बॉलीवुड को बायोपिक पसंद है, लेकिन क्यों ?

1 min


Bollywood_Biopic
Biopics in Bollywood

क्या ये बॉलीवुड में व्यक्तिवाद का दौर है या फिर अच्छी कहानियों की कमी, जो बॉलीवुड को एक शख्शियत पर आधारित फिल्में बनाने पर मजबूर कर रहा है। लगातार बन रही बायोपिक फिल्मों की सफलता शायद इसी तरफ एक इशारा कर रही हैं। मैरी कॉम, भाग मिल्खा भाग, पान सिंह तोमर, अजहर, एमएस धोनी से लेकर दंगल और फिर हसीना पार्कर तक का बॉलीवुड बायोपिक्स का सफर अभी थमा नहीं है। आने वाले कुछ सालों में सिल्वर स्क्रीन पर बायोपिक की बाढ़ आने वाली है।

अक्षय कुमार कर रहे 3 बायोपिक

संजू बाबा के जीवन पर एक फिल्म में जहां रणबीर कपूर काम कर रहे हैं। तो दूसरी तरफ खिलाड़ी कुमार, हॉकी खिलाड़ी बलबीर सिंह पर आधारित फिल्म गोल्ड समेत तीन बायोपिक फिल्में करने जा रहे हैं। बाकी की दो टी सीरीज के गुलशन कुमार पर ‘मोगुल’ और अरुणाचल के मुरुगनाथन पर बन रही फिल्म ‘पैड मैन’ हैं। बायोपिक फिल्म मेकर्स की मानें तो अब दर्शक रियल लाफ हीरोस पर बनी फिल्मों को लाइक कर रहे हैं। ऐसे लोग जिनके बारे में उन्होंने कभी सुना हो, या उनके जैसा बनने की उनकी फैंटेसी रही हो।

Read This: अर्शी पर दर्ज हैं 10 केस, क्या सफाई मांगेंगे सलमान खान ?

2018 में बायोपिक फिल्मों का सैलाब

आपको जानकर ताज्जुब होगा कि लगभग एक दर्जन से ज्यादा बायोपिक्स इस वक्त बन रही हैं।रणबीर कपूर संजू बाबा पर बन रही फिल्म के अलावा, अनुराग कश्यप की एक फिल्म मैं किशोर दा का किरदार भी निभाने जा रहे हैं। दंगल में महावीर फोगाट बनकर सिल्वर स्क्रीन पर धमाल कर, बॉक्स ऑफिस पर करोड़ों कमा सारे रिकॉर्ड धराशायी कर इस ट्रेंड को सेट करने वाले आमिर खान भी जल्द एक और बायोपिक में नजर आने वाले हैं। इस फिल्म में वो अंतरिक्ष यात्री राकेश शर्मा का किरदार निभाएंगे।

इस लीग में मैरी कॉम बनकर ट्रेंड सेट करा प्रियंका चोपड़ा ने और अब एक और खिलाड़ी के जीवन को पर्दे पर जीने जा रही हैं श्रद्धा कपूर। हसीना पार्कर के रोल में क्रिटिक्स का निशाना बनी श्रद्धा अब सायना नेहवाल पर बन रही बायोपिक में उनका किरदार निभाने जा रही हैं।बहरहाल बायोपिक की इस बाढ़ पर हमारी राय दर्शकों की पसंद के साथ ही है।

Read This: इरफान खान ने किए कास्टिंग काउच पर चौंकाने वाले खुलासे

2017 में नहीं चल पाया बायोपिक का जादू

फिल्मों में गैंग्स्टर्स के महिमा मंडन को दर्शक सीधे तौर पर कई बार पहले भी नकार चुके हैं। हसीना पार्कर और डैडी जैसी फिल्मों का हश्र तो आप सभी जानते ही हैं। इक्का-दुक्का नामों को अगर छोड़ दें, तो हर दौर में बायोपिक के नाम पर लोगों को मोटिवेट करने वाली फिल्में बॉक्स ऑफिस पर ज्यादा कमाई करती नजर आती हैं।

शायद उसकी वजह एक आम आदमी की स्ट्रगल और उसके इमोशन का किसी भी दूसरे व्यक्ति की स्ट्रगल और इमोश्नल जर्नी से जुड़ाव हो।


Like it? Share with your friends!

Mayapuri

अपने दोस्तों के साथ शेयर कीजिये