शादी की बात तय हो जाती लेकिन जितेंद्र मंगनी के तुरंत बाद शादी करना चाहते थे। उन्हें डर था कि कहीं मंगनी के बाद हेमा मालिनी का मन ना बदल जाए। हेमा मालिनी शादी के तैयार भी हो गई थीं।

– तभी जितेंद्र की गर्लफ्रेंड शोभा सिप्पी अपने परिवारवालों के साथ मद्रास पहुंच गईं और उनकी शादी की बात बीच में ही अटक गई। वहीं कुछ लोग कहते हैं कि हेमा मालिनी शादी से अंतिम समय पर पीछे हट गईं। बाद में हेमा मालिनी ने धर्मेन्द्र से शादी कर ली और1974 में जितेंद्र भी शोभा के साथ शादी के बंधन में बंध गए। 

– 90 के दशक में अभिनय में एकरूपता से बचने और स्वंय को चरित्र अभिनेता के रूप मे भी स्थापित करने के लिए जितेन्द्र ने खुद को विभिन्न भूमिकाओं में पेश किया। 2000 के दशक में फिल्मों में अच्छी भूमिकाएं नहीं मिलने पर उन्होंने फिल्मों में काम करना काफी हद तक कम कर दिया।

– इस दौरान वो अपनी बेटी एकता कपूर को छोटे पर्दे पर डायरेक्टर के तौर स्थापित कराने में हर जगह उनके साथ खड़े रहे। जितेन्द्र ने चार दशक लंबे सिने करियर में 250 से भी अधिक फिल्मों में अपने दमदार अभिनय से दर्शकों को दिल जीत लिया। जितेन्द्र इन दिनों अपनी पुत्री एकता कपूर को फिल्म निर्माण में सहयोग कर रहे हैं।

➡ मायापुरी की लेटेस्ट ख़बरों को इंग्लिश में पढ़ने के लिए  www.bollyy.com पर क्लिक करें.
➡ अगर आप विडियो देखना ज्यादा पसंद करते हैं तो आप हमारे यूट्यूब चैनल Mayapuri Cut पर जा सकते हैं.
➡ आप हमसे जुड़ने के लिए हमारे पेज Facebook, Twitter और Instagram पर जा सकते हैं.


Like it? Share with your friends!

Sangya Singh

अपने दोस्तों के साथ शेयर कीजिये