सुमन सेन की पहली फिल्म ‘एका (सोलो)’ की पटकथा कान्स फिल्म फेस्टिवल में हुई शामिल

1 min


लेखक निर्देशक के रूप में सुमन सेन की पहली फिल्म ‘‘एका (सोलो)’’ एक किरकिरा सामाजिक- राजनीतिक फीचर फिल्म है, जिसे ‘ला फैब्रिक सिनेमा डे ल इंस्टिट्यूट फ्रैंकेस 2021’ में चुना गया है, जो कान्स फिल्म फस्टिवल’ में युवा फिल्म निर्माताओं के लिए एक सम्मानित कार्यक्रम है। फेस्टिवल डी कान्स के हिस्से के रूप में दुनिया भर के वितरकों और एजेंटों के साथ नेटवर्क बनाने के लिए यह उत्तम माध्यम है। इसमें दुनिया भर की नौ अन्य फिल्मों के साथ सुमन की फिल्म ‘एका’ यानी कि सोलो का चयन किया गया है।

फिल्म ‘एका’ भारत की चैथी फिल्म है, जिसका चयन इस प्रतिष्ठित फिल्म समारोह के लिए किया गया है। पर इस फिल्म का निर्माण बांग्लादेश के ‘गूपी बाघा प्रोडक्शंस’ के अरिफुर रहमान और बिजोन तथा फ्रांस से डीडब्ल्यू प्रोडक्शंस के प्रसिद्ध निर्माता डोमिनिक वेलिंस्की द्वारा किया गया है,जो इसे वास्तव में अंतर्राष्ट्रीय स्तर की फिल्म का बनाता है।

‘एका’ सोलो की पटकथा 2019 में एनएफडीसी फिल्म बाजार के सह-उत्पादन बाजार का हिस्सा थी और 2020 में टोरिनो फिल्म लैब नेक्स्ट (टीएफएल) द्वारा भी चुनी गयी थी।

लेखक-निर्देशक सुमन सेन ने इस फिल्म में एक कमजोर और नाजुक आम आदमी के नजरिए से आज की दुनिया की एक अमर कहानी पेश की हैं। कोलकाता पर आधारित यह फिल्म हमारे समाज की बिगड़ती सामाजिक, आर्थिक और सांस्कृतिक परिस्थितियों को बयां करती है।

फिल्म ‘एका’ की कहानी 56 वर्षीय लंबे समय से मधुमेह से पीड़ित बीमा एजेंट बिप्लब के जीवन के एक सप्ताह की कहानी है। हर सुबह, भीड़-भाड़ वाली बस में अपने कार्यालय के रास्ते में, वह मुख्य शहर के चैराहे के बीच में एक विशाल निर्माणाधीन मूर्ति का एक विशाल मानव पैर की अंगुली देखता है। पूरी तरह से नीले तिरपाल से ढकी मूर्ति को आम आदमी का प्रतिनिधित्व माना जाता है। शहर राष्ट्रपति द्वारा स्मारक प्रतिमा के उद्घाटन का बेसब्री से इंतजार कर रहा है।

बिप्लब निराशा और निराशा की स्थिति में और गहरा होता जाता है। जब उसके जीवन में सब कुछ गलत होने लगता है, तो यह भावना कि वह अपने प्रियजनों को विफल कर रहा है, उसी तरह समाज भी उसे विफल कर रहा है। उसका अपराध बोध क्रोध में बदल जाता है। एक सुबह, बिप्लब भीड़-भाड़ वाली बस से उतर जाता है और मूर्ति के सामने अवाक और गतिहीन हो जाता है। बाद की घटनाओं में, बिप्लब खुद को अपने ही शहर में एक बड़े विद्रोह को जन्म देता हुआ पाता है। उनका प्रतिरोध एक शक्तिशाली विश्वव्यापी आंदोलन को जन्म देता है।

कोलकाता में जन्मे और पले-बढ़े और मुंबई में ‘फिकल फार्मूला’ के संस्थापक सुमन सेन एक लेखक, निर्देशक और निर्माता हैं। व्यवसाय, डिजाइन और संचार का अध्ययन करने के कई दशक से पेशेवर विज्ञापन फिल्म निर्माता की हैसियत से कई विज्ञापन एजेंसियों और ब्रांडों के साथ काम कर चुके हैं। सुमन के पास विशिष्ट सांस्कृतिक अंतर्दृष्टि द्वारा समर्थित एक विशिष्ट रूप से निहित और विशिष्ट दृश्य कहानी है। इन दिनों वह ब्रांडों के लिए विज्ञापनों और डिजिटल सामग्री का निर्देशन और निर्माण कर रहे हैं। वह कभी-कभी प्रतिष्ठित विश्वविद्यालयों और संस्थानों में विज्ञापन और न्यू मीडिया पर पढ़ाते हैं।

सुमन सेन ने हाल ही में नेपाल के मस्टैंग में अपनी लघु फिल्म ‘द साइलेंट इको‘ की शूटिंग पूरी की है, जो एक अंतर्राष्ट्रीय सह-उत्पादन थी। वह ताइवान में अपनी दूसरी लघु फिल्म ‘छद्म‘ पर काम कर रहे हैं, जिसे ताइचुंग सरकार से एक प्रतिष्ठित उत्पादन अनुदान प्राप्त हुआ है। उनकी पहली फीचर फिल्म ‘एका‘ की पटकथा एनएफडीसी फिल्म बाजार को-प्रोडक्शन मार्केट 2019 और टोरिनो फिल्म लैब 2020 का हिस्सा थी और अब ला फैब्रिक सिनेमा डे ल‘इंस्टीट्यूट फ्रैंकैस 2021 का हिस्सा बनी है।

मूलतः कोलकाता निवासी मगर वर्तमान में मुंबई मे रह रहे कंटेंट स्टूडियो ‘‘फिकल फॉर्मूला’’ के संस्थापक सुमन सेन कहते हैं- “मेरा मानना है कि आज हमारा समाज जिस कारण से विफल हो रहा है, वह हमारे अतीत के बोझ से आता है। मैं अपने पिता की आंखों से दुनिया देखता हूं। उनकी पीढ़ी ने हमें पूरी तरह से, हर मायने में विफल कर दिया।समाज, अपने राष्ट्र के प्रति उनकी उदासीनता के कारण हम बौद्धिक रूप से दिवालिया, भावनात्मक रूप से अलग-थलग और राजनीतिक रूप से पंगु हो गए हैं। फिल्म उस समय को दर्शाती है और दस्तावेज करती है जिस तरह से मैं पिछले कुछ सालों से जी रहा हूं। नफरत, असहिष्णुता, हिंसा का समय।”

फिल्म ‘एका’ का फिल्मांकन 2022 में होगा। “खुद गोपी बाघा प्रोडक्शंस के निर्माता अरिफुर रहमान कहते हैं-‘‘हम वर्तमान में कलाकारों और चालक दल के ऑडिशन और अंतिम रूप देने की प्रक्रिया में हैं और दुनिया भर के कुछ बेहतरीन अभिनेताओं और क्रू के साथ बातचीत कर रहे हैं। शूटिंग 2022 के मध्य में कोलकाता में शुरू होने की संभावना है।”

जबकि डीडब्ल्यू के संस्थापक डोमिनिक वेलिंस्की ने कहा- “जब से मैं उनसे पहली बार मिला, मुझे विश्वास था कि सुमन सेन भारतीय स्वतंत्र सिनेमा में एक ताजा और नई आवाज लाती हैं। मुझे पहले से ही एक पिछली लघु फिल्म ‘द साइलेंट इको‘ में उनकी संवेदनशीलता और मजबूत राजनीतिक एंकरिंग का अनुभव करने का आनंद मिला है और इसलिए मुझे इस नए साहसिक कार्य का हिस्सा बनने पर भी गर्व है।”


Like it? Share with your friends!

Mayapuri

अपने दोस्तों के साथ शेयर कीजिये