बर्थडे स्पेशल: 100 से ज्यादा फिल्मों में साइड रोल करके जीता दर्शकों का दिल

1 min


अपनी बेहतरीन अदाकारी से लोगों का दिल जीतने वाली ऐक्ट्रेस दिव्या दत्ता आज अपना 41वां जन्मदिन मना रही हैं। दिव्या हिंदी के अलावा पंजाबी, मलयालम और अंग्रेजी भाषा में फिल्में की है। हिंदी फिल्मों में मजबूत सपोर्टिंग किरदार निभाने के साथ , विज्ञापन और मशहूर टीवी शो करने के लिए जाना जाता है। वह भले ही बॉलीवुड की लीडिंग एक्ट्रेस नहीं लेकिन अपने हर किरदार से उनको एक नई पहचान मिल जाती है। दर्शक उनके अभिनय के कायल हैं। तो आइए आज उनके जन्मदिन के मौके पर हम आपको बताते हैं उनकी लाइफ से जुड़ी कुछ खास बातें…

दिव्या के बेहद करीब थीं मां

– दिव्या दत्ता का जन्म 25 सितंबर 1977 को पंजाब के लुधियाना में एक पंजाबी हिंदू परिवार में हुआ था। दिव्या जब 7 साल की थीं तो उनके पिता का निधन हो गया था। दिव्या ने अपनी प्रारंभिक शिक्षा सेक्रेड हार्ट कॉन्वेन्ट स्कूल से की।

– दिव्या दत्ता की मां डॉ. नलिनी दत्ता एक सरकारी अधिकारी थीं। सिंगल मदर रहकर नलिनी दत्ता ने ही दिव्या और उनके भाई की परवरिश की। शायद यही वजह थी कि दिव्या अपने मां के काफी करीब थीं। उन्होंने मां के ऊपर एक किताब भी लिखी ‘मी एंड मां’।

मां के जाने बाद डिप्रेशन में चली गईं थीं दिव्या

– दिव्या ने इंटरव्यू में कहा था कि ‘मां के बिना मेरी जिंदगी कुछ नहीं, जब से होश संभाला मां हरदम साथ रहीं। मां के जाने के बाद उनको अपने अंदर से निकाल नहीं पाई हूं, न ही निकालना चाहती हूं। मां के जाने के बाद मैं डिप्रेशन में चली गई। जिसके बाद मैंने इलाज करवाया।’

– फिल्म इंडस्ट्री में एक पहचाने जाने वाला चेहरा बनने से पहले दिव्या ने मॉडलिंग में अपनी किस्मत आजमाई थी और पंजाब के कई विज्ञापनों में नजर आई थीं। उन्हें एक्टिंग में पहला ब्रेक ‘संविधान’ सीरियल में मिला। जिसमें उन्होंने पूर्णिमा बनर्जी का रोल निभाया था।

100 से ज्यादा फिल्में कर चुकीं हैं दिव्या

– दिव्या ने ‘सावधान इंडिया’ जैसे क्राइम शो को होस्ट करते हुए देखा होगा। इसके अलावा उन्होंने डॉक्यु-ड्रामा शो जैसे अरे ‘दीवानो मुझे पहचानो’, ‘आवाज पंजाब दी’, ‘सिने सतरंग’ और ‘हम तुम एक कमरे में बंद हो’ को होस्ट किया है।

– 100 से ज्यादा फिल्मों में अपनी एक्टिंग की छाप छोड़ चुकीं दिव्या दत्ता को 2017 की फिल्म ‘इरादा’ में उनकी भूमिका के लिए पहली बार नेशनल फिल्म अवॉर्ड के लिए चुना गया। हाल ही में उनकी एक शॉर्ट फिल्म भी आई है ‘प्लस मायनस’, इस फिल्म से वह काफी चर्चा बटोर रही हैं।

मॉडलिंग और कॉमर्शियल एड से की शुरुआत

– मुंबई आने से पहले दत्ता ने अपने होम-स्टेट में मॉडलिंग की शुरुआत की। उन्होंने वहां कई कॉमर्शियल एड किये। उसके बाद दत्ता मुंबई आ गयीं। दत्ता ने अपने करियर की शुरुआत 1994 में फिल्म ‘इश्क में जीना इश्क में मरना’ फिल्म से की।

– दिव्या को 1995 में अपने करियर की पहली बतौर लीड फिल्म सलमान खान के अपोजिट ‘वीरगति’ मिली थी। जो बॉक्सऑफिस पर बुरी तरह पिट गयी थी। इसके बाद दिव्या ने फिल्मों में सपोर्टिंग एक्ट्रेस के तौर पर काम करना शुरू कर दिया।

‘द लास्ट ईयर’ से किया इंटरनेशनल डेब्यू

– साल 2004 में दिव्या को पहचान यशराज फिल्म्स की फिल्म ‘वीरजारा’ से मिली। दत्ता ने अपना इंटरनेशनल डेब्यू फिल्म ‘द लास्ट ईयर’ से किया था। साल 2013 में फिल्म ‘भाग मिल्खा भाग’ में काम किया है।

– दिव्या अबतक सुरक्षा, अग्निसाक्षी, छोटे सरकार, राम और श्याम, राजा की आएगी बारात, दावा, बड़े मियां छोटे मियाँ, ट्रैन टू पाकिस्तान, राजाजी, कसूर, बागबां, शादी का लड्डू, देश होया परदेश, सिलसिला, उमराव जान,द लास्ट ईयर, अपने, आजा नच ले, वेलकम टू सज्जनपुर, ओह माई गॉड, दिल्ली 6, स्टैनली का डब्बा , डेंजरस इश्क, हीरोइन, स्पेशल 26, लूटेरा, गिप्पी, बदलापुर जैसी बेहतरीन फिल्मों में काम कर चुकी हैं।

➡ मायापुरी की लेटेस्ट ख़बरों को इंग्लिश में पढ़ने के लिए  www.bollyy.com पर क्लिक करें.
➡ अगर आप विडियो देखना ज्यादा पसंद करते हैं तो आप हमारे यूट्यूब चैनल Mayapuri Cut पर जा सकते हैं.
➡ आप हमसे जुड़ने के लिए हमारे पेज Facebook, Twitter और Instagram पर जा सकते हैं.


Like it? Share with your friends!

Sangya Singh

अपने दोस्तों के साथ शेयर कीजिये