जीडी गोएनका यूनिवर्सिटी में दूसरे अंतरराष्ट्रीय विद्यार्थी फिल्म और फोटोग्राफी महोत्सव ‘फोटोग्राफिया 2018’ की रंगारंग शुरुआत

1 min


हरियाणा के स्टेट इंस्टीट्यूट ऑफ फिल्म एंड टेलिविज़न की अनाहिता सिंह की फिल्म ‘ब्लूमिंग बड्स’ ने  जी डी गोयनका विश्वविद्यालय के दूसरे अंतरराष्ट्रीय विद्यार्थी फिल्म एवं फोटोग्राफी उत्सव फोटोग्राफिया 2018  में सर्वश्रेष्ठ फिल्म का खिताब जीता. एमिटी यूनिवर्सिटी, मुंबई के छात्रों की ‘द्विज ट्वाइस बॉर्न’ नाम की फिल्म को लघु फिल्मों की श्रेणी में पहला पुरस्कार मिला जबकि एपीजे सत्या यूनिवर्सिटी की फिल्म ‘वृन्दावन विडोज़’ को बेस्ट डॉक्यूमेंट्री फिल्म चुना गया. फोटोग्राफी की श्रेणी में महाराजा अग्रसेन के सचिन को पहला स्थान मिला जबकि पीडब्ल्यूसी एकेडमी, यूएई के हारुन को दूसरा और महाराजा अग्रसेन कॉलेज के हर्ष कुजुर को तीसरा स्थान मिला.

इसके पहले महोत्सव अंतिम चरण के लिए चयनित तस्वीरों एवं फिल्मों की प्रदर्शनी के साथ प्रारंभ हुआ.  इस वर्ष महोत्सव की थीम ब्यूटीफुल लाइफ : हुमन डिग्निटी ह्यूमन राइट्स रखी गई है. ये महोत्सव मानव अधिकार एवं सतत विकास के द्वारा हमारे आस पास हो रहे बदलाव को पहचानने एवं महसूस करने की दिशा में यह एक प्रयास है. फोटोग्राफिया एक ऐसा माध्यम है जिसके जरिए उभरते हुए चित्रकार एवं फिल्मकार अपने रचनात्मक विचारों को कैमरे के माध्यम से व्यक्त कर सकते हैं.  स्कूल ऑफ कम्युनिकेशन की डीन प्रोफेसर (डॉ) ऋतु सूद ने अपने विचार व्यक्त करते हुए कहा,” हमें प्रसन्नता है कि हमारे कार्यक्रम में कई देशों से प्रविष्टियां आई हैं, हमारा प्रयास फोटोग्राफिया को एक ऐसे मंच के रूप में विकसित करने का है जिसके माध्यम से छात्र कैमरे में कैद की गई अपनी सृजनशीलता को लोगों के सामने रख सके.

इस उत्सव के दूसरे संस्करण में विश्व भर के प्रतिभागियों से 300 से अधिक प्रविष्टियां प्राप्त हुईं इनमें से 200 चयनित तस्वीरों को ज्यूरी के साथ सामान्य दर्शकों के लिए फोटो प्रदर्शनी में प्रदर्शित किया गया. फिल्म प्रतियोगिता के लिए चार श्रेणियों, दीर्घ अवधि की फिल्में, लघु फिल्में, वृत्तचित्र और जन कल्याण विज्ञापन, में प्रविष्टियां आमंत्रित की गईं थीं. इनमें से चुनिंदा 10 फिल्मों को ज्यूरी और दर्शकों के सामने प्रदर्शित किया गया.

जाने माने अभिनेता निर्देशक निर्माता श्री विवेक वासवानी इस वर्ष कार्यक्रम के मुख्य अतिथि थे. विवेक कई फिल्म महोत्सवों से जुड़े हैं और उन्होंने युवाओं के बीच सिनेमा के प्रचार प्रसार के लिए कई सराहनीय कदम उठाए हैं. अपने उद्घाटन भाषण में उन्होंने कहा, “ये छात्र-छात्राओं के लिए एक तैयार मंच है जिसके तहत वो अपनी क्रिएटिविटी को पर्दे पर उतार उसे आने वाली पीढ़ियों के लिए तैयार कर सकते हैं. क्योंकि अपनी फिल्मों को समझे बिना कोई भी संचार के क्षेत्र में सफल नहीं हो सकता.”

पत्र सूचना कार्यालय के प्रधान महानिदेशक श्री सीतांशु कर एवं ईरान कल्चर हाउस के उपसांस्कृतिक सलाहकार श्री  होआतुल्लाह अबेदी ने बतौर सम्मानित अतिथि कार्यक्रम में शिरकत की. इस मौके पर श्री कर ने कहा ” हम बेहतरीन समय में रह रहे हैं जहां हर किसी के हाथ में एक फिल्में बनाने और तस्वीरें खींचने के लिए एक कैमरा है. लेकिन इन फिल्मों में तथ्य और होने चाहिए. यहीं पर मीडिया कॉलेजों की भूमिका अहम हो जाती है कि वो नई पीढ़ी का मार्गदर्शन करें और उन्हें सकारात्मक संदेश प्रासरित करने के लिए तैयार करें”

फिल्म प्रदर्शन एवं प्रश्नोत्तर काल के बाद फिल्म निर्माताओं ने दर्शकों से अपने अनुभव साझा किए. मीडिया जगत से जुड़ी कई हस्तियों ने इस कार्यक्रम में भाग लिया. कार्यक्रम को ईरान कल्चर हाउस के सहयोग से आयोजित किया गया और इसे एफटीआईआई के एलुम्नाई संगठन ग्रेफेटाई और इनशॉर्ट्स का भी समर्थन प्राप्त है . कार्यक्रम के मीडिया पार्टनर के तौर पर वीटीवी अरेबिया का नाम जुड़ा है.

➡ मायापुरी की लेटेस्ट ख़बरों को इंग्लिश में पढ़ने के लिए  www.bollyy.com पर क्लिक करें.
➡ अगर आप विडियो देखना ज्यादा पसंद करते हैं तो आप हमारे यूट्यूब चैनल Mayapuri Cut पर जा सकते हैं.
➡ आप हमसे जुड़ने के लिए हमारे पेज Facebook, Twitter और Instagram पर जा सकते हैं.

 


Like it? Share with your friends!

Mayapuri

अपने दोस्तों के साथ शेयर कीजिये