साइरस साहूकार

1 min


साइरस साहूकार जो बचपन से ही रहे हर चीज में आगे

एमटीवी इंडिया VJ और बॉलीवुड अभिनेता साइरस साहूकार का जन्म 6 अगस्त 1980 को एम ए ओ डब्ल्यू, इंदौर के सैन्य मुख्यालय में हुआ था। उन्हें सेमी गिरेबाल और ऐसे ही अन्य कॉमेडी शोज में अपने मज़ाकिया और मज़ेदार एकरिंग के लिए जाना जाता हैं। पिता कर्नल बेहराम साहूकार एक पारसी हैं जबकि उनकी लेखिका मां, निमेरन साहूकार पंजाबी हैं व इनकी एक बड़ी बहन प्रीति फिलिप भी हैं जो खुद एक एक्ट्रेस हैं। इनकी परवरिश दिल्ली में हुई और वही इन्होंने सेंट कोलंबस से अपनी स्कूलिंग कम्पलीट की।

साइरस ने अपने हुनर के रंग अपने स्कूल टाइम से ही दिखाने शुरू कर दिए थे उन्होंने तभी से ही थिएटर करना शुरू किया और 6 साल की उम्र से स्कूल के विभिन्न नाटकों में अभिनय किया। व यही नहीं साइरस अपने स्कूल के बैंड में गाते भी थे और 14 साल की उम्र तक तो साइरस किरण बेदी के ‘साक्षरता मिशन कार्यक्रम’ का हिस्सा बन चुके थे इसी दौरान, उन्होंने एक नाटक में अभिनय किया जो बैरी जॉन के रेड नोजेज़ क्लब का हिस्सा था। यह नाटक बैरी जॉन द्वारा निर्देशित किया गया था और इसका नाम था ‘हारून एंड द सी ऑफ़ स्टोरीज़’ और यह सलमान रुश्दी के नॉवल पर आधारित था।

उन्होंने अपनी हर उम्र के दौर में कुछ बड़ा किया जैसे 15 साल की उम्र में, उन्होंने ‘थैंक यू फॉर द म्यूज़िक’ नामक एक संगीत शो प्रदर्शित किया, जो स्टीफन मराज़ी द्वारा निर्देशित था, यह एक गायक के रूप में उनका पहला पेशेवर प्रयास था। उसके बाद वे रोशन अब्बास के साथ जुड़े और रेडिओ वॉयस ओवर और जिंगल करने लगे। उनका पहला जिंगल हार्पिक के लिए था। 16 साल की उम्र तक, वे दिल्ली में एक रेडिओ शो ‘रेडिओ रैम्पेज’ की मेजबानी करने लगे थे। लगभग उसी समय उन्होंने एंड्रयू लॉयड वेबर की ‘स्टारलाईट एक्सप्रेस’ और ‘ग्रैफिटी पोस्टकार्डस फ्रॉम स्कूल,’ के निर्माण पर कार्य किया और अभिनय किया, दोनों ही नाटकों का निर्देशन रोशन अब्बास ने किया था। 18 साल की उम्र में उन्होंने एमटीवी इंडिया के ‘एमटीवी वीजे हंट’ नामक राष्ट्रव्यापी खोज में ऑडिशन दिया। उन्होंने मिनी माथुर और आसिफ शेख के साथ इस वीजे हंट को जीता।

इसके बाद इन्होंने टीवी की दुनिया में तहलका मचाना शुरू कर दिया 1999 के अंत में एमटीवी में शामिल हुए और दिल्ली से मुंबई स्थानांतरित हो गए और वे एमटीवी में काम करने वाले सबसे कम उम्र के लोगों में से एक थे। 2000 में, उन्होंने एक शो की अगुवाई की जिसका नाम था ‘एमटीवी फुल्ली फालतू.’ यह आगे चल कर सबसे पहला ऐसा शो बना जिसमें फिल्मों, विज्ञापनों से लेकर टीवी शो तक सबकी मजाकिया नकल की गयी, जिनमें प्रमुख थे – शोले, कहो ना प्यार है और इंडियाना जोन्स श्रृंखला. लगभग उसी समय उन्होंने नवजोत सिंह सिद्धू पर एक मजाकिया नकल शुरू की जिसका नाम था 2000 में नवजोत सिंह सिद्धू की मजाकिया नकल पिद्धू दी ग्रेट फिर एमटीवी फुल्ली फालतू फिल्म उत्सव – बेचारे जमीं पर किक ऐस मोर्निंग्स जिसमें उन्होंने 25 भूमिकाएं निभाई। पहली बार MTV ने एक मोक्युमेंट्री बनाई जिसमें उन्होंने – बॉबी चड्ढा और पारोमिता- दी न्यूरोटिक की भूमिका निभाई। इसके अलावा इन्होंने नेट भू के स्पेल्लिंग बी की मेज़बानी की।

इन्होंने कई फिल्मो में भी काम किया पर ज्यादा नहीं चल पाए वे फिल्मे थी -ओम जय जगदीश में जहाँ इन्होंने स्वयम का किरदार निभाया, रंग दे बसंती – ऐज़ आर जे राहुल, दिल्ली 6 – में सुरेश – फोटोग्राफर, आएशा – में रणधीर, लव ब्रेकअप्स ज़िन्दगी में गोविन्द, बॉम्बे टॉकीज, खूबसूरत गंभीर आदि


Like it? Share with your friends!

Mayapuri

अपने दोस्तों के साथ शेयर कीजिये