अगर बिग बी पर लगे आरोप साबित हो जाते तो… ?

1 min


Amitabh-bachchan-panama-papers-leak.gif?fit=650%2C450&ssl=1

‘.. तो देश के मौजूदा कानून के तहत उनको सजा होती है दस साल की!’ यह कहना है कभी अमिताभ के बहुत घनिष्ठ मित्र रह चुके राजयनिक अमर सिंह का। एक अखबार को दिए अपने विशेष इंटरव्यू में अमर सिंह ने अमिताभ को लेकर बुहत सारे तंज कसे हैं। अमिताभ का नाम पनामा पेपर लीक्स-विवाद में आने से संबंधित सवाल पर सिंह ने कहा कि उनका नाम इस तरह पहली बार नहीं आया। फर्जी किसान में उनका नाम आया, पीठावाला विवाद में नाम आया वैसे सबसे पहले बोफोर्स कांड में नाम आया था। देश के वर्तमान कानून के तहत उन्हें दस साल की सजा हो गई तो विश्वास कीजिए मैं उनसे मिलने जेल जरुर जाऊंगा।

टूटते हैं रिश्ते बिग बी के…

अमिताभ का रिश्ता किसी से स्थायी नहीं बनता, यह आरोप भी अमर सिंह ने लगाया है। सुनील दत्त से उनके रिश्ते टूटे, वहीदा रहमान, मनमोहन देसाई, प्रकाश मेहरा, अमजद खान, मेहमूद, नाडियाडवाला, सोनिया गांधी, प्रिंयका गांधी और बाद में हमसे भी(अमर सिंह) उनके संबंध टूट गए। महमूद ने तो उनको घर में पनाह दी थी, बाद में महमूद ने ये भी कहा कि जो तुमने मेरे साथ किया है किसी और के साथ न करना।

बिग बी के कर्ज की अदायगी

सब जानते हैं कि अमिताभ बच्चन ने ‘एबीसीएल’ नाम की एक कंपनी शुरु की थी जो मिस वर्ल्ड धारावाहिक फिल्म निर्माण और संगीत कंपनी का संचालन करने में जुड़ी थी। यह कंपनी उनको बहुत बड़ा घाटा दे गयी। इस कर्ज को चुकाने के लिए लोन पर लोन लेते गए। कर्जदारों ने उनपर केस ठोका, टैक्स आथॉरिटीज की नोटिस से वह तिलमिला गए थे। घाटे में चल रही कंपनी को चलाने के लिए अमिताभ ने 1993 में स्व छोटू भाई कोशव भाई पीठावाला से 5.65 मीलियन डॉलर का कर्ज लिया था। पीठावाला की कंपनी ने बिग बी पर कर्ज वापसी के लिए और धोखा धड़ी के लिए केस किया था। बताते हैं पीठावाला की कंपनी को जो पैसा कर्ज वापसी के लिए ट्रांसफर किया गया था वह मॉरिशस की कंपनी पीबीएल लिमिटेड ने किया था जो ऑस्ट्रेलियायी अरबपति जैम्स पैकर की है। पीबीएल को पेमेंट मुंबई की कंपनी लहरी प्रोडक्शन ने की थी। इनकम टैक्स सूत्रों के मुताबिक लहरी कंपनी को पैसा सहारा इंडिया मीडिया कम्युनिकेशन लिमिटेड से आया था। ये मामले अब इसलिए दिगर हो रहे हैं क्योंकि पनामा पेपर लीक्स में विदेश में कंपनी खोलने वालों में अमिताभ का भी नाम शामिल है। हालांकि वे इसका खंडन कर रहे हैं।

अमिताभ की प्रॉपर्टी 

बताये जाने वाले सूत्रों के मुताबिक अमिताभ बच्चन और उनकी अभिनेत्री सांसद पत्नी जया बच्चन का आर्थिक साम्राज्य करीब चार अरब रुपयों से अधिक का बैठता है। बीते वर्ष अमिताभ बच्चन ने 72 करोड़ और जया बच्चन ने 14 लाख 52 हजार 604 रुपए का आयकर रिटर्न दाखिल किया है। राज्यसभा सदस्यता के लिए किए गए नामांकन में शपथपत्र में बच्चन दंपति के पास तीन अरब 43 करोड़ 70 लाख 37 हजार 334 रुपए की चल संपत्ति है। इसके अलावा 150 करोड़ रुपए अचल संपत्ति के वह स्वामी हैं। अमिताभ के पास 26 करोड़ से अधिक और जया के पास 48 करोड़ से अधिक के जेवरात हैं। अमिताभ के पास 6 करोड़ 32 लाख 26 हजार 554 रुपए की लग्जरी कारें हैं और जया के पास 38 लाख 85 हजार 612 रुपए के वाहन बैठते हैं। इस दंपति के पास रॉल्स रॉयल्स, मर्सडीज, महिन्द्रा बोलेरो, टोयोटा इनोवा, टोयोटा क्वालिस, टोयोटा लक्सेस, ट्रैक्टर और पोर्स केमन गाड़ियां हैं। घर मुंबई के कई इलाकों में और जमीन दौलतपुर और मुजफ्फरनगर गांव में है। जया बच्चन के नाम काकोरी में जमीन है। एक हिंदी दैनिक में दिए गए इन आंकड़ो में ऐश्वर्या राय बच्चन और अभिषेक बच्चन के नाम वाली प्रॉपर्टीज का जिक्र नहीं किया गया है।

खतरे में अमिताभ के कैम्पेन

पनामा लीक्स के आरोप के बाद सोशल मीडिया पर और राजनयिक हलकों में सवाल उठाया जाना शुरु हो गया है कि बिग बी को उनके राष्ट्रीय कैम्पेन की एंबेसडरी से दूर रखा जाना चाहिए। सेव टाइगर कैम्पेन के वह ब्रैंड एंबेसेडर हैं और मुंबई में बान्द्रा-कुर्ला कॉम्पलेक्स के एडवाइजरी पैनल पद से उनको हटाने की मांग विधान सभा में उठाई गयी है। कई मंत्री उनके खिलाफ बयानबाजी कर रहे हैं कि उनको तबतक दूर रखा जाना चाहिए जब तक कि आरोपों से क्लीनचिट नहीं मिल जाता और, क्लीनचिट पाना अमिताभ की आदत में शुमार है।

 

 

 


Like it? Share with your friends!

Mayapuri

अपने दोस्तों के साथ शेयर कीजिये