बर्थडे स्पेशल: ऐक्ट्रेसेस की खूबसूरती पर फिदा हो जाते थे एम एफ हुसैन, हमेशा विवादों में रहीं पेटिंग्स

1 min


भारत का ‘पिकासो’ कहे जाने वाले मशहूर और बेहतरीन पेंटर मकबूल फिदा हुसैन खूबसूरती पर फिदा हो जाते थे। उन्होंने अपनी शानदार और अनोखी चित्रकला से दुनिया को एक अलग ढंग से देखने का नजरिया दिया। उनके बारे में सभी जानते हैं कि कला से उन्हें बेहद लगाव था, लेकिन ये बात शायद कम ही लोग जानते होंगे कि भले ही कला से उन्हें लगाव था, लेकिन सिनेमा उनका पहला प्यार था। तो आइए आज एम एफ हुसैन के जन्मदिन के हम आपको बताते हैं उनके बारे में कुछ दिलचस्प बातें…

https://www.instagram.com/p/Bnz0KolFucR/?hl=en&tagged=mfhussain

– एम एफ हुसैन का जन्म 17 सितंबर, 1915 को पंढरपुर में हुआ था। मनमौजी स्वभाव के हुसैन का जीवन संघर्ष भरा रहा और उन्होंने कैलिग्राफी से लेकर पोस्टर पेंटिंग तक के हर काम को अंजाम दिया। 32 साल की उम्र में ही हुसैन की गिनती नामी गिरामी चित्रकारों में होने लगी थी। एक कलाकार के तौर पर उन्हें सबसे पहले 1940 के दशक में ख्याति मिली।

– बेशक वो कितने ही बड़े पेंटर बन गए लेकिन सिनेमा से उनका लगाव हमेशा रहा। यही नहीं बॉलीवुड की कई एक्ट्रेस के वो बहुत बड़े प्रशंसक रहे हैं। हुसैन जिनके दीवाने थे उनमें पहला नाम है माधुरी दीक्षित। जिनकी ‘हम आपके हैं कौन (1994)’ हुसैन ने 67 बार देखी थी और उनके ऊपर पेंटिंग की पूरी सीरीज भी बना डाली थी।

– माधुरी के प्रति हुसैन की दीवानगी इससे समझी जा सकती है कि उन्होंने माधुरी को लेकर 2000 में ‘गजगामिनी’ फिल्म बनाई थी। उस वक्त हुसैन की उम्र करीब 85 साल थी। बता दें कि ‘गजगामिनी’ का बजट करीब ढाई करोड़ था जबकि फिल्म ने बॉक्स ऑफिस पर केवल 26 लाख की कमाई की थी।

– हुसैन की दीवानगी का आलम 7 साल बाद उस समय भी कायम रहा जब माधुरी दीक्षित ने ‘आजा नचले’ के साथ बॉलीवुड में दोबारा एंट्री मारी। हुसैन उन दिनों दुबई में थे और उन्होंने दोपहर के शो के लिए दुबई के लैम्सी सिनेमा को पूरा अपने लिए बुक करा लिया था।

– इसी तरह हुसैन को तब्बू भी काफी पसंद थीं और उन्होंने उनके लिए ‘मीनाक्षी: अ टेल ऑफ थ्री सिटीज (2004)’ बनाई थी। कामयाबी यहां भी नहीं मिली लेकिन जिस तरह का सिनेमा उन्होंने बनाया और रंग दिए, वे हमेशा याद रखे जाएंगे।

– 2006 में हुसैन एक और हीरोइन को देखकर फिदा हो गए। ये थी ‘विवाह’ फिल्म की अमृता राव। हुसैन ने फैसला किया कि वे उनकी पेंटिंग बनाएंगे। यही नहीं, अमृता के जन्मदिन पर हुसैन ने उन्हें तीन पेंटिंग गिफ्ट की थीं, जिनकी कीमत लगभग एक करोड़ रुपये बताई जाती है।

– हुसैन को लेकर एक रोचक बात यह है कि वो कभी जूते-चप्पल नहीं पहनते थे। वे हमेशा नंगे पांव ही रहते थे। हुसैन कहते थे कि मुझे जंगल में छोड़ देंगे तो भी मैं वहां से कुछ रचनात्मक बनाकर ही लौटूंगा। गूगल ने उनके बारे में कहा था, ‘यह ख्याति आंशिक रूप से उनकी आधुनिकतावादी, बेहतरीन चित्रकारी और उनके द्वारा किए गए काम की वजह से है।’

– हुसैन ने बॉलीवुड की हस्तियों के फोटोग्राफ का प्रोजेक्ट भी शुरू किया था जिसकी शुरुआत उन्होंने गुलजार से की थी। एक शाम अपने एसएलआर कैमरे से गुलजार की ढेरों तस्वीरें लेने के बाद भी वह असंतुष्ट रहे और इस काम को वहीं रोक दिया।

– चरमपंथी हिंदू संगठनों की मानें, तो हुसैन हिंदू विरोधी थे। उन्होंने हिंदू देवियों की ऐसी तस्वीरें बनाई, जिससे हिंदू धर्म के लोगों को बड़ा झटका लगा। हुसैन ने सन 1970 में ये पेंटिंग बनाई थीं मगर इन पेंटिंग को ‘विचार मीमांसा’ नाम की पत्रिका में साल 1996 में छापा गया था। इसका शीर्षक दिया गया, ‘मकबूल फिदा हुसैन-पेंटर या कसाई’।

– अश्लील पेंटिंग बनाने के विरोध में हुसैन के खिलाफ देश भर में कई आपराधिक मामले दर्ज किए गए। उनके खिलाफ गैर-जमानती वारंट जारी हुए। 1998 में हिंदू संगठनों ने हुसैन के घर पर हमला किया और वहां रखी दूसरी तस्वीरों को नष्ट कर दिया था।

– 2006 में एक मैगजीन के कवर पेज पर भारत माता की नग्न तस्वीर की वजह से हुसैन की काफी आलोचना हुई। इसमें एक नग्न युवती को भारत माता के रूप में दिखाया गया, जो भारत के मानचित्र पर लेटी हुई थी। उसके पूरे जिस्म पर भारत के राज्यों के नाम थे। हिंदू संगठनों ने इसे अश्लील मानते हुए कड़ा विरोध दर्ज कराया।

– हुसैन को जितना सम्मान भारत ने दिया, उनकी विवादित पेंटिग्स ने भारत को ही सबसे ज्यादा आहत किया। उसका असर ये हुआ कि 2006 में हुसैन पर लगातार विरोध प्रदर्शन, मुकदमे हुए, उन्हें जान से मारने की धमकियां भी मिलने लगीं। हुसैन इतना दुखी हुए कि उन्होंने स्वेच्छा से भारत छोड़ दिया। वे लंदन और दोहा में निर्वासित जीवन बिताने लगे। 9 जून 2011 को लंदन में उनका निधन हो गया।

➡ मायापुरी की लेटेस्ट ख़बरों को इंग्लिश में पढ़ने के लिए  www.bollyy.com पर क्लिक करें.
➡ अगर आप विडियो देखना ज्यादा पसंद करते हैं तो आप हमारे यूट्यूब चैनल Mayapuri Cut पर जा सकते हैं.
➡ आप हमसे जुड़ने के लिए हमारे पेज Facebook, Twitter और Instagram पर जा सकते हैं.

 


Like it? Share with your friends!

Sangya Singh

अपने दोस्तों के साथ शेयर कीजिये