INTERVIEW!! ‘मैं आम बाॅलीवुड रोमांटिक फिल्म का हिस्सा नहीं बनना चाहता..’ इरफान खान

1 min


छोटे परदे पर कई सीरियलों में अभिनय करने के अलावा तिग्मांशु धुलिया की फिल्म ‘हासिल’ में विलेन का किरदार निभाने से लेकर सुजीत सरकार निर्देशित हालिया प्रदर्शित फिल्म ‘पीकू’ में अमिताभ बच्चन और दीपिका पादुकोण के साथ बड़े परदे पर नजर आने के बीच इरफान खान ने अभिनय की कई बुलंदियों को छुआ है. वह बाॅलीवुड के साथ साथ हाॅलीवुड में भी अपनी अभिनय प्रतिभा का लोहा मनवा चुके हैं. कई राष्ट्रीय व अंतर्राष्ट्रीय पुरस्कार उनकी झोली में आ चुके हैं. पर वह बिना किसी शोर शराबे के सिर्फ अपने काम को अंजाम देते जा रहे हैं. बाॅलीवुड में चर्चाएं हो रही है कि फिल्म ‘पीकू’ से पहली बार इरफान खान का रोमांटिक पक्ष उभर कर लोगो कें सामने आया है।

अपनी चिर परिचित ईमेज को तोड़ने के लिए ‘पीकू’ में रोमांटिक किरदार निभाया?

मुझे प्रेम कहानी प्रधान फिल्मों में रोमांटिक किरदार निभाने से परहेज नहीं है. मैं आगे भी रोमांटिक किरदार निभाना चाहूंगा.मगर मैं घिसी पिटी प्रेम कहानी वाली फिल्मों में घिसे पिटे अंदाज के प्रेमी का किरदार नहीं निभा सकता. ‘पीकू’ को लेकर लोग क्या सोच रहे हैैं, मैं नहीं जानता. मगर इस फिल्म में मेरा रोमांटिक किरदार है, पर आम बाॅलीवुड फिल्मों के रोमांटिक किरदार जैसा आपको नजर नहीं आया होगा. ‘पीकू’ से मेरी ईमेज बदली होगी, ऐसा मुझे नहीं लगता. मेरी राय में मुझे इसी तरह की दो चार फिल्में करनी होंगी, तभी रोमांटिक किरदार में दर्शकों के बीच मेरी एक पहचान बन सकेगी. लेकिन में रोमांटिक हीरो के रूप में अपनी ईमेज कभी नहीं बनाना चाहता।

irrfan-khan-big

तो क्या इसी वजह से आप ‘पीकू’में दीपिका पादुकोण के बाद बाॅलीवुड की दूसरी चर्चित अभिनेत्रियों कंगना रनोट व ऐश्वर्या राय बच्चन के साथ रोमांटिक किरदार निभा रहे हैं?

इस तरह की चीजों को मीडिया ही उछालता रहता है.मैं तो सिर्फ फिल्म की स्क्रिप्ट व अपने किरदार के आधार पर फिल्में चुनता हूं.सह कलाकारों का चयन तो निर्देशक करता है. पर जब आप लोगों ने चर्चा करनी शुरू की, तो मेरा भी ध्यान इस बात पर गया. लोग दीपिका पादुकोण के साथ मुझे फिल्म ‘पीकू’ में देख ही चुके हैं. बहुत जल्द तिग्मांशु धुलिया निर्देशित फिल्म ‘डिवाइन लवर्स’ में लोग मुझे कंगना रनोट के साथ तथा संजय गुप्ता निर्देशित फिल्म ‘जज्बा’ में ऐश्वर्या राय बच्चन के साथ देख सकेंगे.मेरा मानना है कि यदि आप खुद की प्रतिभा को निखारना चाहते हैं तो आपको प्रतिभाषाली कलाकारों के साथ काम करना ही होगा।

पर इन तीनों ही फिल्मों में आप प्रेमी के किरदार में हैं?

यदि मेरा बस चलता तो मैं शुरू से ही प्रेम कहानी प्रधान फिल्मों में ही अभिनय करता. निजी जिंदगी में मैं काफी रोमांटिक इंसान हूं. रोमांस में बहुत प्यार होता है, जिसे मैं लोगों के बीच बांटना चाहता हू. मैं अपने करियर के शुरूआती दिनों में ही रोमांटिक फिल्में करना चाहता था, पर उस वक्त मेरे पास जिस तरह की फिल्मों के आफर आए, उन्ही में से बेहतरीन फिल्में चुनकर मैं काम करता रहा.
दूसरी तरफ मैंने महसूस किया कि बाॅलीवुड की कमर्शियल फिल्मों में प्यार को सीमाओं में बांधते हए उसे एक डामेंशनल बनाकर ही हमेशा पेश किया जाता रहा है. जबकि प्यार तो कई डायमोशन वाला मसला है. प्यार में कई विविधतापूर्ण भावनाएं होती हैं. किसी के प्रति अपने प्यार को अभिव्यक्त करने से पहले इंसान कई भावनाओं व संवेदनाओं से गुजरता है.मगर यहां तो लोग लड़की को देखे बिना ही कह देते हैं-‘आई लव यू’, ‘मकबूल’, ‘साहिब बीबी और गैंगस्टर रिटर्न ’तथा ‘द लंच बाक्स’ जैसी फिल्मों भी प्रेम कहानी वाली फिल्में थीं. मगर इन फिल्मों में प्यार को बाॅलीवुड फिल्मों जिस तरह से प्यार को पेश किया जाता है, उस तरह से नहीं पेश किया गया था।

irrfan-khan

कहा जाता है कि फिल्म ‘द लंच बाॅक्स’ के लिए कलाकारों का चयन आपने किया था?

जी हाँ! क्योंकि हमें ऐसे चेहरे चाहिए थे, जो कि इमोशन के स्तर रिलेट किए जा सके. मैंने जैसे ही निमरत कौर की फोटो देखी थी,वैसे ही पूरी कहानी मेरी आॅंखों के सामने सजीव हो उठी थी.इसी वजह से हमने इस फिल्म के लिए निमरत कौर को चुना था.

आप टाॅम हैंक्स के साथ कोई फिल्म करने जा रहे हैं?

जी हां! यह डाॅन ब्रोन की ‘इनफिरिनो’ का अडाॅप्टेशन है.इसका लुक टेस्ट देेकर कुछ दिन पहले ही बुडापेस्ट से वापस आया हूं. वहां पर मेरी मुलाकात टाॅम हैंक्स से भी हुई. अभी तक इस फिल्म में मेरा लुक क्या होगा, यह तय नही हुआ है. इसकी शूटिंग टर्की, बुडापेस्ट व फ्लोरेंस सहित पूरे यूरोप में होगी।

Irrfan_Khan_spe4435

दूसरी हाॅलीवुड फिल्म?

‘जुरासिक वल्र्ड’ कर रहा हूं. जब मैं ड्रामा स्कूल से बाहर निकला था, तभी जुराकि पार्क आयी थी. मुझे फिल्म बहुत पंसद आयी थी. पर इस फिल्म में अभिनय करने की मैंने कल्पना भी नहीं की थी. मुझे अच्छी तरह से याद है जब इसमे डायनासोर दिखाए गए थे. पर आज मैं इस फिल्म का हिस्सा हू।

कहा जा रहा है कि हाॅलीवुड फिल्मों में आप और अनिल कपूर के बीच तुलना होने लगी है?

मुझे नहीं लगता कि हमारे बीच कोई तुलना करता है. जब हम दोनों ने एक सथ फिल्म ‘स्लमडाॅंग मिलेनियर’ एक साथ की थी, तब कुछ लोगो ने इस तरह की बात की थी, जिसे मैंने अनसुना कर दिया था.आप ऐसे कलाकार के साथ मेरी तुलना कैसे कर सकते हैं,जो कि मुझसे काफी सीनियर हैं।

irrfan-khan_110913011559

भविष्य की योजना?

मैं वर्तमान में जीता हूं. मैं नहीं जानता कि में पाँच साल बाद क्या करुंगा. इसलिए आज जिस तरह की जिंदगी जीने का अवसर मिल रहा है, उसे जीते हुए मैं इंज्वाॅय करता हॅूं. मैं खुद को व्यस्त रखने का प्रयास करता हूं।

आपको नहीं लगता कि कला सिनेमा के साथ जब आपका नाम जुड़ता है, तो उसकी वैल्यू बढ़ जाती है?

मैं ऐसा नहीं मानता. मैं तो कला सिनेमा की बात ही नहीं मानता. मेरा शुरू से मानना रहा है कि जिस कला में कामर्स ना हो, वह बेकार है. क्योंकि हर कला को मुनाफा तो करना ही होगा. बिना उसके कोई उसे पूछेगा नहीं.मेेरे साथ कुछ यूं हुआ है कि जिन फिल्मों के साथ मैं जुड़ा हूं, वह फिल्म उन निर्देशकों की सर्वाधिक सफल व महत्वपूर्ण फिल्म साबित हुई.फिर चाहे वह ‘लाइफ आॅफ पाई’ हो या ‘स्लमडाॅग मिलेनियम’ हो या ‘पानसिंह तोमर ’हो या ‘मकबूल’ हो. यह सब इत्तफाकन हुआ कि मैं किसी निर्देशक की सर्वाधिक महत्वपूर्ण और सफलतम फिल्म का हिस्सा बना. मेरे लिए फिल्म के साथ लोगों को जोड़ना बहुत महत्व रखता है.इसलिए कला फिल्मों की तरफ मेरा कभी ध्यान नहीं जाता.मेरा दृढ़ यकीन है कि सिनेमा मनोरंजन करने का ही माध्यम है. हां! उसके बाद आप उसमें कुछ अलग चीजें दे सकते हैं. एक सिनेमा वह होता है, जिसमें सिर्फ शुद्ध मनोरंजन होता है. इस तरह का सिनेमा मुझे कभी पसंद नहीं आता कि आप सिनेमा से निकले और आप उस सिनेमा को भूल गए. सिनेमा बहुत सशक्त माध्यम है.इसमें कहानी को बहुत एक्सप्लोर करते हैं. कहानी की ताकत सिनेमा में खोनी नहीं चाहिए. मेरे लिए यह बहुत जरूरी अवसर है. यदि किसी सफल फिल्म के साथ मेरा जुड़ाव है, तो उसकी सबसे बड़ी वजह यह होती है कि मैंने उस फिल्म को इसलिए चुना है कि उसके साथ दर्शक जुड़ सकेंगे. मैं उन फिल्मों के साथ कभी नहीं जुड़ता, जो बहुत बडे पैमाने में बन रही हों, पर उसके साथ दर्शक न जुड़ सके।

irrfan-khan_640x480_41432728649

आने वाली दूसरी फिल्में?

‘डिवाइन लवर्स’,‘कट्टी बट्टी’ और ‘जज्बा’ के अलावा निर्देशक निशिकांत कामत की फिल्म ‘मदारी’ में लीड रोल कर रहा हॅूं. निशिकांत के साथ मेरी अच्छी ट्यूनिंग है. उनके साथ मैं पहले ‘मुंबई मेरी जान’ कर चुका हूं. उस समय से ही मैं उनके साथ पुनः काम करना चाहता था।

SHARE

Mayapuri