बचपन में होली हम बहुत रफ और डर्टी डर्टी तरीके से खेलते थे – वरुण धवन

1 min


वरुण धवन – बचपन में होली हम बहुत रफ और डर्टी डर्टी तरीके से खेलते थे। गड्ढो में पानी या रंगीन पानी डालकर कीचड़ बनाते थे और उसमें लोगों को धकेल देते थे जो होली के दिन हम बच्चों के जाल में फँस जाते थे। हम रंग भरे बैलून भी राह चलतों पर मारते थे। होली की सुबह सब से पहले मेरे पापा मेरे चेहरे पर रंग लगाते, उसके बाद शुरू होता था होली का धूम धड़ाका। अब भी वही रस्म निभाई जाती है लेकिन वो पहले जैसे होली की फुर्सतें नहीं मिलती। कई बार शूटिंग में व्यस्त रहना पड़ता है। हाँ, मैं अपने उन फुर्सतों वाली होली को मिस तो करता हूँ, वो सड़क के किनारे खड़े होकर जंक फूड खाना, मौज मनाना, लेकिन मुझे शिकायत बिल्कुल नहीं है क्योंकि मैंने अपनी मर्जी और चाहत से फिल्म करियर को चुना है और इस क्षेत्र में मैं आगे भी बढ़ रहा हूँ। मेरी उपलब्धियों के आगे यह कुर्बानियां कम ही है। जब शूटिंग में बिजी होता हूँ तो पैक अप के बाद अपने क्रू मेंबर्स, डाइरेक्टर तथा सेट पर मौजूद लोगों के साथ ही होली खेल लेता हूँ। हैप्पी होली टू ऑल द रीडर्स ऑफ मायापुरी।


Like it? Share with your friends!

Mayapuri

अपने दोस्तों के साथ शेयर कीजिये