साहसी कलाकार विक्रम

1 min


vikram

 

 

मायापुरी अंक 5.1974

पूना इन्स्टीट्यूट से सन् 72 में डिप्लोमा लेकर निकले विक्रम के सामने आशाओं और निराशाओं का समुद्र ठाठें मार रहा था। वह अपने भविष्य के प्रति अत्यन्त सचेत होकर कदम बड़ा रहा था और काम पाने की तलाश में रात-दिन एक कर रहा था। और काम पाने की तलाश में रात-दिन एक कर रहा था। तभी उसे पहली फिल्म ‘प्यासी नदी’ का ऑफर मिला और उसने उसे स्वीकार कर लिया। ‘प्यासी नदी’ में वाणी गणपति एक नई नायिका थी। नए कलाकारों और साधारण कथा ने ‘प्यासी नदी’ को डुबो दिया। विक्रम के सामने दूर-दूर तक अन्धेरा छा गया। मगर इस अन्धेरे में एक आशा की किरण आई निर्माता जोगेन्द्र की फिल्म ‘दो चट्टानें’ यद्यपि बॉक्स ऑफिस पर उतनी सफलता अर्जित नही कर सकी जितनी उससे आशा की जाती थी मगर इससे विक्रम की मार्किट बन गई। उसके काम की सराहना हुई और कई पत्रिकाओं ने उसे असाधारण प्रतिभा सम्पन्न कलाकार कहा सच भी यहा था जो सबसे अधिक उभर कर सामने आया। इसी के कारण फिल्म ने कुछ बिजनेस भी किया। वैसे जोगेन्द्र की हर जगह कोशिश यह रही कि इस असाधारण प्रतिभाशाली युवक की पब्लिसिटी न होने दे। उसने अपने निकटवर्ती एंव मित्र पत्रकारों से कहकर अपने पक्ष में समीक्षाएं अधिक लिखवाई और विक्रम को एक प्रकार से गौण करने की चेष्टा की। इतना होने पर भी विक्रम ने अपने लिए अपने दर्शकों और निर्माताओं के मन में स्थान बना लियां’ दो चट्टानें के बाद विक्रम की फिल्म ‘कालगर्ल’ आई जिसमें नवोदित अभिनेत्री जाहिरा के साथ उसने सराहनीय अभिनय किया। किन्तु यह फिल्म भी बॉक्स ऑफिस पर अभूतपूर्व सफलता प्राप्त न कर सकी। विक्रम के समक्ष एक बार फिर प्रश्नवाचक चिन्ह लग गया। मगर विक्रम शीघ्र ही हतोत्सहित होने वाले युवकों में से नही हैं वह अपनी हर सफलता और असफलता का विवचन अत्यन्त गम्भीरता से करता है. पिछले दिनों जब मेरी भेंट विक्रम से हुई तो उसने कहा,मेरा, काम तो अपने पूर्ण प्रयत्नों से अभिनय को साकार करता है। मैं प्रत्येक पात्र में डूबकर अभिनय करता हूं अब आगे दर्शकों की अपनी पसन्द और मेरा भाग्य है अभिनेता विक्रम फिल्म की सफलता-विफलता में किसी एक व्यक्ति विशेष का हाथ नही मानते। वे तो यह स्वीकार करके चलते है कि फिल्म की सफलता के पीछे फिल्म की पूरी यूनिट का हाथ होता है यदि एक हीरो या हीरोइन के जिम्मे सफलता या असफलता का दायित्व डाल दिया जाए तो यह उचित नही है। विक्रम सफलता की मंजिल पर आगे और आगे बढ़ता जा रहा है। उसकी आने वाली फिल्में ‘मेरे हमराज’ डार्लिग प्रेम बन्धन और ‘अब अंधेरा होता है’ आदि है।


Like it? Share with your friends!

Mayapuri

अपने दोस्तों के साथ शेयर कीजिये