रिलीज से पहले ही विवादों में गुजराती फिल्म ‘गऊ रक्षक’

1 min


फिल्म के लेखक निर्देशक मनोज नाथवानी ने बताया कि ‘गऊ रक्षक’  को सेंसर बोर्ड ने यू/ए सर्टिफिकेट दिया है। हाँ कुछ संवाद को बिना आवाज़ के साथ फिल्म में रखा जरूर गया है।

उन्होंने कहा  एक बात साफ तौर पर बता दूँ कि मैंने अपनी फिल्म में किसी भी प्रकार का ऐसा दृश्य और संवाद नहीँ दिखाने का प्रयास किया है जिससे सांप्रदायिक तनाव पैदा होने की नौबत आये। मैंने यह फिल्म बनाते समय सिर्फ इतना ही सोचा था कि गाय को हमारे हिन्दू शास्त्र में माता का दर्जा प्राप्त है, उसमें 33 करोड़ देवी देवताओं का वास रहता है फिर भी भारत में उनका उचित देखभाल नहीं हो पा रहा है इसीलिए कम से कम मेरी फिल्म के माध्यम से लोग जागृत हो सकें।  लेकिन फिर भी गुजरात के सिनेमाघरों के मालिकों ने फिल्म को रिलीज करने में पाबन्दी लगा दी है। वैसे भी गुजरात बहुत ही छोटी टेरिटरी है, हमें फिल्म को रिलीज करने के लिए बड़ी मुश्किल से 100 सेंटर मिल पाते हैं।

जब मैंने उनसे संपर्क किया तब पता चला कि पोस्टर लगते ही कुछ धार्मिक समुदाय के तोड़ फोड़ करने पर उतारू हो सकते हैं  और दंगा भड़क सकता है।

सिनेमाघर मालिक का कहना है हम किसी भी प्रकार का रिस्क लेकर अपना नुकसान नहीं उठा सकते। ‘गऊ रक्षक’ फिल्म के निर्माता पंकज गोस्वामी और लेखक – निर्देशक मनोज नाथवानी हैं।

फिल्म में मुख्य भूमिकाओं में पंकज गोस्वामी, फिरोज़ ईरानी, शरद व्यास, शरद शर्मा, अभिषेक द्विवेदी, राजन गाला और हेमंत झा नज़र आएंगे। मनोज नाथवानी ने अब तक 28 गुजराती सिनेमा का निर्माण किया है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी  गुजरात में अपने मुख्यमंत्री पद के कार्यकाल के दौरान मनोज नाथवानी को बेस्ट डायरेक्टर से नवाज़ चुके हैं।

➡ मायापुरी की लेटेस्ट ख़बरों को इंग्लिश में पढ़ने के लिए  www.bollyy.com पर क्लिक करें.
➡ अगर आप विडियो देखना ज्यादा पसंद करते हैं तो आप हमारे यूट्यूब चैनल Mayapuri Cut पर जा सकते हैं.
➡ आप हमसे जुड़ने के लिए हमारे पेज Facebook, Twitter और Instagram परa जा सकते हैं.


Mayapuri