मूवी रिव्यू: बेस्वाद रही ‘डार्क चॉकलेट’

1 min


रेटिंग*

बॉलीवुड में कुछ निर्माता किसी भी दिलचस्प घटना के इंताजार में ही रहते हैं। पिछले दिनों घटे शीना वौरा मर्डर केस से पूरा देश वाकिफ है। लिहाजा बॉलीवुड में भी इस केस पर कई लोग फिल्में बनाने में लग गये। उन्हीं में निर्देशक अग्निदेव चटर्जी की फिल्म ‘डार्क चॉकलेट’  इसी सप्ताह रिलीज हुई है। फिल्म से एक अरसे बाद महिमा चौधरी की वापसी हुई है।

कहानी

शीना मर्डर केस से प्रेरित इस फिल्म में उन्हीं जाने पहचाने तथ्यों को पेश किया है जो हम पहले से पढ़ते और सुनते आ रहे हैं। महिमा चौधरी यानि इशानी बनर्जी सही नाम इंद्राणी मुखर्जी के साथ उसके सोतेले बाप ने रेप किया था। उसके बाद वो लगातार कई मर्द बदलते हुये पीटर बनर्जी जैसे धनाढ्य शख्स से शादी करने में कामयाब हो जाती है। लेकिन आगे उसकी पहले पति की बेटी रीना सही नाम शीना वौरा उसकी जिन्दगी में जहर घोलने के लिये उसके मौजूदा पति पीटर के बेटे से प्यार करने लगती है। इस रिश्ते से नाराज इशानी अपने पहले पति और अपने ड्राइवर के साथ मिलकर अपनी बेटी रीना का मुंबई से बाहर घने जंगलों में ले जाकर मर्डर करवा देती है। करीब तीन साल बाद अचानक ये केस उजागर होता हैं उसके बाद ड्राइवर के बयान पर इशानी, उसके पहले पति और फिर मौजूदा पति पीटर की गिरफ्तारी होती है। फिलहाल केस कोर्ट में है।

डायरेक्शन, संगीत

सबसे पहले तो ऐसे केस पर फिल्म बनाना ही बेवकूफी है जो अभी तक किसी फैसले तक नहीं पहुंचा है। दूसरे केस से संबधित घटनाओं को कुछ इस कन्फयूजन भरे अंदाज में दिखाया गया हैं कि कुछ भी समझ नहीं आता। कुछ चीजें हैं जो पहली बार पता चलती हैं लेकिन उन पर यकीन नही हो पाता जैसे रीना का पीटर के साथ हम बिस्तर होना। इसके अलावा फिल्म में इशानी की लाइफ भी ऐसी दिखाई गई है जिसमें वो अलग अलग मर्दो का शिकार बनती रहती है,जिसमें उसका सौतेला बाप भी है। बाद में दिखाया गया है उसके पहले दो बच्चे रीना और उसका भाई उसके सोतेले बाप के ही थे। लिहाजा वो कन्फयूज थी कि वो रीना को अपनी बेटी कहे या बहन। सबसे बड़ी बात कि असिलयत में रीना का मर्डर इसलिये हुआ था क्योंकि वो पीटर मुखर्जी यानि इशानी के पति के बेटे से प्यार करती थी और जल्द ही दोनो शादी करने वाले थे। इसके अलावा फिल्म में शीना वौरा के किरदार को केरेक्टरलैस दिखाने की कोशिश की गई है जो किसी मरे हुये शख्स के साथ अन्याय है ।

अभिनय

महिमा चौधरी इंद्राणी मुखर्जी के किरदार में एक हद तक ठीक लगी क्योंकि रोल उनकी उम्र से मेल खाता हुआ है। इसके अलावा पीटर मुखर्जी के लगभग इमशक्ल एक्टर ने उनकी भूमिका निभाई है तथा पहले इंद्राणी की जवानी और फिर उसकी बेटी शीना के किरदार में रिया सेन ने खुलकर एक्सपोज किया है। शुरूआत में क्राइम ब्रांच के मेल और फिमेल किरदारो में फिमेल द्धारा ऐसी गालियां दिलवाई हैं जो सुनने में अखरती हैं।

क्यों देखें

इस डार्क और क्न्फयूज फिल्म यानि बेस्वाद चॉकलेट से दर्शक दूर ही रहना पसंद करेगें ।


Like it? Share with your friends!

Mayapuri

अपने दोस्तों के साथ शेयर कीजिये