“मुझे राखी सावंत की पप्पी लेनी है” – चच्चा फिल्मी

1 min


rakhi sawant chacha filmi

पता नही क्यों पिछले कई दिनों से चच्चा फिल्मी मीका सिंह के गाने लगातार सुन रहे थे। सुबह सुबह आरती की बजाय मीका का गाना.. दोपहर को खाना खाते वक्त मीका का गाना। रात को चच्ची के खर्राटो के बीच मीका का गाना। चच्ची परेशान होकर मेरे पास आई और बिलबिलाई, “भैया, कुछ समझायें ना इनको.. मीका का भूत चढ़ गया है इन पर.. मुझे तो लगता है मेरा मियां बदल कर मीका बन गया है।“
मैंने चच्ची को समझा बुझाकर घर भेजा। और चच्चा फिल्मी को ढूंढने निकल पड़ा। पर यह क्या, मेरे पैरों की जमीन कांपने लगी जब मैंने चच्चा फिल्मी को हवाई किस उछालते देखा। वो चौराहे पर खड़े होकर, हर आती जाती मोहतरमा पर अपने पिचपिचे किस उड़ा रहे थे।
“यह क्या कुफ्र तोल रहे हो चच्चा, इस उम्र में जूतियां खाने की तमन्ना क्यों बिलबिला रही है?” मैं उन्हें खींच कर किनारे पर ले गया।
“क्यों मेरी किस्मत के रास्ते पर बिल्ली बनकर दनदना रहे हो.. बेमुरव्वत राइटर, मैं एक मकसद के लिये पप्पियां दनदना रहा हूं।“ चच्चा फिल्मी जंग लगे लोहे के तार सा भरभरा के बोले।

“मकसद ? बेशर्मी से आती जाती माताओं-बहनों को किस उछालने में भला क्या मकसद है?” मैनें तिड़तड़ा कर चच्चा को भड़भड़ाया।
“अरे नामाकूल, नालायक, मुझे राखी सांवत की पप्पी लेनी है। बस उसी की प्रैक्टिस कर रिया हूं।“ चच्चा फिल्मी च्यूगम के गुब्बारे सा फुसफुसाए।
“राखी सांवत की पप्पी? लगता है चच्चा, बुढ़ापे में अक्ल को जुंए पड़ गई है। तभी बेपर की खुज़ला रहे हो। राखी सांवत को छेड़ोगे तो पूरे मुल्क में बदनाम कर देगी। और उसकी सहेली तो सरे आम झापड़ रसीद करके थोबड़े की ज्योग्राफी बदल देगी।“ मैंने चच्चा को समझाते हुये कहा।

“लो कल्लो बात, अरे यही तो मैं चाह रिया हूं मियां.. वो मुझे बदनाम करे, गालियां दे, थप्पड़ रसीद करके करे” चच्चा छाती में दो इंच की फूंक भर के कसमसाये।
“मतलब? तुम राखी सावंत से जानबूझ कर पंगा लेने जा रहे हो चच्चा? मामला है क्या, जरा उगलदानी में उंगलो।“ मैंने उत्सुकता से पूछा।
“अरे मेरे लाल, मेरे पिलपिले राइटर, मैं मीका सिंह जैसा मशहूर होना चाहता हूं! उसने भी तो राखी सावंत की पप्पी ली थी तो पूरी दुनिया में उसका नाम हो गया था। अब जब मैं राखी सांवत की जोरदार पप्पी लूंगा तो हंगामा हो जायेगा। चच्चा फिल्मी नंबर बन जायेगा, कसम पड़ोसी के खाज़ पड़े कुत्ते की” चच्चा ने जोरदार हवाई किस मेरी तरफ उछाला और दनदनाते हुये वापिस चौराहे पर खिसक लिए।
अब इन्हें कौन समझाये कि मीका सिंह अपनी काबिलियत से सफल हुआ है। उसकी गायकी और व्यवहार ही उसे नंबर वन बनाता है। और राखी सांवत के बारे में दुनिया कुछ भी कहे। वो जमीन से उठकर इतना उपर पहुंची है। उसका तरीका बेशक हर एक को पसंद ना आता हो पर उसका अदाओं का लुत्फ हर कोई लेना चाहता है।
अब चच्चा फिल्मी पता नही राखी सांवत की पप्पी ले पायें या ना, पर चच्ची के बेलन का शिकार जरूर हो जायेंगे।

(लेखक हरविन्द्र मांकड़)


Like it? Share with your friends!

Mayapuri

अपने दोस्तों के साथ शेयर कीजिये