Box Office: शोषित औरत का प्रतिशोध- भूरी

1 min


इसमें कोई शक नहीं कि यूपी सरकार कम बजट की उद्देश्यपूर्ण फिल्मों को पूरा सपोर्ट करती है । वो न सिर्फ उन्हें सब्सिडी देती है बल्कि उन्हें प्रदेश में टेक्स मुक्त भी करती है । पिछले दिनों प्रोडूसरचन्द्रपाल सिंह तथा डायरेक्टर जसबीर भाटी की फिल्म ‘भूरी’ को प्रोत्साहित करते हुये उसे सब्सिडी देने का एलान किया गया । फिल्म में बताने की कोशिश की गई है कि अगर आप ओरत की इज्जत न करते, उसका शोषण करोगे तो तुम्हें उसके बदले बहुत बुरा अंजाम भुगतना पड़ सकता है ।

Bhouri-Movie-2016-hot-scenes-of-Masha-Paur10
यूपी के एक गांव में अन्य लोगों की तरह रघुवीर यादव भी इंटों के भट्टे पर दिहाड़ी मजदूर है । मॉशा पॉर एक ऐसी लड़की है जिसे न जाने क्यों कितने ही लोगों ने अस्वीकृत कर दिया लिहाजा उसे अधेड़ रघुवीर के साथ शादी करनी पड़ी। माशा की खूबसूरती को देखकर गांव के जमींदार मोहन जोशी, बनिये मनोज जोशी, डॉक्टर शक्ति कपूर तथा पंडित सीताराम पांचाल जैसे दंबगों की नीयत डोलने लगी । एक दिन उन्होंने डॉक्टर के जरिये रघुवीर को एड्स का मरीज बता कर गांव से बाहर कर दिया, तथा मॉशा को शहर से आये एक फोटोग्राफर के साथ अनेतिक अवस्था में देख उसका बहिष्कार करने का ऐलान कर दिया । उधर रघुवीर भी माशा को छोड़ देता है । इसके बाद माशा प्रतिशोध वश एक एक करके गांव के तकरीबन हर मर्द के साथ हम बिस्तर होती है । एक दिन ऐसा भी आता है जब पता चलता है रघुवीर को छोड़, मॉशा समेत पूरे गांव को एड्स है । इस तरह एक औरत अपने शोषण को लेकर पूरे गांव की मौत का कारण बन जाती है ।

Bhouri-Stills-10

डायरेक्टर जसबीर भाटी की ये पहली फिल्म है जिसमें वे जो भी बताना चाहते थे , वो सब प्रभावशली ढंग से बताने में कामयाब हैं । फिल्म में ऐसी कितनी ही चीजें हैं जिनकी बदौलत फिल्म दर्शनीय बन गई । जैसे फिल्म की रीयल लोकेशसं, असली ईटं का भट्टा और वहां काम करते गांव के लोग तथा परफेक्ट कास्टिंग, बेहतरीन विषय और लाजवाब फिल्मांकन यानि कथा पटकथा और संवाद सभी कुछ उम्दा । इसके अलावा कहानी में गुंथा संगीत फिल्म को और प्रभावी बनाता है । फिल्म में तकरीबन सारे आर्टिस्ट बॉलीवुड के नामचीन परफार्मर हैं बावजूद इसके उनमें से सिवाय रघुवीर यादव के एक भी फिल्म के प्रमोशन में भाग लेता दिखाई नहीं दिया । लिहाजा एक बेहतरीन फिल्म का महज प्रमोशन के बिना दर्शकों तक पहुंचना मुश्किल है ।

Aditya-Pancholi
रघुवीर यादव कितने बेहतरीन अदाकार हैं ये उनकी ढेर सारी फिल्में साबित करती रही हैं । फिल्म में रघुवीर यादव ने अधेड़ उम्र के धनिया के किरदार की हर विधा को शिद्दत से जी कर दिखाया है । ये देखकर बड़ा दुख होता है कि इस बेहतरीन अदाकार को बॉलीवुड क्यों नजरअंदाज करता रहा है । माशा पॉर बेसिकली स्कॉटलैंड की विदेशी लड़की है लेकिन उसने गांव की असहाय और मजबूर ओरत भूरी की भूमिका को एक अनुभवी अभिनेत्री की तरह निभा कर दिखाया है । मोहन जोशी, शक्ति कपूर, मुकेश तिवारी, मनोज जोशी, सीताराम पांचाल,आदित्य पंचोली तथा कुनिका आदि कलाकार शुरू से अंत तक फिल्म में अपनी बढ़िया उपस्थिति से अवगत करवाते रहते हैं।

new-hindi-movie-bhouri-official
भूरी ऐसी फिल्म है जो एक शोषित नारी के प्रतिशोध को प्रभावशाली ढंग से दर्शाती है, लिहाजा भूरी जैसी उद्देश्यपूर्ण फिल्म बनाने के लिये फिल्म के निर्माता चन्द्रपाल सिंह विशेष बधाई के पात्र हैं ।


Like it? Share with your friends!

Mayapuri

अपने दोस्तों के साथ शेयर कीजिये