क्रिटिक्स चॉइस अवार्ड्स के दौरान भावुक हुए पंकज त्रिपाठी – मनोज भैया की वजह से हूँ इस इंडस्ट्री में 

1 min


Pankaj tripathi in Criminal justice behind the closed doors

अपनी बेहतरीन अदाकारी के लिए पहचाने जाने वाले अभिनेता पंकज त्रिपाठी ‘क्रिटिक्स च्वाइस अवार्ड्स’ के विजेताओं के साथ हुए वर्चुअल पैनल कॉन्फ्रेंस के दौरान भावुक हो गए। फिल्म ‘गुंजन सक्सेना : द कारगिल गर्ल’ के लिए बेस्ट सपोर्टिंग एक्टर का पुरस्कार पाने वाले पंकज अपने धन्यवाद भाषण के दौरान इस इंडस्ट्री में आने की वजह याद करके भावुक हो गए।

पंकज ने कहा, “बिहार में, गंडक नामक एक नदी है जो नेपाल से बहती है उसे नारायणी भी कहते हैं। नदी के उत्तर में, चंपारण नामक एक जिला है और दक्षिण की ओर, गोपालगंज नामक एक जिला है। 1988-99 में, मैंने एक लेख पढ़ा कि चंपारण के  एक लड़के ने  बतौर अभिनेता सिनेमा में एंट्री की। यह खबर उस नदी के दक्षिण में स्थित एक छोटे से डिस्ट्रिक में एक लड़के ने पढ़ी, वो लड़का मैं हूँ और वह अभिनेता कोई और नहीं  मनोज भैया (मनोज बाजपेयी) थे। मैंने सोचा कि अगर नदी के उस  किनारे का कोई व्यक्ति अभिनेता बन सकता है तो मैं क्यों नहीं? वह न्यूज़ मेरे दिल में बस गयी। आज मेरे लिए दो सम्मान की बात है एक इस अवार्ड को जीतना और दूसरी मनोज भैया के साथ बैठना।”

मनोरंजन की दुनिया के सबसे लोकप्रिय पुरस्कार समारोहों में से एक ‘क्रिटिक्स चॉइस अवार्ड्स’ ने सभी भारतीय भाषाओं के फीचर फिल्मों, वेब सीरीज और शॉर्ट फिल्मों की प्रतिभाओं, कलाकारों और तकनीशियनों को सम्मानित किया। प्रतिष्ठित पुरस्कार समारोह के विजेताओं और प्रत्याशियों ने सर्वसम्मति से फिल्म क्रिटिक्स गिल्ड, मोशन कंटेंट ग्रुप और विस्टास मीडिया कैपिटल की इस सेलिब्रेशन के लिए एक साथ आने के लिए सराहना की।


Like it? Share with your friends!

Mayapuri

अपने दोस्तों के साथ शेयर कीजिये