शास्त्रीय संगीत की मल्लिका किशोरी अमोनकर का निधन

1 min


शास्त्रीय संगीत की लोकप्रिय तान गायिका किशोरी अमोनकर का सोमवार देर रात मुंबई में प्रभादेवी स्थित उनके घर पर निधन हो गया। वो 84 वर्ष की थीं। बताया जा रहा कि वे पिछले कुछ दिनों से बीमार थी। अमोनकर का जन्म 10 अप्रैल 1932 को हुआ था. अमोनकर को भारत सरकार ने वर्ष 1987 में पद्म भूषण और 2002 में पद्म विभूषण से सम्मानित किया गया. 2010 में उन्हें संगीत नाटक अकादमी का फेलो नियुक्त किया गया।

जयपुर घराने की प्रवर्तक कही जाने जाने वाली किशोरी अमोनकर ने अपनी माँ मोघूबाई कुर्डीकर से संगीत की शिक्षा ली थी। गायिकी की अपनी अगल शैली के चलते संगीत की दुनिया में उन्होंने अपनी एक अलग पहचान बनाई थी. उन्हें हिंदुस्तानी संगीत की पारंपरिक रागों पर शास्त्रीय ख्याल गायिकी में महारत हासिल थी। ठुमरी, भजन और फिल्मी संगीत में भी उन्होंने पहचान बनाई। किशोरी अमोनकर के निधन के बाद कई दिग्गज हस्तियों ने सोशल मीडिया पर शोक व्यक्त किया है।


Like it? Share with your friends!

Mayapuri

अपने दोस्तों के साथ शेयर कीजिये