Death anniversary: अच्छाई और सच्चाई ने उनकी तो जान ही ले ली, विनोद मेहरा के साथ, उस रात मेरी आखिरी बात- अली पीटर जॉन

1 min


अच्छे लोगों के साथ हमेशा अच्छा नहीं होता। ईमानदारी सबसे अच्छी नीति नहीं है। अधिक से अधिक भौतिकवादी होती जा रही है, इस दुनिया में इन गुणों और मूल्यों का पालन करना बहुत मुश्किल है। यहाँ एकमात्र पैसा ही मायने रखता है। मैं निराशावादी नहीं हूँ, मैं केवल जीवन के बारे में सच्चाई को समझने और बताने की कोशिश कर रहा हूँ, खासकर हिंदी फिल्मों की इस अच्छी, बुरी, पागल और उदास दुनिया में।

विनोद मेहरा (कितने ही लोग उन्हें याद करते हैं?) 70 और 80 के दशक के सबसे लोकप्रिय और सफल अभिनेताओं में से एक थे। वह अपनी अच्छाई और ईमानदारी के लिए जाने जाते थे! यह उनके जीवन और करियर के बारे में एक सच्चाई थी जिसे सर्वसम्मति से स्वीकार किया गया था। लोगों ने कहा कि वह अपनी प्रतिभा के कारण नहीं, बल्कि एक सज्जन व्यक्ति होने के कारण इतना सफल नहीं हुए। 80 के दशक में वह जीतेंद्र, शत्रुघ्न सिन्हा और यहाँ तक कि विनोद खन्ना जैसे सितारों का मुकाबला कर रहे थे! वह एक दिन में दो शिफ्ट में शूटिंग करते थे। वह हैदराबाद से बॉम्बे की यात्रा करते रहते थे। बॉम्बे में उनका एक बंगला था जिसे उन्होंने प्रसिद्ध निर्देशक ऋषिकेश मुखर्जी से खरीदा था।

एक फिल्म का निर्देशन और निर्माण उनका सपना था। लेकिन एक अभिनेता के रूप में अपनी व्यस्तताओं के कारण उन्हें इंतजार करना पड़ा। आखिरकार उन्हें वी.एम.प्रोडक्शंस के अपने बैनर तले अपनी खुद की फिल्म, गुरुदेव लॉन्च करने का समय मिल गया। उन्होंने ऋषि कपूर, अनिल कपूर, श्रीदेवी जैसे बड़े सितारों को साइन किया था। उन्होंने लेखक के के सिंह के साथ अपनी पटकथा पर काम करने के लिए एक लंबा समय बिताया, जो राज कपूर की ‘राम तेरी गंगा मैली‘ लिखने के बाद बहुत लोकप्रिय हो गए थे। राम तेरी गंगा मैली की सफलता के बाद लेखक को शराब की लत लग गई थी! इसी वजह से वे कभी-कभी जुहू के एक नेचर क्योर अस्पताल में भर्ती हो जाते थे और वहीं निर्माताओं और निर्देशकों से उनकी पटकथा पर चर्चा करने के लिए उनसे मिलते थे। जब तक उनका इलाज चला जाने-माने फिल्म निर्माता फिरोज खान, संजय खान और विनोद मेहरा नियमित रूप से अस्पताल में उनसे मिलने आते थे। और आखिरकार विनोद मेहरा की स्क्रिप्ट तैयार हो गई!

तीनों सितारों ने उनसे वादा किया था कि वे उन्हें पूरा सहयोग देंगे क्योंकि वह उनमें से एक हैं। शूटिंग बॉम्बे में शुरू हुई और कुछ महीनों तक यह सुचारू रूप से चल रही थी और विनोद अपनी फिल्म की प्रगति से खुश थे।

लेकिन, समस्याएँ उन पर ‘हमला‘ करने की प्रतीक्षा कर रही थीं, जब उनकी यूनिट एक लंबे शूटिंग शेड्यूल को पूरा करने के लिए यूरोप में उतरी, जिसके दौरान सभी प्रमुख दृश्यों और गीतों को फिल्माया जाना था और विनोद की पहली कड़वी परीक्षा हुई। वहाँ देखा गया कि सितारों ने अपना रंग कैसे बदला! तीनों सितारे जो कहने को केवल उनकी फिल्म की शूटिंग कर रहे थे, जब डेट्स की बात आई तो उन्होंने उन्हें परेशान करना शुरू कर दिया। फिल्म में देरी हो रही थी, लेकिन विनोद ने मुस्कुराते हुए शूटिंग जारी रखी। उसकी परेशानी बढ़ती जा रही थी और वह उस काम को पूरा नहीं कर पाए जिसकी उन्होनें योजना बनाई थी! वे उन तीन सितारों से वह कैसे परेशान हो रहे हैं, इसकी कहानियाँ बॉम्बे तक पहुँच गईं और उनके दोस्तों और शुभचिंतकों को विनोद के लिए काफी बुरा लगा.

उन्होंने मुझे अपने घर पर उस ‘महान काम‘ के बारे में बात करने के लिए आमंत्रित किया जिसे वे पूरा कर चुके थे। जब वह मेरे साथ व्हिस्की के बड़े ग्लास पर अपनी बात कह रहे थे तो दिसम्बर के महीने में भी मैं उन्हें पसीने में तरबतर देख पा रहा था। जब बॉम्बे में बहुत ठंड थी और उसमें भी रात का समय था। वह मुझे कहानियाँ सुनाते रहे कि विदेश में उसने जो काम पूरा किया था, वह कैसा था और मैं उसे केवल इसलिए सुनता रहा क्योंकि वह मेरे एक बहुत अच्छे दोस्त थे और एक सच्चे आदमी के रूप में प्रख्यात थे। लेकिन मेरे भीतर कहीं न कहीं, मुझे पता था कि वह मुझे सच नहीं बता रहे थे जिससे मैं आहत हुआ और मैं आश्चर्य में था क्योंकि मैंने पहली बार इस बारे में सुना था कि कैसे उनके स्टार-दोस्तों के अविश्वसनीय व्यवहार के कारण उनकी फिल्म में देरी हुई। आधी रात को हमारी मुलाकात खत्म हो गई और उसने अपने ड्राइवर से मुझे घर छोड़ने के लिए कहा, लेकिन मुझसे दोबारा मिलने का अनुरोध करने से पहले नहीं, जब वह मुझे पूरी कहानी बताएँगे कि वास्तव में यूरोप में हुआ क्या था।

लेकिन सुबह 6 बजे मुझे उनके बंगले से फोन आया और फोन करने वाला रो रहा था जब उन्होनें मुझे बताया कि विनोद को उसी रात को दिल का दौरा पड़ने से निधन हो गया। उनका आखिरी शब्द ‘सॉरी‘ था, जो उन्होंने अपनी पत्नी किरण से कहा, जिनसे उन्होंने अपनी फिल्म की शूटिंग शुरू करने से ठीक पहले शादी की थी।

उनके अंतिम संस्कार में भारी भीड़ थी और लोग अनिल, ऋषि और श्रीदेवी को अजीब तरह से गुस्से से देख रहे थे!

उनके अंतिम संस्कार में इंडस्ट्री के लगभग हर स्टार शामिल हुए। कई अन्य लोग भी थे जिन्होंने विनोद को श्रद्धांजलि दी और उन्हें सबसे अच्छी श्रद्धांजलि अमिताभ बच्चन ने दी, जिन्होंने उन्हें ‘एक बहुत अच्छा आदमी, बहुत जल्द चला गया‘ कहा। यह बहुत दुखदायी था कि ऐसे समय पर भी मीडिया और इंडस्ट्री के लोग केवल यह देखने में रुचि रखते थे कि रेखा विनोद को विदाई देने आएगी या नहीं। विनोद के फिल्म का क्या हुआ, यह पता नहीं चल पाया।

क्या विनोद जन्म से ही बदकिस्मत थे? उनके जीवन की घटनाएँ बताती हैं कि वह जीवन में इतने भाग्यशाली नहीं थे। उनका जन्म एक गंभीर हृदय रोग के साथ हुआ था, लेकिन फिर भी उन्होंने जीवनभर बहुत मेहनत की और उनके बीमार होने का एकमात्र लक्षण तब देखा जा सकता था जब वे सेट पर या वातानुकूलित कमरे में बैठे हुए भी पसीना बहाते थे। उनके जीवन में आईं महिलाओं को लेकर भी विनोद बहुत बदकिस्मत थे। उसने मीना से शादी की थी, जिनको घर से प्यार था और जिनका इंडस्ट्री से कोई लेना-देना नहीं था। सन एन सैंड होटल में उनकी शादी के रिसेप्शन में उस तरह के मेहमान थे जो किसी भी अन्य रिसेप्शन में देखे जा सकते थे। हालांकि यह शादी ज्यादा समय तक नहीं चल पाई और तलाक में समाप्त हुई। उनका अभिनेत्री बिंदिया गोस्वामी के साथ भी एक संक्षिप्त संबंध था। लेकिन उनका सबसे चर्चित अफेयर रेखा के साथ था, जिसके बारे में लोग अभी भी मानते हैं कि उन्होंने विनोद से शादी की थी। पर विनोद किरण के साथ एक खुशनुमा और अच्छी शादीशुदा जिंदगी जी रहे थे, जो मूल रूप से पूर्वी अफ्रीका की रहने वाली थी और उनकी एक बेटी और एक बेटा था। बेटी सोनिया ने सबसे बड़ी हिट फिल्मों में से एक (विक्टोरिया 203‘) के रीमेक में एक अभिनेत्री के रूप में अपनी शुरुआत की थी, लेकिन फिल्म फ्लॉप हो गई और उसके बाद सोनिया बहुत लंबे समय तक फिल्मों में नहीं देखी गईं। उनके बेटे के बारे में भी कहा जाता है कि वे फिल्में बनाते हैं, लेकिन उनके बारे में ज्यादा कुछ सुना नहीं।

विनोद का बंगला हवा में गायब हो गया है और उसके बारे में जो कुछ बचा है वह यादें हैं। और यह यादें भी बहुत कम लोगों के साथ रहती हैं जो वास्तव में विनोद की प्रशंसा, प्यार और सम्मान करते हैं।

जब भी मैं मेरे दोस्त विनोद मेहरा को याद करता हूँ, मेरा अच्छाई और सच्चाई पर से विश्वास उठ जाता है। क्या विनोद मेहरा जैसे लोगों को इस इंडस्ट्री में कदम रखना चाहिए, जहाँ पर इंसान इतना खुदगर्ज बन गया है या बन जाता है? इस सवाल का जवाब मेरे पास नहीं है। इस सवाल का जवाब वे लोग दे सकते हैं जो अपने दिलों में झाँक सकते हैं। क्या किसी को हिम्मत है अपने गिरेबान में झाँकने की और सच बोलने की, या वे अपने सच का सामना करने के लिए तैयार हैं? या फिर यह इंडस्ट्री ऐसे ही बदनाम होती रहेगी और शरीफ लोग जैसे कि विनोद मेहरा जीते भी रहेंगे और मरते भी रहेंगे।

SHARE

Mayapuri