क्राइम पेट्रोल का कैलाश सत्यार्थी के साथ गठबंधन

1 min


क्राइम पेट्रोल ने गणतंत्र दिवस के अवसर पर बाल श्रम एवं दुल्हनों की तस्करी पर विशेष सीरीज की पेशकश के लिए नोबल शांति पुरस्कार विजेता कैलाश सत्यार्थी से गठबंधन किया
Kailash Satyarthi with Anoop Soni एक ओर भारत 66वां गणतंत्र दिवस मनाने की तैयारियों की जुटा है, तो दूसरी ओर सोनी एन्टरटेनमेंट टेलीविजन के शो क्राइम पेट्रोल सतर्क ने भी नोबल का शांति पुरस्कार जीतने वाले कैलाश सत्यार्थी के सहयोग से दिल को पीड़ा पहुंचाने वाली सीरीज का प्रदर्शन करने की तैयारी कर ली है। गणतंत्र दिवस के आसपास दिखाई जाने वाली यह सीरीज बाल श्रम एवं दुल्हनों की तस्करी पर विशेष मामलों की खोजबीन करेगी। अपराध की दरों में बढ़ोतरी किसी देश के विकास को रोकने में निर्णयात्मक भूमिका निभाती है। इसलिए देश भर में हो रहे अपराधों पर नजर रखने की जरूरत है। क्राइम पेट्रोल सतर्क एक डॉक्यू-ड्रामा है जिसमें असल जिंदगी की घटनाओं को नाटकीय ढंग से पेश किया जाता है। इस शो का उद्देश्य अपराध को रोकना है। हम दर्शकों को उनके आसपास मौजूद संभावित खतरों और आपराधिक गतिविधियों के प्रति सतर्क करते हैं। ‘‘क्राइम नेवर पेज‘‘ की टैगलाइन के साथ इस सीरीज में भारत के इतिहास में हुए सबसे दर्दनाक अपराधों का प्रदर्शन किया जाता है।

Kailash Satyarthi with Anoop Soni in Delhiइसमें 2012 में दिल्ली में हुए गैंग रेप मामले को भी दिखाया गया था। देश के कोने-कोने में यात्रा करने वाली टीम द्वारा सिर्फ भरोसेमंद तथ्यों पर ही जोर दिया जाता है। इसमें उन कार्यकताओं के साथ सहयोग किया जाता है जिनका विश्वास समाज की भलाई में निहित है। श्री कैलाश सत्यार्थी ने नोबल का शांति पुरस्कार जीतकर भारत का सम्मान बढ़ाया है, वे ऐसे सहयोग के आदर्श उदाहरण हैं। सीरीज के विषय में शो के होस्ट अनूप सोनी ने कहा, ‘‘हमें श्री कैलाश सत्यार्थी जी के साथ जुड़कर प्रसन्नता हो रही है जिन्होंने नोबल पुरस्कार जीतकर हमारे देश का गौरव बढ़ाया। कैलाश जी की पहल ‘बचपन बचाओ आंदोलन‘ 1⁄4बीबीए1⁄2 बच्चों के बचाव के लिए बुनियादी आंदोलन का प्रतीक है। इसके द्वारा तस्करी, दासता और बाल श्रम के 80,000 से अधिक पीडि़त बच्चों को बचाया गया है।

हमारी विशेष सीरीज के माध्यम से हम देश के लोगों को मानव तस्करी के प्रति जागरुक करने के इच्छुक हैं। मानव तस्करी एक आम बात बन गई है, लेकिन इनमें से अधिकतर मामले पुलिस की फाइलों में दर्ज तक नहीं हैं। ‘‘भारतीय बच्चों के अधिकारों के लिए काम कर रहे सामाजिक कार्यकर्ता कैलाश सत्यार्थी ने कहा, ‘‘मैंने सदैव भारत में बाल शोषण और तस्करी जैसी सामाजिक बुराईयों के खिलाफ प्रचार किया है। क्राइम पेट्रोल ने मुझे इस नेक कार्य को आगे बढ़ाने के लिए उपयुक्त मंच प्रदान किया है। देश के लोग अपने आसपास हो रही आपराधिक घाटनाओं को कम करने में सजगता से हिस्सा लें, यही समय की जरूरत है। क्राइम पेट्रोल के साथ मुझे भरोसा है कि हम अपराध से लड़ने में लोगों को योगदान करने के लिए प्रोत्साहित कर सकते हैं।‘‘


Like it? Share with your friends!

Mayapuri

अपने दोस्तों के साथ शेयर कीजिये