आयुष्मान से लेकर तापसी तक, पढ़ें बॉलीवुड की 5 मसालेदार खबरें

1 min


अगर आप इसे पढ़ पा रहें है तो फिर आप करण जौहर के बहुत करीब हैं

बॉलीवुड में चल रही आपाधापी से कुछ समय के लिए करण जौहर ने लगता है ब्रेक ले लिया है। अपनी मॉम हीरू जोहर और दोनों ट्विन बच्चों यश और रूही को लेकर वे एक रिलैक्स्ड वेकेशन के लिए गोवा चले गए। इस वेकेशन उड़ान के दौरान उन्हें लोगों ने बोल्ड लेपर्ड प्रिंटेड कैमो जैकेट में देखा जिसमें अंग्रेज़ी में लिखा था, “अगर आप इसे पढ़ पा रहें हैं तो मतलब आप बहुत करीब हैं।” हाल ही में करण ने अपना एक नया प्रोजेक्ट लॉन्च किया जो बच्चों के लिए एक पिक्चर बुक है। इस बुक का नाम है, “द बिग थॉट्स ऑफ लिटल लव” । ये पहली बार नहीं जब करण ने अपना लेखन का हुनर दिखाया है। इससे पहले भी उन्होंने, अपना मेमॉयर का सह-लेखन किया जिसका नाम था, ‘एन अन सुटेबल बॉय’। इस बार बच्चों के लिए पिक्चर बुक को लेकर वे बोले, “मैं आप सब के साथ कुछ बहुत ही एक्साइटिंग चीज़ शेयर करना चाहता हूँ और वो है बच्चों के लिए मेरी पहली पिक्चर बुक ‘द बिग थॉट्स ऑफ लिटल लव’, बहुत जल्द ला रहा हूँ। धन्यवाद मिसेस फनी बोन्स जो आपने मुझे लाजवाब चिकिसरकर से परिचय कराया। जग्गेरनौटबुक।” करण ने ये भी बताया कि अपने दोनों बच्चों के पिता बनने के अनुभव ने उन्हें इस बुक को लिखने के लिए इंस्पायर किया

सोनू सूद को ऐसी ऐसी फरमाइशें आ रही है कि वे दंग है

कोरोना दुष्काल के साथ जहां ज्यादातर बॉलीवुड स्टार अपना शौक पूरा करने, हेल्थ बनाने, वीडियो शेयर करने और घर या गार्डेन हाउज़ की सुरक्षा का मज़ा लेने में लगे रहें थे वहीं सोनू सूद इन सब से ऊपर उठकर अपनी सुरक्षा और जिंदगी को दांव में लगाते हुए, गरीब और जरूरतमंदों की मांगें पूरी करते रहे। यही वजह है कि आज सोनू सूद को आम जनता देवदूत या आने वाले दिनों के नेता मानने लगे हैं। लेकिन ऐसे माहौल में कई बार सोनू को अजीब परिस्थितियों से भी दो-चार होना पड़ता है जैसे एक बात एक पति पत्नी ने उनसे तलाक लेने में मदद करने की गुहार लगा दी तो एक लड़के ने अपनी प्रेमिका के साथ घर से भागने में उनकी मदद मांग ली। इसी कड़ी में पिछले दिनों सोनू  के पास एक अजीब पेशकश आई। किसी ने फरमाईश की, “सर इस बार हमें बिहार के भागलपुर से विधानसभा चुनाव लड़ना है और जीतकर सेवा करना है। बस सोनू सर आप मुझे बीजेपी से टिकट दिलवा दो।” इस मांग पर सोनू ने भी तीर का जवाब तुक्का में देते हुए कहा “बस, ट्रेन और प्लेन की टिकट के अलावा मुझे कोई टिकट दिलवाना नहीं आता मेरे भाई।”  एक मंगतू राम ने तो सोनू से ट्वीट करके एक एप्पल आईफोन की मांग कर डाली और कहा कि उन्होंने आईफोन के लिए उन्हें  20 बार ट्वीट भी किया। इस पर सोनू ने भी पलट जवाब देते हुए कहा, “मुझे भी एक फोन चाहिए, इसके लिए मैं आपको 21 बार ट्वीट करने को तैयार हूं।” एक फैन ने मांग की, “मुझे 1 साल के लिए अमेजॉन प्राइम अकाउंट में  होना है  इसलिए 1 साल के लिए थोड़ा हेल्प करो प्लीज, मैं व्ही मूवी के लिए बेसब्री से इंतजार कर रहा हूं।” इस पर सोनू ने जवाब दिया, “भाई क्या मैं साथ में एक टेलीविजन, एक एयर कंडीशनर और ढेर सारा पॉपकॉर्न भी भेज दूं?”

सुहाना खान उन्हें बहुत मिस कर रही है

सुहाना खान पिछले पांच महीने से मुंबई में अपने मम्मी पापा (गौरी और शाहरुख खान) के साथ रह रही है। मिस खान ने यूके के आर्डिंग्ली कॉलेज से स्कूल कॉलेज की पढ़ाई खत्म की थी और फिर फिल्म स्टडीज कोर्स के लिए न्यूयॉर्क यूनिवर्सिटी  चली गई थी। लेकिन कोरोना के कारण उन्हें न्यूयॉर्क छोड़कर मुंबई आ जाना पड़ा था और अब पांच महीने से एक ही जगह रहकर सुहाना को उन दिनों की याद आ रही है जब वह अपने स्कूल की सभी सहेलियों के साथ मस्ती किया करती थी। सुहाना ने पिछले दिनों अपने क्लासमेट्स के साथ वाली एक प्यारी सी थ्रो बैक पिक्चर शेयर करते हुए बताया कि उन्हें अपनी सहेलियों के साथ बिताए वह दिन बहुत याद आ रहें है। वह उन सब को बहुत  मिस कर रही है। उस तस्वीर में सुहाना अपने आर्डिंग्ली कॉलेज यूके की सहेलियों के साथ, शायद डोर्म रूम के बिस्तर पर बैठी दिख रही है। सभी लोग बड़े स्टाइल में, फैशनेबल कपड़ों में चिल करते नज़र आ रहे हैं। इस तस्वीर को सुहाना ने कैप्शन दिया ‘मिसिंग’। सुहाना के पोस्ट को फॉलो करने वाली उनकी उन्ही सहेलियों ने भी जब तस्वीर देखी तो सबने मिलकर उन दिनों को याद किया। एक ने कहा “ये हम तीन स्टनिंग लेडीस की तस्वीर है ” दूसरी ने लिखा, “हम सब कितने स्टनिंग है।” यह तस्वीर शेयर होते ही रातों रात वायरल हो गई, जिसे आलिया ने भी लाइक किया

आयुष्मान खुराना अब उन बच्चों की देखभाल के लिए स्पोर्ट करेंगे

यूनिसेफ इंडिया ने पिछले सप्ताह आयुष्मान खुराना को ‘सेलिब्रिटी एडवोकेट फॉर चिल्ड्रंस राइट’ अनाउंस किया, आयुष्मान खुराना यूनिसेफ के साथ मिलकर बच्चों के प्रति हो रही हिंसा को रोकने में सपोर्ट कर रहे हैं। वे पूर्व फुटबॉल स्टार खिलाड़ी डेविड बेकहम, जो वैश्विक तौर पर बच्चों के मुद्दे से जुड़े हैं, की तरह काम करेंगे। भारत के यूनिसेफ प्रतिनिधि डॉ यासमीन अली हक़ ने कहा कि उन्हें यूनिसेफ सेलिब्रिटी एडवोकेट के रूप में आयुष्मान खुराना को पाकर बहुत खुशी हो रही है क्योंकि उन सब को विश्वास है कि उनका सपोर्ट बच्चों के प्रति हिंसा के मुद्दे को लेकर जन जागरण पैदा करेगी। उन्होंने कहा, “आयुष्मान हर बच्चे के प्रति संवेदना और पैशन पैदा करने के लिए एक शक्तिशाली और बुलंद आवाज है।” आयुष्मान जो खुद दो बच्चों के पिता हैं कहते हैं, “मेरा बचपन सुखद यादों से भरा हुआ है जो मेरे चेहरे पर मुस्कुराहट ले आती है, लेकिन बहुत से बच्चे ऐसे होते हैं जिनका बचपन अधूरा रहता है। मैं चाहता हूं हर बच्चे को जिंदगी की शुरुआत अच्छी मिले। जब मैं अपने बच्चों को घर की सुरक्षा में खुशी के साथ रहते देखता हूं तो मुझे उन बच्चों का बहुत ख्याल आता है जिन्हें सेफ चाइल्डहुड में पलने का अनुभव नहीं मिलता। वे घर पर या बाहर हर जगह असुरक्षित महसूस करते हैं। मैं यूनिसेफ के साथ मिलकर बच्चों के राइट्स को सपोर्ट करने की दिशा में काम करूंगा।”

तापसी ने जब हिंदी और पंजाबी में कविता सुनाई तो दर्द का एक सैलाब उमड़ पड़ा

तापसी पन्नू ने कोरोना काल में प्रवासी  मजदूरों के दुख दर्द को बयां करते हुए एक शॉट कार्टूनाइज़्ड वीडियो शेयर किया जिससे वे खुद एक कविता रिसाइट करती दिख रही है, जिसका नाम है ‘सफ़र’। तापसी ने उस वीडियो को आवाज देते हुए हिंदी और पंजाबी में कविता स्वरूप जो कहा उसका अर्थ कुछ यूं है, “सफर , क्योंकि कुछ लोगों के लिए यह अभी भी खत्म नहीं हुआ है  वह यातनाएं अभी जारी है। माइग्रेंट्स, लॉकडाउन, कोविड, सफर, जर्नी।” उस कविता में तापसी ने यह बताया कि किस तरह यह प्रवासी मजदूर लोग आकरअपनी कड़ी मेहनत से मेट्रो सिटीज में बसे लोगों का जीवन आसान कर देते हैं। यह वीडियो कहानी उन हजारों प्रवासी मजदूरों के प्रति समर्पित है जो कोरोनावायरस लॉकडाउन के कारण बुरी तरह प्रभावित हुए थे। तापसी बॉलीवुड की उन स्ट्रॉन्ग अभिनेत्रियों में शुमार की जाती है जो हक के साथ अपनी बात सामने रखते हैं और इस बात का भी ख्याल रखती है कि उनकी आवाज़ सुनी जाए।


Like it? Share with your friends!

Mayapuri

अपने दोस्तों के साथ शेयर कीजिये